Home high court news सिदो-कान्हो विश्वविद्यालय के डिप्टी रजिस्ट्रार शंभु प्रसाद सिंह को हाईकोर्ट से बड़ी...

सिदो-कान्हो विश्वविद्यालय के डिप्टी रजिस्ट्रार शंभु प्रसाद सिंह को हाईकोर्ट से बड़ी राहत

रांची। झारखंड हाईकोर्ट से सिदो-कान्हो विश्वविद्यालय, दुमका के डिप्टी रजिस्ट्रार शंभु प्रसाद सिंह को बड़ी राहत मिली है। जस्टिस रंगोन मुखोपाध्याय की अदालत ने उन्हें जमानत की सुविधा प्रदान कर दी है। अदालत ने उन्हें दस-दस हजार रुपये के दो निजी मुचलके पर उन्हें रिहा करने का आदेश दिया है। सीबीआई कोर्ट से जमानत खारिज होने के बाद शंभु प्रसाद ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर जमानत की गुहार लगाई थी। 13 जून 2020 को सीबीआई ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

सुनवाई के दौरान शंभु प्रसाद सिंह की ओर से वरीय अधिवक्ता एके कश्यप व अनुराग कश्यप ने अदालत को बताया कि जेपीएससी ने इन्हें सिदो-कान्हो विश्वविद्यालय, दुमका का डिप्टी रजिस्ट्रार बनाने की अनुशंसा भेजी थी। विवाद के बाद चांसलर की ओर से पूरे मामले की जांच की गई और उसके बाद इन्हें उक्त पद पर नियुक्त करने का आदेश जारी किया गया। वर्ष 2008 में इन्होंने चांसलर के आदेश के बाद ज्वाइन किया। इसके बाद वर्ष 2012 में सीबीआइ ने जेपीएससी मामले की जांच शुरू की।

जांच के बाद सीबीआइ कोर्ट में इनके खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल किया गया। इसमें आरोप लगाया गया कि इनके भाई गोपाल प्रसाद सिंह के सदस्य थे और इसकी वजह से इन्हें दो अंक ज्यादा दिया गया था। अदालत के बताया गया कि इनके क्वालिफिकेशन और व्याख्याता कार्य के अनुभव देखते हुए ही चांसलर ने नियुक्त करने का आदेश दिया है। ऐसे में इनपर लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद है। इसको देखते हुए अदालत ने इन्हें जमानत की सुविधा प्रदान कर दी।

इसे भी पढ़ेंः शिक्षक व चिकित्सक नियुक्ति मामले में हाई कोर्ट ने सरकार व जेपीएससी से मांगा जवाब

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हाथरथ मामले की सीबीआई जांच की निगरानी करेगा इलाहाबाद हाईकोर्ट

दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले की एक दलित लड़की के साथ कथित सामूहिक बलात्कार और फिर...

हाईकोर्ट ने सांसदों और विधायकों के खिलाफ लंबित आपराधिक मामलों की मांगी सूची

जबलपुर। मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने राज्य में पूर्व और मौजूदा सांसदों व विधायकों के खिलाफ लंबित आपराधिक मामलों की सूची मांगी है।...

झारखंड के कोल ब्लॉक आवंटन घोटाले में पूर्व केंद्रीय मंत्री दिलीप रे को तीन साल की सजा

दिल्ली। दिल्ली स्थित सीबीआई की विशेष अदालत ने पूर्व केंद्रीय मंत्री दिलीप रे को झारखंड के कोयला ब्लॉक के आवंटन में घोटाला...

केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल को राहत, सीएम आवास का किराया भुगतान नहीं करने पर चल रही अवमानना की कार्यवाही पर सुप्रीम कोर्ट की रोक

दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने बंगलों के लिए पूर्व मुख्यमंत्रियों द्वारा किराए का भुगतान न करने के मामले में केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल...

Recent Comments