कोरोना संक्रमण के चलते होटवार जेल के 58 विचाराधीन कैदी जमानत पर होंगे रिहा

रांची। कोरोना संकट को देखते हुए होटवार जेल से 58 विचाराधीन कैदियों को जमानत पर रिहा किया जाएगा। इसको लेकर प्रक्रिया प्रारंभ कर दी गई है। जिला विधिक सेवा प्राधिकार (डालसा) की ओर से संबंधित अदालतों में जमानत आवेदन दाखिल किया गया है।

यह प्रक्रिया सुप्रीम कोर्ट के आदेश के आलोक में की जा रही है। सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना संकट को देखते हुए सभी राज्यों की जेलों में कैदियों भीड़ को कम करने के लिए उच्चस्तरीय कमेटी बनाने का निर्देश दिया था।

इसके तहत झारखंड में भी एक उच्चस्तरीय कमेटी का गठन किया गया है। उच्च स्तरीय कमेटी के अध्यक्ष एचसी मिश्रा, मुख्य सचिव सुखदेव सिंह व जेल आईजी शशि रंजन ने इसको लेकर बैठक की और सात वर्ष तक की सजा वाले विचाराधीन बंदियों को जमानत पर रिहा करने के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकार 9 अप्रैल को 2020 लिखा था। 

उच्चस्तरीय कमेटी के आदेश के बाद न्यायायुक्त नवनीत कुमार ने रांची जेल अधीक्षक विचाराधीन कैदियों की सूची बनाने का आदेश दिया गया था। तीन महीने में 182 जमानत आवेदन डालसा को मिले जिसमें अभी तक कुल 130 कैदियों का रिहा कराया गया।

हाल ही में बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा से नए विचाराधीन कैदियों के 58 आवेदन डालसा को मिले हैं, जिन्हें विधिक सहायता प्रदान की जायेगी। न्यायायुक्त नवनीत कुमार ने निर्देश दिया गया है कि जमानत मिलने के बाद विचाराधीन कैदियों को घर जाने के लिए यातायात की सुविधा दी जाए।

वहीं जेल से बाहर निकलने के बाद कैदी लॉकडाउन के नियमों का पालन करें।

Most Popular

34th National Games Scam: आरके आनंद को लगा झटका, एसीबी कोर्ट ने खारिज की अग्रिम जमानत

Ranchi: 34वें राष्ट्रीय खेल घोटाले (34th National Games Scam) के आरोपी आरके आनंद (RK Anand) को बड़ा झटका लगा है। एसीबी कोर्ट...

6th JPSC Exam: जेपीएससी ने एकलपीठ के आदेश के खिलाफ दाखिल की अपील, कहा- मेरिट लिस्ट में कोई गड़बड़ी नहीं

Ranchi: झारखंड लोक सेवा आयोग (JPSC) की ओर से छठी जेपीएससी परीक्षा (6th JPSC) के मेरिट लिस्ट को निरस्त करने के एकल...

वित्तीय अनियमितता के मामले में सीयूजे के चिकित्सा पदाधिकारी के खिलाफ चलेगी विभागीय कार्रवाई, एकलपीठ का आदेश निरस्त

Ranchi: झारखंड हाईकोर्ट (Jharkhand High Court) ने केंद्रीय विश्वविद्यालय, झारखंड (CUJ) के एक मामले में एकलपीठ के आदेश को निरस्त कर दिया...

21 साल से लड़ रहे थे तलाक की लड़ाई, सीजेआई की ये बात सुन साथ रहने को राजी हो गए पति-पत्नी

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court of India) ने 21 साल साल से कानूनी लड़ाई लड़ रहे आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के...