Home Association एसोसिएशन की बातों को नहीं मानने वाले अधिवक्ताओं पर लिया जा सकता...

एसोसिएशन की बातों को नहीं मानने वाले अधिवक्ताओं पर लिया जा सकता है कठोर निर्णय

रांची जिला बार एसोसिएशन के निर्णय की अनदेखी करने वाले अधिवक्ताओं एवं नोटरी पब्लिक के विरुद्ध कार्यकारिणी समिति कठोर निर्णय लेगी। बार एसोसिएशन के महासचिव कुन्दन प्रकाशन एवं प्रशासनिक सचिव पवन रंजन खत्री का कहना है कि जो भी अधिवक्ता बंधु या नोटरी पब्लिक न्यायिक कार्य में लीन हैं, उनकी पहचान की जा रही है।

इनके बाद इन अधिवक्ताओं को अधिवक्ता कल्याण योजनाओं से कम से कम छह माह तक वंचित किया जा सकता है। न्यायिक कार्य से दूर रहने के निर्णय के आठवें दिन सोमवार को भी कुल 67 याचिका/आवेदन ड्रॉप बॉक्स में डाले गए। इसमें से 27 फ्रेश फाइलिंग एवं 40 सत्यापित प्रति एवं अन्य आवेदन शामिल है।

गौरतलब है कि आरडीबीए ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए 20 जुलाई से दो सप्ताह तक न्यायिक कार्यों से दूर रहने का निर्णय लिया था। लेकिन आरडीबीए के निर्णय के विरुद्ध कई अधिवक्ता एवं नोटरी पब्लिक न्यायिक कार्य में लगे हैं। सिविल कोर्ट के अधिवक्ता लगातार निर्णय की अवहेलना कर फाइलिंग के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से मामले की सुनवाई में शामिल हो रहे हैं। एसोसिएशन ने अपने निर्णय के पालन करने का अधिवक्ताओं से पुन: आग्रह किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ईवीएम में चुनाव चिन्ह की जगह लगे उम्मीदवार की तस्वीर, सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल

दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दाखिल कर इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों से राजनीतिक दलों के चुनाव चिन्ह हटाने और उनके स्थान...

राज्य के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों का हाईकोर्ट में लड़ा जाएगा मुफ्त में मुकदमा

रांची। अगर आप आर्थिक रूप से कमजोर हैं और आपको झारखंड हाईकोर्ट में मुकदमा करना है, तो न तो आपको हाईकोर्ट आना...

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हाथरथ मामले की सीबीआई जांच की निगरानी करेगा इलाहाबाद हाईकोर्ट

दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले की एक दलित लड़की के साथ कथित सामूहिक बलात्कार और फिर...

हाईकोर्ट ने सांसदों और विधायकों के खिलाफ लंबित आपराधिक मामलों की मांगी सूची

जबलपुर। मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने राज्य में पूर्व और मौजूदा सांसदों व विधायकों के खिलाफ लंबित आपराधिक मामलों की सूची मांगी है।...

Recent Comments