पूर्व डीजीपी डीके पांडेय की जमीन की जमाबंदी रद करने के मामले में हाईकोर्ट ने सरकार से मांगा जवाब

जमीन की प्रकृति गैरमजरूआ परती हैं। सरकारी जमीन होने के कारण इसकी जमाबंदी नहीं हो सकती है।

रांची। झारखंड के जस्टिस राजेश शंकर की अदालत में Former DGP DK Pandey पूर्व डीजीपी डीके पांडेय की पत्नी पूनम पांडेय के नाम से खरीदी गई जमीन की जमाबंदी रद करने के खिलाफ दाखिल याचिका पर सुनवाई हुई। सुनवाई के बाद अदालत ने इस मामले में राज्य सरकार से जवाब मांगा है। साथ ही अदालत ने एक दूसरे मामले के साथ इस केस को टैग करने का आदेश दिया है।

इसको लेकर पूनम पांडेय ने हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की है। डीजीपी की पत्नी पूनम पांडेय ने कांके अंचल के चामा मौजे में जमीन की खरीदारी की है। आरोप है कि उक्त जमीन गैरमजरूआ परती है और जमीन की अवैध तरीके से जमाबंदी कराई गई है।

इसे भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट का फैसला, संदेह कितना भी मजबूत हो, सबूत नहीं बन सकता, जानिए पूरा मामला

इसको लेकर कांके सीओ की ओर से पूनम पांडेय एक नोटिस भेजा गया है। इसमें कहा गया है। जमीन की प्रकृति गैरमजरूआ परती हैं। सरकारी जमीन होने के कारण इसकी जमाबंदी नहीं हो सकती है। क्यों आपकी जमाबंदी रद कर दी जाए। पूनम पांडे की ओर से उक्त नोटिस को हाईकोर्ट में चुनौती देते हुए उसे रद करने की मांग की गई है।

Most Popular

मनी लाउंड्रिंग मामले में आरोपी पूर्व मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी के पीए मनोज कुमार को मिली जमानत

रांचीः झारखंड हाई कोर्ट के जस्टिस रंगोन मुखोपाध्याय की अदालत में पूर्व मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी के पीए मनोज कुमार की जमानत पर...

सुप्रीम कोर्ट ने दुष्कर्म के आरोपी से पीड़िता की शादी करने की बात को नकारा, सीजेआई ने कहा- गलत रिपोर्टिंग हुई

नई दिल्लीः दुष्कर्म के आरोपी को पीड़िता से शादी करने के लिए कहने वाली बात को सुप्रीम कोर्ट ने नकारते हुए कहा कि...

शिक्षक नियुक्तिः हाई कोर्ट ने कहा- जेएसएससी का निर्णय सही, खारिज की याचिका

रांचीः झारखंड हाई कोर्ट के जस्टिस संजय कुमार द्विवेदी की अदालत में हाई स्कूल शिक्षक नियुक्ति मामले में उम्र को चुनौती देने...

सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों से पूछा- 50 फीसद से ज्यादा आरक्षण देना सही या नहीं?

नई दिल्ली। मराठा आरक्षण (Maratha reservation) मामले में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने सोमवार को सभी राज्य सरकारों को नोटिस जारी कर...