processApi - method not exist
Home Civil Court News Fodder Scam: लालू ने नहीं, कोर्ट के आदेश पर संयुक्त निदेशक बने...

Fodder Scam: लालू ने नहीं, कोर्ट के आदेश पर संयुक्त निदेशक बने थे रामराज राम

Fodder Scam चारा घोटाले एक मामले में लालू प्रसाद की ओर से पशुपालन के तत्कालीन संयुक्त निदेशक डा रामराज राम के नियुक्ति को लेकर बहस की गई।

Ranchi: Fodder Scam चारा घोटाले एक मामले में लालू प्रसाद की ओर से पशुपालन के तत्कालीन संयुक्त निदेशक डा रामराज राम के नियुक्ति को लेकर बहस की गई। सीबीआई के विशेष न्यायाधीश एसके शशि की अदालत में लालू के अधिवक्ता प्रभात कुमार ने कहा कि सीबीआई का यह आरोप पूरी तरह से गलत है कि लालू प्रसाद ने डा. रामराज्य राम को पशुपालन विभाग का संयुक्त निदेशक बनाया था।

उनकी ओर से कोर्ट में इससे संबंधित दस्तावेज पेश किया, जिसमें वर्ष 1988 में रामराज राम की तत्कालीन मुख्यमंत्री भागवत झा आजाद के समय में नियुक्ति की बात कही गई है। इस पर नियुक्ति के लिए वरीयता को लेकर विवाद था, जिसमें पटना हाई कोर्ट ने डा रामराज राम को वरीयता सूची में सबसे ऊपर रखने का आदेश दिया था।

इसके खिलाफ राम शरण शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट की शरण ली थी। सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने पूरे मामले में वर्ष 1995 तक स्टेट को (यथास्थिति) बनाए रखने का आदेश दिया। ऐसी स्थिति में कोई भी उनकी नियुक्ति की न तो अनुशंसा कर सकता है और न ही उन्हें पद से हटा सकता था।

इसे भी पढ़ेंः Ranchi District Hospital Construction: हाईकोर्ट ने कहा- रांची सदर अस्पताल के निर्माण में होने वाली समस्या मिलकर सुलझाएं संवेदक और सरकार

ऐसे में इस मामले में लालू प्रसाद पूरी तरह से निर्दोष हैं। विशेष लोक अभियोजक बीएमपी सिंह ने बताया कि मामले के आरोपित ट्रेजरी ऑफिसर महेंद्र प्रसाद एवं डीपी श्रीवास्तव की ओर से उनके वकीलों ने दलीलें रखी। मामले में अब तक 74 आरोपितों की ओर से बहस पूरी हो चुकी है। डोरंडा कोषागार से 139.35 करोड़ रुपये की अवैध निकासी मामले में लालू प्रसाद समेत 112 आरोपी मुकदमे का सामना कर रहे हैं।

चारा घोटाले के एक अन्य मामले में दो आरोपितों का बयान दर्ज
चारा घोटाले के एक अन्य मामले में सीबीआई के विशेष न्यायाधीश विशाल श्रीवास्तव की अदालत में आरोपित डा रमन कुमार सिन्हा एवं डा उमाकांत यादव का बयान दर्ज किया गया। अदालत ने घोटाले से संबंधित प्रश्न पूछा, जिस पर आरोपितों ने अपने आप को निर्दोष बताया।

विशेष लोक अभियोजक रवि शंकर ने बताया कि अब तक सात आरोपितों का बयान दर्ज किया जा चुका है। बता दें कि डोरंडा कोषागार से 36.59 करोड़ रुपये से अधिक की अवैध निकासी से जुड़े मामले में पूर्व विधायक व आपूर्तिकर्ता गुलशन लाल आजमानी, मो. सईद का परिवार, राधा रमन सहाय सहित करीब 140 आरोपितों का बयान दर्ज किया जाना है।

RELATED ARTICLES

ईडी को ललकारने वाले सीएम हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा से छह दिन होगी पूछताछ

अवैध खनन और टेंडर मैनेज करने से जुड़े मनी लाउंड्रिंग मामले में गिरफ्तार मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के बरहेट विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा...

जांच अधिकारी ने नहीं दी गवाही, पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और पूर्व विधायक निर्मला देवी साक्ष्य के अभाव में बरी

पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और उनकी पत्नी पूर्व विधायक निर्मला देवी समेत चार आरोपी को अदालत ने पर्याप्त साक्ष्य के अभाव में...

Convicted: दोस्त पर भरोसा कर पत्नी को घर पहुंचाने को कहा, लेकिन दोस्त ने पिस्टल की नोक पर किया दुष्कर्म; अदालत ने माना दोषी

Ranchi: Convicted: अपर न्यायायुक्त दिनेश राय की अदालत में अपने ही दोस्त की पत्नी का अपहरण कर पिस्टल का भय दिखाकर दुष्कर्म...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

जेएसएससी नियुक्ति में राज्य के संस्थान से 10वीं व 12वीं की परीक्षा पास होने की अनिवार्य शर्त पर झारखंड सरकार कायम

झारखंड हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस डा रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की खंडपीठ में जेपीएससी परीक्षा नियुक्ति में दसवीं और...

ईडी को ललकारने वाले सीएम हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा से छह दिन होगी पूछताछ

अवैध खनन और टेंडर मैनेज करने से जुड़े मनी लाउंड्रिंग मामले में गिरफ्तार मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के बरहेट विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा...

6th JPSC Exam: सुप्रीम कोर्ट में बोली झारखंड सरकार, नौकरी से निकाले गए 60 को नहीं कर सकते समायोजित

6th JPSC Exam: छठी जेपीएससी नियुक्ति को लेकर झारखंड हाई कोर्ट के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दाखिल एसएलपी पर सुनवाई...

जांच अधिकारी ने नहीं दी गवाही, पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और पूर्व विधायक निर्मला देवी साक्ष्य के अभाव में बरी

पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और उनकी पत्नी पूर्व विधायक निर्मला देवी समेत चार आरोपी को अदालत ने पर्याप्त साक्ष्य के अभाव में...