processApi - method not exist
Home high court news नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी को फंड नहीं देने पर हाईकोर्ट नाराज, कहा सरकार...

नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी को फंड नहीं देने पर हाईकोर्ट नाराज, कहा सरकार कर रही कोर्ट की अवमानना

चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत ने टिप्पणी करते हुए कहा कि शपथपत्र से ऐसा प्रतीत हो रहा है कि सरकार की मंशा कोर्ट के अपमान करने की है।

रांची स्थित नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी को हर साल फंड नहीं देने के सरकार के शपथपत्र पर हाईकोर्ट ने कड़ी नाराजगी जताई है। हाईकोर्ट ने सरकार के शपथपत्र को नामंजूर कर दिया।

चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत ने टिप्पणी करते हुए कहा कि शपथपत्र से ऐसा प्रतीत हो रहा है कि सरकार की मंशा कोर्ट के अपमान करने की है।

अदालत ने सरकार को नया शपथपत्र पांच फरवरी तक दाखिल करने का निर्देश दिया। अदालत ने टिप्पणी करते हुए कहा कि कोर्ट लगातार सरकार को इस यूनिवर्सिटी को चलाने के लिए फंड देने को कह रही है।

लेकिन सरकार इस महत्वपूर्ण संस्थान के प्रति उदासीन है। सरकार के शपथपत्र देखने से लगता है कि सरकार अदालत का अपमान कर रही है। सरकार को अपना रवैया बदलना होगा और इस महत्वपूर्ण संस्थान को चलाने की गंभीरता दिखानी होगी।

सरकार ने शपथपत्र दाखिल कर कहा था कि यूनिवर्सिटी से पैसे की जरूरत बताने को कहा गया है। सरकार यूनिवर्सिटी को हर साल फंड नहीं दे सकती। यह यूनिवर्सिटी स्व पोषित है और उसे खुद संस्थान को चलाना होगा।

इसे भी पढ़ेंः Lalu Yadav: लालू प्रसाद को अभी रहना होगा जेल में, जमानत पर 12 फरवरी को सुनवाई

यूनिवर्सिटी के गठन के समय सरकार को एक मुश्त राशि देनी थी, जो उसे दे दी गयी है। इस पर कोर्ट ने नाराजगी जाहिर की और कहा कि राशि सरकार को ही उपलब्ध कराना है, यह भी प्रावधान में है।

आखिर राज्य सरकार क्यों नहीं इस विश्वविद्यालय को चलाना चाहती है। राज्य में पांच साल के पाठ्यक्रम वाला यह एकमात्र राष्ट्रीय विश्वविद्यालय है। दूसरे कार्यों में सरकार पैसा खर्च कर रही है और एक ख्याति प्राप्त संस्थान के लिए पैसे देने में क्यों पीछे हट रही है यह समझ से परे है।

इसके बाद अदालत ने मुख्य सचिव को तत्काल ऑनलाइन हाजिर होने का निर्देश दिया। मुख्य सचिव के हाजिर होने के बाद कोर्ट ने कहा कि सरकार राज्य के इतने बड़े संस्थान को क्यों नहीं चलाना चाहती है।

इसे चलाने के लिए फंड की व्यवस्था क्यों नहीं की जा रही है। कोर्ट के पिछले आदेश, कोर्ट की मंशा और यूनिवर्सिटी के महत्व को देखते हुए सरकार को क्या परेशानी है। इस पर मुख्य सचिव ने कहा कि इस मामले पर सरकार विचार करेगी और निर्णय से अवगत कराया जाएगा।

यह नीतिगत मामला है और कैबिनेट में भी इसे ले जाना होगा। इस पर कोर्ट ने सरकार को पांच फरवरी तत प्रगति रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया

RELATED ARTICLES

Late Fee: कॉलेजों द्वारा छात्रों से विलंब शुल्क वसूलने पर हाईकोर्ट सख्त, कहा- यह तो धोखाधड़ी है

Lucknow: Late Fee इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने डिग्री कालेजों द्वारा अपने छात्रों से विलंब शुल्क वसूलने पर सख्त नाराजगी जताई...

RTI: हाईकोर्ट ने कहा- सही समय पर सूचना नहीं देने पर सूचना आयोग के हर्जाने का आदेश बिल्कुल सही

Ranchi: RTI News झारखंड हाईकोर्ट ने राज्य सूचना आयोग के उस आदेश को बरकरार रखा है, जिसमें आयोग की ओर से सही समय...

Promotion: हाईकोर्ट ने पूछा- एसडीओ पद पर प्रोन्नति की अधिसूचना जारी होगी या नहीं, स्थिति स्पष्ट करे सरकार

Ranchi: Promotion झारखंड हाईकोर्ट (Jharkhand High Court) के जस्टिस डॉ एसएन पाठक की अदालत में डिप्टी कलेक्टर से एसडीओ (SDO) पद पर...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Cruise Drugs Case: आर्यन खान के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंची शिवसेना, कहा- जमानत नहीं देना आरोपी का अपमान; 17 रातों से जेल रखना अवैध

New Delhi: Cruise Drugs Case मुंबई क्रूज ड्रग्स पार्टी में गिरफ्तार बालीवुड स्टार शाहरूख खान के बेटे आर्यन खान के मौलिक अधिकारों...

Illegal Occupation: कुख्यात मुख्तार अंसारी की बढ़ीं मुश्किलें, जमीन पर अवैध कब्जा करने के मामले में दाखिल हुई चार्जशीट

Lucknow: Illegal Occupation बांदा जेल में बंद गैंगस्टर मुख़्तार अंसारी (Gangster Mukhtar Ansari) मुश्किलें बढ़ने वाली है। लखनऊ सिविल कोर्ट के सीजेएम...

Late Fee: कॉलेजों द्वारा छात्रों से विलंब शुल्क वसूलने पर हाईकोर्ट सख्त, कहा- यह तो धोखाधड़ी है

Lucknow: Late Fee इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने डिग्री कालेजों द्वारा अपने छात्रों से विलंब शुल्क वसूलने पर सख्त नाराजगी जताई...

RTI: हाईकोर्ट ने कहा- सही समय पर सूचना नहीं देने पर सूचना आयोग के हर्जाने का आदेश बिल्कुल सही

Ranchi: RTI News झारखंड हाईकोर्ट ने राज्य सूचना आयोग के उस आदेश को बरकरार रखा है, जिसमें आयोग की ओर से सही समय...