सीएम हेमंत सोरेन पर अनर्गल टिप्पणी मामले में सांसद निशिकांत दुबे ने जवाब के लिए कोर्ट से मांगा समय

रांची। सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने के मामले में मंगलवार को रांची सिविल कोर्ट में सुनवाई हुई है। इस दौरान गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे एवं फेसबुक की ओर से अदालत से लिखित जवाब दाखिल करने के लिए समय की मांग की गई। सांसद निशिकांत दुबे के अधिवक्ता दिवाकर उपाध्याय ने इस मामले में जवाब दाखिल करने के लिए अदालत से समय की गुहार लगाई, जिसे स्वीकार करते हुए अदातल ने अगली सुनवाई 20 अक्टूबर की तिथि निर्धारित की है।

इसे भी पढ़ेंः आरोग्य सोसाइटी के संविदा कर्मियों को निकाला, कोर्ट ने स्वास्थ्य सचिव को निर्णय लेने का दिया आदेश

इस मामले में सिविल कोर्ट की सब जज प्रथम वैशाली श्रीवास्तव की अदालत में हुई। इस दौरान सांसद निशिकांत दुबे और फेसबुक के अधिवक्ता अदालत में उपस्थित हुए और उन्होंने जवाब दाखिल करने के लिए अदालत से समय की मांग की। इस मामले में तीसरे प्रतिवादी ट्वीटर ने अब तक अपनी उपस्थिति अदालत के समक्ष दर्ज नहीं कराई है। गौरतलब है कि सोशल मीडिया पर अनर्गल टिप्पणी को लेकर सीएम ने बीते चार अगस्त को निशिकांत दुबे के साथ- साथ फेसबुक और ट्विटर के खिलाफ रांची सिविल कोर्ट में दीवानी मुकदमा कराया था। सीएम हेमंत सोरेन ने सांसद, फेसबुक और ट्वीटर पर सौ-सौ करोड़ रुपये के मानहानि का दावा किया है।

Most Popular

सांसद निशिकांत दुबे की पत्नी अनामिका गौतम की जमीन खरीद मामले में सरकार से मांगा जवाब

झारखंड हाईकोर्ट ने भाजपा सांसद निशिकांत दुबे की पत्नी अनामिक गौतम की याचिका पर सुनवाई करते हुए सरकार को यह बताने का...

चार करोड़ के घोटाले के आरोपी बैंककर्मी को झारखंड हाईकोर्ट से मिली जमानत

रांची। झारखंड को- अपरेटिव बैंक लिमिटेड, सरायकेला के चार करोड़ के घोटाले में आरोपी की जमानत याचिका पर झारखंड हाई कोर्ट में...

Assistant Engineer Exam update: हाई कोर्ट के आदेश के बाद कल होने वाली सहायक अभियंता की मुख्य परीक्षा स्थगित

रांची। झारखंड हाईकोर्ट के आदेश के बाद जेपीएससी ने 22 जनवरी से सहायक अभियंता की मुख्य परीक्षा को स्थगित करने का निर्णय...

JPSC AE Exam Update: हाईकोर्ट ने सहायक अभियंता नियुक्ति का विज्ञापन किया रद, कल से होने वाली थी मुख्य परीक्षा

रांची। झारखंड हाईकोर्ट ने सहायक अभियंता नियुक्ति में आर्थिक रूप से कमजोर सवर्णों को 10 फ़ीसदी आरक्षण देने के खिलाफ दाखिल याचिका...