रांची। सीएम हेमंत सोरेन से जुड़े शिकायतवाद पर गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे की ओर से सब जज वन वैशाली श्रीवास्तव की अदालत में पक्ष रखा गया। निशिकांत दुबे की ओर से हाईकोर्ट के अधिवक्ता दिवाकर उपाध्याय ने अदालत में अपना जवाब दाखिल किया। निशिकांत दुबे कि ओर से कहा गया कि किसी की भावना को ठेस पहुंचाने की नियत से सोशल मीडिया पर टिप्पणी नहीं की गई थी।

यहां पर वही बातें कही गई, जो सार्वजनिक है। सासंद निशिकांत दुबे ट्वीट करके सिर्फ मामले की जांच की मांग कर रहे थे। गौरतलब है कि पिछले दिनों सांसद निशिकांत दुबे ने सीएम हेमंत सोरेन के खिलाफ ट्वीटर पर कई पोस्ट किए थे। इसको लेकर हेमंत सोरेन ने चार अगस्त को सांसद निशिकांत दुबे, फेसबुक और ट्विटर पर 100-100 करोड़ रुपये मानहानि का दावा किया था।

इसे भी पढ़ेंः कथित फर्जी मुठभेड़ में सीआरपीएफ के सहायक कमांडेंट की गिरफ्तारी पर लगी रोक

सुनवाई के बाद 13 अक्टूबर को प्रतिवादी बनाए गए सांसद निशिकांत दुबे और फेसबुक ने जवाब दाखिल करने के लिए अदालत से एक सप्ताह का समय मांगा। प्रतिवादियों के आग्रह को स्वीकार करते हुए सुनवाई के लिए अदालत ने 20 अक्टूबर की तिथि निर्धारित की। हालांकि, सीएम हेमंत सोरेन के अधिवक्ता अदालत नहीं आए और न ही फेसबुक और ट्विटर की ओर से ही जवाब दाखिल किया गया है। वादी के अधिवक्ता के उपस्थित नहीं रहने के कारण अब इस मामले में दुर्गा पूजा के अवकाश के बाद सुनवाई होगी।