लालू प्रसाद को बंगला मिलने के खिलाफ जनहित याचिका दाखिल, कहा- राज्य सरकार कर रही लालू की मदद

रांची। चारा घोटाले मामले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद को रिम्स निदेशक बंगले में शिफ्ट किए जाने के खिलाफ हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की गई है। याचिका में कहा गया है कि लालू प्रसाद चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता हैं और एक कैदी को बंगला कैसे दिया गया है। यह पूरी तरह से जेल मैन्युअल का उल्लंघन है। इसको लेकर नालंदा के रहने वाले मनीष कुमार ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की है।

इस केस की पैरवी करने वाले अधिवक्ता मनोज टंडन ने बताया कि जब लालू प्रसाद को चारा घोटाला मामले में गिरफ्तार किया गया था, तो उन्हें बीएमपी गेस्ट हाउस में रखा गया था। इस दौरान जब यह मामला सुप्रीम कोर्ट के जानकारी में लाया गया, तो अदालत ने तत्काल लालू प्रसाद को जेल में भेजने का निर्देश दिया। अब तो लालू प्रसाद चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता है, ऐसे में उन्हें रिम्स का बंगला नहीं दिया जा सकता है। इसको भी याचिका में शामिल किया गया है।

याचिका में यह भी आरोप लगाया गया है कि हेमंत सरकार में राजद भी साझीदार है, इसलिए लालू प्रसाद को इस तरह की सुविधा दी जा रही है। जबकि बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा में बहुत सुविधाएं है, इसलिए लालू प्रसाद को तत्काल बंगले से निकाल कर जेल भेजा जाए। इस याचिका में मीडिया में आई कई रिपोर्ट का भी हवाला दिया गया है। कहा है कि लालू प्रसाद इसी बंगले से राजनीतिक गतिविधि चला रहे हैं। बिहार चुनाव के चलते सरगर्मी और बढ़ गई है। बिहार के नेताओं का लालू से मिलने के लिए तांता लगा रहता है। इस याचिका में झारखंड सरकार के मुख्य सचिव, केंद्र सरकार और सीबीआइ को प्रतिवादी बनाया गया है।

इसे भी पढ़ेंः लालू प्रसाद की जमानत पर हाईकोर्ट में अब 11 सितंबर को होगी सुनवाई

Most Popular

हाई कोर्ट की तल्ख टिप्पणी- ऑक्सीजन की कमी से संक्रमित मरीजों की मौत नरसंहार से कम नहीं

Uttar Pradesh: ऑक्सीजन संकट पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने एक सख्त टिप्पणी करते हुए अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति न होने से...

हाई कोर्ट ने निर्माण कंपनी से पूछा- रांची सदर अस्पताल में कितने दिनों में होगी ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक की व्यवस्था

Ranchi: हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत ने सदर अस्पताल में ऑक्सीजनयुक्त बेड शुरु होने...

हाई कोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला, कहा- तलाक के मामले में फैमिली कोर्ट एक्ट सभी धर्मों पर होगा लागू; निचली कोर्ट को सुनवाई का अधिकार

Ranchi: झारखंड हाई कोर्ट ने एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए कहा है कि फैमिली कोर्ट एक सेक्युलर कोर्ट है। फैमिली कोर्ट एक्ट...

Oxygen Shortage: सुप्रीम कोर्ट की केंद्र सरकार को फटकार, कहा- नाकाम अफसरों को जेल में डालें या अवमानना के लिए रहें तैयार

New Delhi: Oxygen Shortage News: देश में लगातार बढ़ते कोरोना मरीजों के चलते राजधानी दिल्ली समेत देश भर में ऑक्सीजन के लिए...