processApi - method not exist
Home Civil Court News लोक अदालतों से ही कम होगा लंबित मामलों का बोझः जस्टिस एके...

लोक अदालतों से ही कम होगा लंबित मामलों का बोझः जस्टिस एके सिंह

Ranchi: Lok Adalats पूरे राज्य में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। इस दौरान हाईकोर्ट सहित निचली अदालतों में कुल 55151 मामलों का निपटारा किया गया। इस दौरान 107 करोड़ रुपये का भी सेटलमेंट भी हुआ। रांची सिविल कोर्ट में आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत का उदघाटन करने झालसा के कार्यकारी अध्यक्ष जस्टिस अपरेश कुमार सिंह पहुंचे थे।

उद्घाटन समारोह में बोलते हुए उन्होंने कहा कि लोक अदालत का महत्व पहले भी था और आज भी है। इसके आयोजन करने का मात्र यही उद्देश्य है कि अदालतों में लंबित मामलों को जल्द से जल्द सुलझाया जाए। देश की अदालतों में करोड़ों में मामले लंबित है। उनकी तुलना में निचली अदालत और हाई कोर्ट में जजों की संख्या काफी कम है। अदालत में लंबित कई ऐसे मामले हैं, जिन्हें मध्यस्थता के जरिए सुलझाया जा सकता है।

इसलिए लोक अदालतों के जरिए मामलों को सुलझाया जा रहा है, ताकि लोग अदालतों का चक्कर न काटें। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में भी लोक अदालत का आयोजन कर 12765 वादों का निष्पादन किया गया था। राज्य में करीब 4.65 लाख मामले लंबित है। इसके कम करना हमारे लिए चुनौती है। हमें विश्वास है कि झालसा, डालसा और पीएलवी के सहयोग इसे कम किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ेंः गुमला की सीजेएम की कार्यशैली से हाईकोर्ट नाराज, कहा- उनमें न तो काबिलियत है और न ही दक्षता

इस दौरान न्यायायुक्त नवनीत कुमार, रांची उपायुक्त छवि रंजन, एसएसपी एके झा और एडहॉक कमेटी के अध्यक्ष शंभू अग्रवाल ने भी लोक अदालत के महत्व के बारे में बताया। कार्यक्रम में संचालन सीजेएम फहीम किरमानी एवं डालसा सचिव अभिषेक कुमार ने किया। इस दौरान 22 पीड़ितों को 1.50 करोड़ रुपये का चेक वितरित किया गया।

दुर्घटना मुआवजा के रूप में मिले 25 लाख
नामकुम के काली मंदिर के रहने वाले सेना से सेवानिवृत्ति मदन सिंह अपनी बाईक से रांची आ रहे थे। 3 नवंबर 2020 को एक ट्रक की चपेट में आने की वजह से उनकी मौत हो गई। यह मामला भी लोक अदालत पहुंचा था। इस दौरान मदन सिंह की पत्नी किरण देवी और बेटे अभय कुमार को इंश्योरेंस कंपनी की ओर से 25 लाख रुपये का चेक दिया गया। मदन सिंह सेवा में सूबेदार मेजर के पद से सेवानिवृत्त हुए थे।

रांची सिविल कोर्ट में 14 हजार मामलों का निपटारा
रांची सिविल कोर्ट में आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में कुल 13969 मामलों का निष्पादन हुआ। वहीं, 21 रुपये का सेटलमेंट हुआ। इसमें प्री-लिटिगेशन 7752 मामले तथा 6217 लंबित मामलों शामिल हैं। इनमें आपराधिक सुलहनीय मामले, ट्रैफिक, उत्पाद, वन, मापतौल, रेलवे एवं बैंकिंग के मामले है। इस कार्यक्रम में एडीएम लॉ एंड ऑर्डर उत्कर्ष गुप्ता, एसबीआइ के डीजीएम नंदकिशोर सिंह, बैंक ऑफ इंडिया के जोनल मैनेजर, एलडीएम रांची, डालसा के अधिवक्ता मध्यस्थ सहित कई पदाधिकारी मौजू रहे।

RELATED ARTICLES

ईडी को ललकारने वाले सीएम हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा से छह दिन होगी पूछताछ

अवैध खनन और टेंडर मैनेज करने से जुड़े मनी लाउंड्रिंग मामले में गिरफ्तार मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के बरहेट विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा...

जांच अधिकारी ने नहीं दी गवाही, पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और पूर्व विधायक निर्मला देवी साक्ष्य के अभाव में बरी

पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और उनकी पत्नी पूर्व विधायक निर्मला देवी समेत चार आरोपी को अदालत ने पर्याप्त साक्ष्य के अभाव में...

Convicted: दोस्त पर भरोसा कर पत्नी को घर पहुंचाने को कहा, लेकिन दोस्त ने पिस्टल की नोक पर किया दुष्कर्म; अदालत ने माना दोषी

Ranchi: Convicted: अपर न्यायायुक्त दिनेश राय की अदालत में अपने ही दोस्त की पत्नी का अपहरण कर पिस्टल का भय दिखाकर दुष्कर्म...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

जेएसएससी नियुक्ति में राज्य के संस्थान से 10वीं व 12वीं की परीक्षा पास होने की अनिवार्य शर्त पर झारखंड सरकार कायम

झारखंड हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस डा रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की खंडपीठ में जेपीएससी परीक्षा नियुक्ति में दसवीं और...

ईडी को ललकारने वाले सीएम हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा से छह दिन होगी पूछताछ

अवैध खनन और टेंडर मैनेज करने से जुड़े मनी लाउंड्रिंग मामले में गिरफ्तार मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के बरहेट विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा...

6th JPSC Exam: सुप्रीम कोर्ट में बोली झारखंड सरकार, नौकरी से निकाले गए 60 को नहीं कर सकते समायोजित

6th JPSC Exam: छठी जेपीएससी नियुक्ति को लेकर झारखंड हाई कोर्ट के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दाखिल एसएलपी पर सुनवाई...

जांच अधिकारी ने नहीं दी गवाही, पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और पूर्व विधायक निर्मला देवी साक्ष्य के अभाव में बरी

पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और उनकी पत्नी पूर्व विधायक निर्मला देवी समेत चार आरोपी को अदालत ने पर्याप्त साक्ष्य के अभाव में...