एसोसिएशन की बातों को नहीं मानने वाले अधिवक्ताओं पर लिया जा सकता है कठोर निर्णय

रांची जिला बार एसोसिएशन के निर्णय की अनदेखी करने वाले अधिवक्ताओं एवं नोटरी पब्लिक के विरुद्ध कार्यकारिणी समिति कठोर निर्णय लेगी। बार एसोसिएशन के महासचिव कुन्दन प्रकाशन एवं प्रशासनिक सचिव पवन रंजन खत्री का कहना है कि जो भी अधिवक्ता बंधु या नोटरी पब्लिक न्यायिक कार्य में लीन हैं, उनकी पहचान की जा रही है।

इनके बाद इन अधिवक्ताओं को अधिवक्ता कल्याण योजनाओं से कम से कम छह माह तक वंचित किया जा सकता है। न्यायिक कार्य से दूर रहने के निर्णय के आठवें दिन सोमवार को भी कुल 67 याचिका/आवेदन ड्रॉप बॉक्स में डाले गए। इसमें से 27 फ्रेश फाइलिंग एवं 40 सत्यापित प्रति एवं अन्य आवेदन शामिल है।

गौरतलब है कि आरडीबीए ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए 20 जुलाई से दो सप्ताह तक न्यायिक कार्यों से दूर रहने का निर्णय लिया था। लेकिन आरडीबीए के निर्णय के विरुद्ध कई अधिवक्ता एवं नोटरी पब्लिक न्यायिक कार्य में लगे हैं। सिविल कोर्ट के अधिवक्ता लगातार निर्णय की अवहेलना कर फाइलिंग के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से मामले की सुनवाई में शामिल हो रहे हैं। एसोसिएशन ने अपने निर्णय के पालन करने का अधिवक्ताओं से पुन: आग्रह किया है।

Most Popular

आक्सीजन व दवाओं के हाहाकार पर सुप्रीम कोर्ट की चिंता, कहा- इमरजेंसी जैसे हालात

New Delhi: कोरोना संक्रमण के बीच लोगों को ऑक्सीजन और दवाइयों नहीं मिलने पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्ती दिखाई है। सुप्रीम...

दिल्ली हाई कोर्ट ने गोपनीयता नीति की जांच के खिलाफ दाखिल व्हाट्सऐप व फेसबुक की याचिका खारिज की

New Delhi: दिल्ली हाई कोर्ट ने व्हाट्स ऐप की नई गोपनीयता नीति की जांच करने के भारत के प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) के...

स्वास्थ्य सचिव कोरोना संक्रमित, जवाब दाखिल करने के लिए हाईकोर्ट से मांगा समय

Ranchi: झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत में गुरुवार को कोरोना संक्रमण से निपटने...

Corona Good News: झालसा ने हर जिले में बनाया वार रूम, फ्री में मिलेंगी दवाएं और चिकित्सकीय सलाह

Ranchi: कार्यकारी अध्यक्ष जस्टिस अपरेश कुमार सिंह के निर्देश पर झालसा ने कोरोना संक्रमण के दूसरे चरण में इलाज को लेकर परेशान...