बाबा वैद्यनाथ धाम में आम दर्शन के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड सरकार को स्थिति स्पष्ट करने को कहा

दिल्ली। झारखंड के बासुकीनाथ मंदिर व देवघर के बाबा वैद्यनाथ मंदिर को आम लोगों के दर्शन के लिए खोलने की मांग वाली गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। सुनवाई के बाद जस्टिस अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने केंद्र सरकार व राज्य सरकार को नोटिस जारी किया है। अदालत ने राज्य सरकार को इस मामले में अपनी स्थिति स्पष्ट करने को कहा है। अदालत ने देवघर मंदिर बोर्ड के चेयरमैन से भी जानकारी मांगी है। इस मामले में अगली सुनवाई कल (शुक्रवार) को होगी।

गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे ने सावन में देवघर में आयोजित होने वाली श्रावणी मेले के लिए झारखंड हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की थी। इस मामले में हाई कोर्ट ने राज्य सरकार के जवाब को देखते हुए बाबा वैद्यनाथ के ऑनलाइन दर्शन करने की व्यवस्था करने का निर्देश दिया। उक्त आदेश कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए राज्य सरकार के जवाब के बाद दिया गया। इस दौरान राज्य सरकार ने श्रावणी मेले व कावर यात्रा के आयोजन से मना कर दिया था। इसके पीछे की वजह से कोरोना संक्रमण बढ़ना बताया गया।

इस आदेश के खिलाफ निशिकांत दुबे ने सुप्रीम कोर्ट में एसएलपी (8716-2020) दाखिल की है। इस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड सरकार से जवाब मांगा है।

Read order

Most Popular

छात्रों को निकालने का मामलाः HC ने कहा कि स्कूल छात्रों को वापस लेने पर विचार कर सकती है

रांचीः हजारीबाग के सेंट जेवियर स्कूल से निकाले गए छात्रों के मामले में सुनवाई करते हुए झारखंड हाई कोर्ट ने कहा है...

दुमका कोषागार मामलाः लालू प्रसाद ने हाईकोर्ट से जमानत पर जल्द सुनवाई की लगाई गुहार

रांचीः (Chara Ghotala) चारा घोटाला मामले में सजा काट रहे (Lalu Yadav) लालू प्रसाद ने (Jharkhand High Court) झारखंड हाई कोर्ट में...

Lalu Yadav Health Update: बेहतर इलाज के लिए लालू प्रसाद भेजे जा सकते हैं दिल्ली एम्स

रांचीः Lalu Prasad Yadav Health Update बेहतर इलाज के लिए लालू प्रसाद यादव को रिम्स (RIMS) से दिल्ली स्थित (Delhi AIIMS) एम्स...

Lalu Yadav News: लालू के जेल मैनुअल उल्लंघन मामले में हाईकोर्ट ने गृह विभाग से मांगा जवाब

रांचीः Lalu Prasad Yadav चारा घोटाला मामले में सजा काट रहे लालू प्रसाद के जेल मैनुअल उल्लंघन मामले में अब पांच फरवरी...