सांसद निशिकांद दुबे की पत्नी अनामिका गौतम ने दाखिल की याचिका, जमीन खरीदारी में दर्ज प्राथमिकी रद करने की मांग

रांची। गोड्डा से भाजपा के सांसद निशिकांत दुबे की पत्नी अनामिका गौतम ने अपने खिलाफ दर्ज प्राथमिकी को निरस्त करने के लिए झारखंड हाईकोर्ट दरवाजा खटखटाया है। उन्होंने याचिका दाखिल कर प्राथमिकी रद करने और किसी प्रकार की पीड़क कार्रवाई नहीं करने का आग्रह किया है। अनामिका गौतम व उनकी कंपनी ऑनलाइन इंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ सरकार के निर्धारित दर से कम में जमीन की रजिस्ट्री कराने और राजस्व को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। इस मामले में विष्णुकांत झा और किरण सिंह ने अलग- अलग प्राथमिकी दर्ज करायी है।


प्राथमिकी में कहा गया है कि जिस जमीन का सरकारी मूल्य करीब 20 करोड़ है उसका निबंधन सिर्फ तीन करोड़ में किया गया है। वहीं, दूसरी प्राथमिकी में उक्त जमीन को धोखाधड़ी कर खरीदारी की गई है क्योंकि किरण सिंह का दावा है कि इस जमीन को पहले उन्होंने खरीदी थी। अनामिका गौतम की ओर से दाखिल याचिका में दोनों प्राथमिकी के बारे में जिक्र करते हुए कहा गया है कि सरकार को राजस्व का कोई नुकसान नहीं हुआ है। उन्होंने बीस करोड़ रुपये के आधार पर ही स्टांप ड्यूटी जमा की है।

विष्णुकांत झा का इस मामले से कोई सरोकार नहीं है। वहीं, किरण सिंह का दावा पूरी तरह से गलत है कि उक्त जमीन पहले उन्होंने खरीदी थी। इस मामले में फर्जी डीड के आधार पर पहले ही रजिस्ट्रार ने मामला दर्ज कराया है। जहां तक धोखाधड़ी का मामला है, तो अगर जमीन दो लोगों को बेची गई है, तो बेचने वाले पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज होना चाहिए न कि उन पर। याचिका में दोनों प्राथमिकी रद करने व किसी प्रकार की पीड़क कार्रवाई नहीं करने की मांग की गई है।

इसे भी पढ़ेंः लालू को जमानत मिलेगी या नहीं, शुक्रवार को होगा फैसला

Most Popular

34th National Games Scam: आरके आनंद को लगा झटका, एसीबी कोर्ट ने खारिज की अग्रिम जमानत

Ranchi: 34वें राष्ट्रीय खेल घोटाले (34th National Games Scam) के आरोपी आरके आनंद (RK Anand) को बड़ा झटका लगा है। एसीबी कोर्ट...

6th JPSC Exam: जेपीएससी ने एकलपीठ के आदेश के खिलाफ दाखिल की अपील, कहा- मेरिट लिस्ट में कोई गड़बड़ी नहीं

Ranchi: झारखंड लोक सेवा आयोग (JPSC) की ओर से छठी जेपीएससी परीक्षा (6th JPSC) के मेरिट लिस्ट को निरस्त करने के एकल...

वित्तीय अनियमितता के मामले में सीयूजे के चिकित्सा पदाधिकारी के खिलाफ चलेगी विभागीय कार्रवाई, एकलपीठ का आदेश निरस्त

Ranchi: झारखंड हाईकोर्ट (Jharkhand High Court) ने केंद्रीय विश्वविद्यालय, झारखंड (CUJ) के एक मामले में एकलपीठ के आदेश को निरस्त कर दिया...

21 साल से लड़ रहे थे तलाक की लड़ाई, सीजेआई की ये बात सुन साथ रहने को राजी हो गए पति-पत्नी

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court of India) ने 21 साल साल से कानूनी लड़ाई लड़ रहे आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के...