Defection Case: HC से बाबूलाल मरांडी को राहत, हाईकोर्ट ने दल-बदल मामले की सुनवाई पर लगाई रोक

बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) के अधिवक्ता आरएन सहाय ने बताया कि अदालत ने अपने आदेश में कहा कि दलबदल (Defection) मामले में स्पीकर (Speaker) की ओर से की जा रही सुनवाई को अगले आदेश तक स्थगित किया जाता है।

रांची झारखंड हाईकोर्ट (Jharkhand High Court) ने दलबदल (Defection) मामले बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) को राहत दी है। अदालत ने इस मामले में विधानसभा न्यायाधीकरण में होने वाली सुनवाई को स्थगित करने का आदेश दिया है। अदालत ने इस मामले में स्पीकर व राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

इस मामले में अदालत ने अगली सुनवाई 13 जनवरी को निर्धारित की गई है। बाबूलाल मरांडी के अधिवक्ता आरएन सहाय ने बताया कि अदालत ने अपने आदेश में कहा कि दलबदल मामले में स्पीकर की ओर से की जा रही सुनवाई को अगले आदेश तक स्थगित किया जाता है।

गौरतलब है कि बाबूलाल मरांडी ने विधानसभा स्पीकर द्वारा दलबदल मामले में स्वत संज्ञान लेकर जारी नोटिस को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है। बाबूलाल की ओर से कहा गया था कि संविधान की दसवीं अनुसूची में स्पीकर को स्वतः संज्ञान से नोटिस जारी करने अधिकार नहीं है। जब तक की इसके लिए कोई आवेदन ना दें।

इसे भी पढ़ेंः आईएसआईएस के सदस्य को एनआईए कोर्ट ने सुनाई सात साल की सजा

सुनवाई के दौरान राज्य सरकार का कहना था कि विधानसभा अध्यक्ष को इस तरह के मामले में नोटिस जारी करने का अधिकार है और विधानसभा नियमानुसार दलबदल की नोटिस बिल्कुल सही है। इसके बाद अदालत ने विधानसभा न्याधिकरण में होने वाली सुनवाई को (केप्ट इन अबेंस) रखने का आदेश दिया है।

इस मामले में हाईकोर्ट के आदेश को विधानसभा की ओर से सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने की संभावना जताई जा रही है। इसके लिए तैयारी की जा रही है।

इधर, विधानसभा न्यायाधीकरण में बाबूलाल मरांडी को छोड़कर प्रदीप यादव और बंधु तिर्की को जारी नोटिस पर सुनवाई हुई। लेकिन बाबूलाल मरांडी की सुनवाई को स्थगित रखा गया।

Most Popular

हाई कोर्ट की तल्ख टिप्पणी- ऑक्सीजन की कमी से संक्रमित मरीजों की मौत नरसंहार से कम नहीं

Uttar Pradesh: ऑक्सीजन संकट पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने एक सख्त टिप्पणी करते हुए अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति न होने से...

हाई कोर्ट ने निर्माण कंपनी से पूछा- रांची सदर अस्पताल में कितने दिनों में होगी ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक की व्यवस्था

Ranchi: हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत ने सदर अस्पताल में ऑक्सीजनयुक्त बेड शुरु होने...

हाई कोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला, कहा- तलाक के मामले में फैमिली कोर्ट एक्ट सभी धर्मों पर होगा लागू; निचली कोर्ट को सुनवाई का अधिकार

Ranchi: झारखंड हाई कोर्ट ने एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए कहा है कि फैमिली कोर्ट एक सेक्युलर कोर्ट है। फैमिली कोर्ट एक्ट...

Oxygen Shortage: सुप्रीम कोर्ट की केंद्र सरकार को फटकार, कहा- नाकाम अफसरों को जेल में डालें या अवमानना के लिए रहें तैयार

New Delhi: Oxygen Shortage News: देश में लगातार बढ़ते कोरोना मरीजों के चलते राजधानी दिल्ली समेत देश भर में ऑक्सीजन के लिए...