झारखंड के पूर्व मंत्री योगेंद्र साव के मामले में हाई कोर्ट ने राज्य सरकार से मांगा जवाब

रांची। एनटीपीसी (NTPC) के खिलाफ बड़कागांव में सत्याग्रह आंदोलन में आरोपी बनाए गए पूर्व मंत्री योगेंद्र साव की याचिका पर सुनवाई करते हुए झारखंड हाई कोर्ट ने राज्य सरकार से जवाब मांगा है। योगेंद्र साव की ओर से निचली अदालत के उस आदेश को हाई कोर्ट में चुनौती दी गई, जिसके तहत अदालत ने 22 अतिरिक्त गवाहों की गवाही करने के अभियोजन के आवेदन को स्वीकार कर लिया। इसी आदेश के खिलाफ योगेंद्र साव ने हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की है।
सुनवाई के दौरान अदालत को बताया गया कि इस मामले में पहले ही सभी 18 गवाही पूरी होने वाली थी, तभी अभियोजन की ओर से अतिरिक्त 22 अन्य गवाहों की सूची अदालत को सौंपते हुए उसे स्वीकार करने की गुहार लगाई गई, जिसे अदालत ने स्वीकार कर लिया। कहा गया कि इस मामले में नए गवाहों को नहीं जोड़ा जा सकता है। सुनवाई के बाद जस्टिस आनंद सेन की अदालत ने राज्य सरकार को जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया।

ज्ञात हो कि बड़कागांव में एनटीपीसी (NTPC) के खिलाफ पूर्व मंत्री योगेंद्र साव के नेतृत्व में सत्याग्रह आंदोलन चलाया गया। इसी मामले में पुलिस ने इनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है।

Most Popular

बुढ़ी मां को प्रॉपर्टी से बेदखल करने की कोशिश करने हाईकोर्ट ने बेटे पर लगाया एक लाख का जुर्माना

Chandigarh: अपनी बुढ़ी मां को मकान से बेदखल करने की कोशिश करने के मामले में पंजाब-हरियाणा हाई कोर्ट ने बेटे पर एक...

Raj Kundra Case: हाईकोर्ट में सरकारी वकील का दावा, राज कुंद्रा से पुलिस को मिलीं 51 पॉर्न फिल्में

Mumbai: पॉर्न फिल्में बनाने के आरोपी राज कुंद्रा (Raj Kundra) की ओर गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली याचिका पर बॉम्बे हाई कोर्ट...

सपा सांसद आजम खां की जमानत पर बहस पूरी, चार अगस्त को आएगा फैसला

Rampur: निचली अदालत में शत्रु संपत्ति को कब्जाने के मामले में सपा सांसद आजम खां की ओर से दाखिल की गई जमानत...

यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या के खिलाफ मुकदमों पर सीजेएम की कोर्ट करेगी सुनवाई

Prayagraj: उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कराए जाने को लेकर शिकायतवाद की सुनवाई एसीजेएम की...