अनियमितता मामले में प्राथमिकी दर्ज करने की अनुमित नहीं देने पर सरकार से मांगा जवाब

रांची। झारखंड हाईकोर्ट वित्तीय अनियमितता एक मामले में अधिकारियों पर प्राथमिकी दर्ज करने के लिए अनुमति नहीं दिए जाने पर राज्य सरकार से जवाब मांगा है। चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की अदालत ने पूछा है कि जब एसीबी प्राथमिकी की अनुमति मांगी है, तो अनुमति देने में देरी क्यों हो रही है। अदालत में सोमवार को वर्ष 2009 में पाकुड़ और देवघर जिले में सड़क निर्माण में हुई वित्तीय अनियमितता के मामले में दाखिल एलपीए याचिका पर सुनवाई हुई।

इसे भी पढ़ेंः 34वें राष्ट्रीय खेल घोटाले के आरोपी आरके आनंद की राहत बरकरार

एसीबी के अधिवक्ता टीएन वर्मा ने अदालत को बताया कि इस मामले की शिकायत के बाद एसीबी ने प्रारंभिक जांच (पीई) दर्ज कर जांच की। अनियमितता की पुष्टि होने पर
एसीबी ने ग्रामीण विकास विभाग को पत्र लिखकर प्राथमिकी दर्ज करने की अनुमति देने का अनुरोध किया लेकिन विभाग की ओर से अनुमित नहीं मिलने के कारण अभी तक भी इस मामले में केस दर्ज नहीं किया जा सका है। पूर्व में कोर्ट ने इस मामले में प्राथमिकी दर्ज नहीं होने पर एसीबी से जवाब मांगा था।

इसके बाद अदालत ने महाधिवक्ता से पूछा कि इस मामले में प्राथमिकी दर्ज करने में देरी क्यों हुई है। अदालत ने सरकार को इस पर विस्तृत जवाब अदालत में पेश करने को कहा है। गौरतलब है कि सड़क निर्माण में अनियमितता के आरोपी तत्कालीन कार्यपालक अभियंता पारस कुमार और कनीय अभियंता अनिल कुमार ने एसीबी के जांच को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। हाईकोर्ट की एकल पीठ ने वर्ष 2017 में उनकी याचिका को खारिज कर दी। एकल पीठ के आदेश को इन्होंने खंडपीठ में चुनौती दी है। मामले में अगली सुनवाई 19 अक्टूबर को होगी।

Most Popular

झारखंड हाई कोर्ट से लालू यादव को मिली जमानत, जल्द आएंगे बाहर

Ranchi: Lalu Yadav bail चारा घोटाला मामले में सजा काट रहे लालू यादव को झारखंड हाई कोर्ट से बड़ी राहत मिली है।...

सोना तस्करीः केरल हाईकोर्ट ने तस्करी मामले में ईडी अधिकारियों के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी खारिज की

Kerala: केरल उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को राज्य सरकार को झटका देते हुए राज्य पुलिस द्वारा प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों के खिलाफ...

कोरोना की चपेट में कई सरकारी अधिवक्ता, महाधिवक्ता ने चीफ जस्टिस को पत्र लिखकर सख्त आदेश न देने की लगाई गुहार

Ranchi: झारखंड में कोरोना संक्रमण बहुत तेजी से बढ़ रहा है। इससे झारखंड हाई कोर्ट और वहां पक्ष रखने वाले अधिवक्ता भी...

कोरोना संक्रमण पर बार काउंसिल का आदेश, फिजिकल कोर्ट की सुनवाई में शामिल न हों वकील

Ranchi: Jharkhand State bar Council झारखंड स्टेट बार काउंसिल ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए राज्य के सभी जिलों के...