झारखंड के आयुष चिकित्सकों को एलोपैथिक चिकित्सकों के समान मिलेंगी सारी सुविधाएं

झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस संजय कुमार द्विवेदी की अदालत में आयुष चिकित्सकों को एलोपैथिक चिकित्सकों की तरह सभी प्रकार की सुविधा दिए जाने के आदेश का अनुपालन नहीं होने पर दाखिल अवमानना याचिका पर सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान राज्य सरकार ओर से अदालत को बताया गया कि आयुष चिकित्सकों को भी एलोपैथिक चिकित्सकों की तरह सुविधा देने की सारी तैयारी पूरी कर ली गई है।

कहा गया कि कुछ दिनों में इसे कैबिनेट में भेज जाएगा। इससे राज्य के सभी आयुष चिकित्सकों को फायदा होगा। अदालत ने इस मामले में अगली सुनवाई 15 जनवरी 2021 को निर्धारित की गई है। इस दौरान राज्य के वित्त सचिव एवं स्वास्थ्य सचिव वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए अदालत से जुड़े थे। उनकी ओर से बताया गया कि एलोपैथिक चिकित्सकों की तरह आयुष चिकित्सकों को भी सारी सुविधाएं दी जाएंगी।

इसे भी पढ़ेंः Lalu Prasad Yadav जमानत के दौरान सीबीआई ने कहा- सुविधा का दुरुपयोग कर रहे लालू प्रसाद

इस संबंध में डॉ अमरेंद्र पाठक ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर एलोपैथिक चिकित्सकों के समान सुविधाएं दिए जाने की मांग की थी। उनके अधिवक्ता सौरभ शेखर ने अदालत को बताया कि वर्ष 2011 में एलोपैथिक चिकित्सकों की सेवानिवृत्ति की उम्र 65 साल कर दी गई है। लेकिन आयुष चिकित्सकों की सेवानिवृत्ति अभी भी साठ साल ही है।

इतना ही नहीं राज्य सरकार ने आयुष चिकित्सकों को चिकित्सक मानने से भी इंकार कर दिया है। जबकि दोनों इलाज का ही काम करते हैं। ऐसे में समान काम के बदले समान सुविधाएं मिलनी चाहिए। इसके बाद अदालत ने आयुष चिकित्सकों को एलोपैथिक चिकित्सकों की तरह सारी सुविधाएं देने का आदेश दिया था। लेकिन सरकार ने इस आदेश को खंडपीठ में चुनौती दी थी। इस बीच प्रार्थी की ओर से अवमानना याचिका दाखिल कर दी गई थी।

Most Popular

हाई कोर्ट की तल्ख टिप्पणी- ऑक्सीजन की कमी से संक्रमित मरीजों की मौत नरसंहार से कम नहीं

Uttar Pradesh: ऑक्सीजन संकट पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने एक सख्त टिप्पणी करते हुए अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति न होने से...

हाई कोर्ट ने निर्माण कंपनी से पूछा- रांची सदर अस्पताल में कितने दिनों में होगी ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक की व्यवस्था

Ranchi: हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत ने सदर अस्पताल में ऑक्सीजनयुक्त बेड शुरु होने...

हाई कोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला, कहा- तलाक के मामले में फैमिली कोर्ट एक्ट सभी धर्मों पर होगा लागू; निचली कोर्ट को सुनवाई का अधिकार

Ranchi: झारखंड हाई कोर्ट ने एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए कहा है कि फैमिली कोर्ट एक सेक्युलर कोर्ट है। फैमिली कोर्ट एक्ट...

Oxygen Shortage: सुप्रीम कोर्ट की केंद्र सरकार को फटकार, कहा- नाकाम अफसरों को जेल में डालें या अवमानना के लिए रहें तैयार

New Delhi: Oxygen Shortage News: देश में लगातार बढ़ते कोरोना मरीजों के चलते राजधानी दिल्ली समेत देश भर में ऑक्सीजन के लिए...