यौन शोषण मामलाः पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी की अग्रिम जमानत पर सुनवाई दूसरी कोर्ट में होगी

Sexual Abuse Case आदिवासी युवती के साथ दुष्कर्म एवं यौन शोषण के आरोप से घिरे पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी के राजनीतिक सलाहकार सुनील कुमार तिवारी की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं।

238
civil court of ranchi

Ranchi: Sexual Abuse Case आदिवासी युवती के साथ दुष्कर्म एवं यौन शोषण के आरोप से घिरे पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी के राजनीतिक सलाहकार सुनील कुमार तिवारी की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। इस मामले में अदालत से गिरफ्तारी वारंट जारी होने के बाद आरोपित सुनील तिवारी ने अग्रिम जमानत याचिका दाखिल की है।

न्यायायुक्त की अदालत में उनकी ओर से याचिका दाखिल अग्रिम जमानत गुहार लगाई गई है। सुनील तिवारी की याचिका पर 27 अगस्त को सुनवाई हुई। कोर्ट ने इसको दूसरी कोर्ट में सुनवाई के लिए भेज दिया। बता दें कि उनके घर में काम करने वाली एक युवती ने दुष्कर्म के साथ अन्य आरोप लगाते हुए अरगोड़ा थाना में नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई है।

इसे भी पढ़ेंः पोक्सो एक्ट में डीएसपी अजय केरकेट्टा को हाईकोर्ट से अंतरिम राहत

इस मामले के अनुसंधान पदाधिकारी ने मंगलवार को उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट अदालत से प्राप्त किया था। इनसे ही जुड़े एक मामले में चैता बेदिया की ओर से हाई कोर्ट में याचिका दाखिल कर अपने परिजनों को कोर्ट के समक्ष पेश करने की मांग की गई है। कहा है कि उनके परिजनों को पुलिस उठा ले गई है।

नक्सली कुंदन पाहन की जमानत पर 20 सिंतबर को सुनवाई
एनआइए के विशेष न्यायाधीश (प्रभारी) एमपी मिश्रा की अदालत में सरेंडर कर चुका कुख्यात नक्सली कुंदन पाहन की जमानत याचिका पर आंशिक सुनवाई हुई। कुंदन पाहन के अधिवक्ता ने जमानत देने का अनुरोध किया। लेकिन अदालत ने इस मामले में अगली सुनवाई के लिए 20 सितंबर की तिथि निर्धारित की है।

कुंदन पाहन की ओर से पूर्व मंत्री सह तमाड़ के तत्कालीन विधायक रमेश सिंह मुंडा हत्याकांड से जुड़े स्पेशल एनआइए केस में याचिका दाखिल की गई है। बता दें कि दस जून को जमानत देने की गुहार लगाते कुंदन पाहन ने याचिका दाखिल की है।