सुप्रीम कोर्ट का फैसला, संदेह कितना भी मजबूत हो, सबूत नहीं बन सकता, जानिए पूरा मामला

Supreme Court ने कहा कि किसी भी आरोपित के खिलाफ सुबूतों की कड़ी इतनी पूर्ण होनी चाहिए कि उसके खिलाफ आरोप को साबित किया जा सके।

दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने एक मामले में सुनवाई करते हुए कहा है कि संदेह कभी सुबूत की जगह नहीं ले सकता, चाहे यह कितना ही मजबूत क्यों न हो। अदालत ने जोर देकर कहा कि यथोचित संदेह से परे दोषी साबित होने तक किसी भी आरोपित को निर्दोष माना जाता है।

जस्टिस इंदिरा बनर्जी और हेमंत गुप्ता की अदालत ने उड़ीसा हाई कोर्ट के एक फैसले को बरकरार रखते हुए कहा कि किसी भी आरोपित के खिलाफ सुबूतों की कड़ी इतनी पूर्ण होनी चाहिए कि उसके खिलाफ आरोप को साबित किया जा सके।

उड़ीसा हाई कोर्ट ने बिजली का करंट देकर एक होमगार्ड की हत्या करने के दो आरोपितों को सुबूतों के अभाव में बरी कर दिया था। अदालत ने कहा कि यह इस न्यायालय की न्यायिक घोषणा द्वारा अच्छी तरह स्थापित है कि संदेह, चाहे यह मजबूत ही क्यों न हो, सुबूत की जगह नहीं ले सकता।

इसे भी पढ़ेंः रिंकू शर्मा हत्याकांड में चार लोगों को दिल्ली पुलिस ने किया गिरफ्तार

गीतांजलि टाडू ने पुलिस से अपनी शिकायत में कहा था कि उनके पति बिजय कुमार टाडू चंदाबली थाने में तैनात थे। उनको बानाबिहारी महापात्र, उसके बेटे लूजा तथा अन्य ने कुछ जहरीला पदार्थ खिलाकर और फिर बिजली का करंट देकर मार डाला।

सुप्रीम ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चलता है कि मौत बिजली के करंट से हुई लेकिन इस बारे में कोई निष्कर्षात्मक सबूत नहीं है कि यह हत्या का मामला है। पीठ ने कहा कि महज इस तथ्य से कि मृतक आरोपित के कमरे में पड़ा था।

प्रतिवादियों ने शिकायतकर्ता को सूचना दी कि उसका पति निष्क्रिय अवस्था में था तथा उसने आवाज लगाने पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी, यह साबित नहीं हो जाता कि प्रतिवादियों ने उनकी हत्या की थी। शीर्ष अदालत ने कहा कि अभियोजन पक्ष आरोपितों का दोष साबित करने में विफल रहा और अदालत ने आरोपितों को बरी कर सही फैसला किया।

अदालत ने कहा कि परिस्थितिजन्य साक्ष्य ऐसे होने चाहिए, जिन्हें साबित किया जा सके। सुबूतों की कड़ी ऐसी होनी चाहिए, जिनमें संदेह की कोई गुंजाइश न हो। पीठ ने कहा कि इस बात की काफी संभावना है कि आरोपितों ने शिकायतकर्ता के पति को शराब पिलाई हो, जैसा कि पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर का मानना है और सोते समय वह दुर्घटनावश बिजली के तार के संपर्क में आ गया हो।

Most Popular

मनी लाउंड्रिंग मामले में आरोपी पूर्व मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी के पीए मनोज कुमार को मिली जमानत

रांचीः झारखंड हाई कोर्ट के जस्टिस रंगोन मुखोपाध्याय की अदालत में पूर्व मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी के पीए मनोज कुमार की जमानत पर...

सुप्रीम कोर्ट ने दुष्कर्म के आरोपी से पीड़िता की शादी करने की बात को नकारा, सीजेआई ने कहा- गलत रिपोर्टिंग हुई

नई दिल्लीः दुष्कर्म के आरोपी को पीड़िता से शादी करने के लिए कहने वाली बात को सुप्रीम कोर्ट ने नकारते हुए कहा कि...

शिक्षक नियुक्तिः हाई कोर्ट ने कहा- जेएसएससी का निर्णय सही, खारिज की याचिका

रांचीः झारखंड हाई कोर्ट के जस्टिस संजय कुमार द्विवेदी की अदालत में हाई स्कूल शिक्षक नियुक्ति मामले में उम्र को चुनौती देने...

सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों से पूछा- 50 फीसद से ज्यादा आरक्षण देना सही या नहीं?

नई दिल्ली। मराठा आरक्षण (Maratha reservation) मामले में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने सोमवार को सभी राज्य सरकारों को नोटिस जारी कर...