processApi - method not exist
Home high court news Encroachment on Hinoo River: हाईकोर्ट ने कहा- सरकार को गरीबों से नहीं,...

Encroachment on Hinoo River: हाईकोर्ट ने कहा- सरकार को गरीबों से नहीं, अमीरों से ज्यादा हमदर्दी

Ranchi: Encroachment on Hinoo river झारखंड हाईकोर्ट ने हिनू नदी की जमीन पर अतिक्रमण कर बनाए गए चारदीवारी को तोड़े जाने के बाद फिर से बना देने पर कड़ी नाराजगी जताई है। चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत ने कहा कि जब रांची नगर निगम ने जिला प्रशासन के सहयोग से अतिक्रमण कर बनाई गई चारदिवारी को तोड़ दिया था, तो रातों-रात फिर उसे कैसे बना दिया गया।

इस मामले में अदालत ने राज्य सरकार और रांची नगर निगम से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। इस मामले में दो सप्ताह बाद सुनवाई होगी। सुनवाई के दौरान अदालत ने मौखिक टिप्पणी करते हुए कहा कि जिला प्रशासन झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले लोगों को अतिक्रमण मुक्त कराने के अभियान के दौरान तत्काल हटा देती है। लेकिन बड़े लोगों का नाम आते ही काम धीमा हो जाता है।

इसे भी पढ़ेंः RMC Appellate Authority: गलत जानकारी देने पर हाईकोर्ट नाराज, नगर विकास सचिव को जारी किया अवमानना नोटिस

अदालत ने कहा कि गरीबों के लिए राज्य सरकार के पास कोई हमदर्दी नहीं हैं लेकिन लगता है कि बड़े लोगों के प्रति ज्यादा हमदर्दी है। अदालत ने कहा कि प्रथम दृष्टया प्रतीत हो रहा है कि इस मामले में किसी को बचाने के लिए सरकार लगातार अपना पक्ष बदल रही है। इसके बाद अदालत ने प्लॉट संख्या 442, 443 और 430 से संबंधित सारे रिकॉर्ड कोर्ट में जमा करने का निर्देश दिया है। अदालत ने इस बात को लेकर आश्चर्य जताया कि पुलिस के रहते रात में चारदिवारी कैसे बना दी गई।

निजी वाहन पर नेम प्लेट लगाने के मामले में परिवहन सचिव तलब
झारखंड हाईकोर्ट में निजी वाहनों में नेम प्लेट लगाने के खिलाफ दाखिल जनहित याचिका पर सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान जवाब दाखिल करने के लिए राज्य सरकार की ओर से समय की मांग की गई। जिसे अदालत ने स्वीकार कर लिया। लेकिन अदालत ने अगली सुनवाई के दौरान परिवहन सचिव को अदालत में मौजूद रहने का आदेश दिया है। इस संबंध में गजाला तनवीर की ओर से जनहित याचिका दाखिल की गई है। याचिका में कहा गया है कि राज्य में नियमों के खिलाफ निजी वाहनों में भी नेम प्लेट का उपयोग किया जा रहा है। मामले की अगली सुनवाई 25 नवंबर को होगी।

RELATED ARTICLES

Jharkhand High Court decision: निर्वाचन सेवा के पदाधिकारी माने जाएंगे राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी

Ranchi: Jharkhand High Court decision झारखंड हाईकोर्ट ने अहम फैसला सुनाते हुए कहा कि राज्य विभाजन के समय निर्वाचन सेवा में आए...

Road dispute: हाईकोर्ट ने वकील के घर के सामने चारदीवारी बनाने पर रांची एसएसपी को किया तलब

Ranchi: Road dispute झारखंड हाईकोर्ट ने डोरंडा के गौरीशंकर नगर में रहने वाले वकील अमरेंद्र प्रधान की याचिका पर सुनवाई करते हुए...

SDO promotion: हाईकोर्ट ने कहा- प्रोन्नति पर लगी रोक वापस नहीं ली गई, तो मुख्य सचिव कोर्ट में होंगे हाजिर

Ranchi: Jharkhand High Court: झारखंड हाई कोर्ट में सोमवार को डिप्टी कलेक्टर से एसडीओ (SDO promotion) के पद पर प्रोन्नति की अनुशंसा...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Court News: बेटा होने पर शराब पार्टी के लिए पैसे नहीं देने पर टांगी से काटकर कर दी थी हत्या, तीन को आजीवन कारावास

Ranchi: Court News झारखंड के कोडरमा सिविल कोर्ट ने अमित हत्याकांड फैसला सुनाया है। अदालत ने टांगी से काट कर अमित की...

Scam: कृषि विभाग के प्रमुख अभियंता राघवेंद्र सिंह ने कोर्ट में किया सरेंडर

Ranchi: Scam वित्तीय अनियमितता के आरोपी कृषि विभाग के प्रमुख अभियंता राघवेंद्र सिंह ने रांची के एसीबी के विशेष अदालत में आत्मसमर्पण...

Mediation: रिश्तों की कड़वाहट खत्म हुई, जब आमने-सामने बैठे पति-पत्नी; अब जीवनभर रहेंगे साथ-साथ

Ranchi: Mediation रांची सिविल कोर्ट के मध्यस्थता केंद्र में विशेष मध्यस्थता अभियान चलाया गया। इस दौरान रिश्तों की कड़वाहट को भुलाकर तीन...

Jharkhand High Court decision: निर्वाचन सेवा के पदाधिकारी माने जाएंगे राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी

Ranchi: Jharkhand High Court decision झारखंड हाईकोर्ट ने अहम फैसला सुनाते हुए कहा कि राज्य विभाजन के समय निर्वाचन सेवा में आए...