कोरोना संकट के चलते झारखंड हाई कोर्ट में 17 जुलाई तक अति आवश्यक मामलों की होगी सुनवाई

रांची। झारखंड राज्य में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए झारखंड हाई कोर्ट में 17 जुलाई तक सिर्फ अति आवश्यक मामलों की सुनवाई की जाएगी। इससे पहले हाई कोर्ट में 13 व 14 जुलाई तक न्यायिक और गैर न्यायिक कार्य स्थगित कर दिया गया था।

इस दौरान हाई कोर्ट के पूरे परिसर को सैनिटाइज किया जा रहा है। इस संबंध में मंगलवार देर शाम रजिस्ट्रार जनरल अंबुजनाथ की ओर से एक नोटिस जारी की गई है जिसमें 17 जुलाई तक सिर्फ अति आवश्यक मामलों की सुनवाई होने की बात कही गई है।

हाई कोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल द्वारा जारी नोटिस

नोटिस में कहा गया है कि 17 जुलाई तक सिर्फ जमानत व अग्रिम जमानत याचिका या अति आवश्यक मामलों की सुनवाई होगी। ऐसे मामलों की सुनवाई से पहले मुख्य न्यायाधीश से सहमति लेनी होगी। उसके बाद ही मामलों को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया जाएगा।

हालांकि इस दौरान ई-फाइलिंग जारी रहेगी। ऐसे में अब बुधवार और गुरुवार को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध मामले जमानत और अग्रिम जमानत याचिका को छोड़कर स्थगित कर दिए गए हैं। गौरतलब है कि पिछले दिनों हाई कोर्ट में कोरोना के कई संदिग्ध मिले थे, जिसके कारण हाई कोर्ट ने नई व्यवस्था लागू की है।

Most Popular

दल-बदल और बाबूलाल मरांडी को विधायक दल का नेता बनाने के मामले में सुनवाई 19 जनवरी को

-स्पीकर ने शपथपत्र दाखिल कर कहा स्वत: संज्ञान वाले मामले में कोई कार्रवाई नहीं करेंगे-विधायक दल के नेता के मान्यता का मामला...

दलबदल मामला: झारखंड हाई कोर्ट ने स्पीकर से मांगा जवाब, कल होगी सुनवाई

दल-बदल से जुड़े बाबूलाल मरांडी की याचिका पर झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत...

दलबदल मामला: सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड स्पीकर की याचिका खारिज की, कहा हाईकोर्ट वापस जाए

दलबदल मामले में झारखंड विधानसभा अध्यक्ष की ओर से दाखिल एसएलपी पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। सुप्रीम कोर्ट के चीफ...

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, सीएम बेअंत सिंह के हत्यारे राजोआना की मौत की सजा को बदलने पर 26 जनवरी तक विचार करे केंद्र सरकार

नयी दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को केंद्र से कहा कि वह पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या मामले में...