छह माह बाद सेवा समाप्त करने को चुनौती देने वाली याचिका खारिज

रांची। झारखंड हाईकोर्ट में नियुक्ति के छह माह बाद सिपाही की सेवा समाप्त करने के आदेश को चुनाैती देने वाली याचिका पर सुनवाई हुई। हाईकोर्ट के जस्टिस एसके द्विवेदी की अदालत ने सुनवाई के बाद प्रार्थी की याचिका खारिज कर दी। इसको लेकर प्रार्थी पुष्पांजलि कुमारी हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर सरकार के आदेश को चुनौती दी थी। अदालत ने अपने आदेश में कहा कि जेएसएससी को अपनी गलती सुधारने का अधिकार है। सुनवाई के दौरान प्रार्थी की ओर से अदालत को बताया गया कि उसकी नियुक्ति हो गई थी, लेकिन बिना शो कॉज पूछे और विभागीय कार्यवाही किए ही उसकी सेवा समाप्त कर दी गई।

राज्य सरकार की ओर से बताया गया कि प्रोबेशन के दौरान नियुक्ति से हटाने के पूर्व विभागीय कार्रवाई चलाने की जरूरत नहीं थी। वहीं जेएसएससी के अधिवक्ता संजय पिपरवाल ने बताया कि प्रार्थी ने इस नियुक्ति के लिए बीसी-वन में आवेदन दिया, लेकिन सत्यापन के समय प्रार्थी ने बीसी-टू का प्रमाण पत्र दिया। चूक के चलते जेएसएससी ने इसकी नियुक्ति के लिए संबंधित जिले को अनुशंसा भेज दी। इसके बाद प्रार्थी की नियुक्ति हो गई। बाद में गलती का पता चलने पर अनुशंसा वापस ले ली गयी।

इसे भी पढ़ेंः फर्जी दस्तावेज के आधार पर लोन लेने वाले आरोपियों पर चलेगा मुकदमा

Most Popular

आक्सीजन व दवाओं के हाहाकार पर सुप्रीम कोर्ट की चिंता, कहा- इमरजेंसी जैसे हालात

New Delhi: कोरोना संक्रमण के बीच लोगों को ऑक्सीजन और दवाइयों नहीं मिलने पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्ती दिखाई है। सुप्रीम...

दिल्ली हाई कोर्ट ने गोपनीयता नीति की जांच के खिलाफ दाखिल व्हाट्सऐप व फेसबुक की याचिका खारिज की

New Delhi: दिल्ली हाई कोर्ट ने व्हाट्स ऐप की नई गोपनीयता नीति की जांच करने के भारत के प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) के...

स्वास्थ्य सचिव कोरोना संक्रमित, जवाब दाखिल करने के लिए हाईकोर्ट से मांगा समय

Ranchi: झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत में गुरुवार को कोरोना संक्रमण से निपटने...

Corona Good News: झालसा ने हर जिले में बनाया वार रूम, फ्री में मिलेंगी दवाएं और चिकित्सकीय सलाह

Ranchi: कार्यकारी अध्यक्ष जस्टिस अपरेश कुमार सिंह के निर्देश पर झालसा ने कोरोना संक्रमण के दूसरे चरण में इलाज को लेकर परेशान...