Lalu Yadav Release: जमानत मिलने के दो सप्ताह बाद जेल से बाहर आए लालू यादव

Lalu Yadav Bail, Lalu Release चारा घोटाले मामले में सजायाफ्ता राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को कस्टडी से रिहा कर दिया गया।

Ranchi: Lalu Yadav Bail, Lalu Release चारा घोटाले मामले में सजायाफ्ता राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को कस्टडी से रिहा कर दिया गया। सीबीआइ कोर्ट की ओर से जारी रिलीज आदेश को जेल अथॉरिटी की ओर से एम्स भेजा गया। इसके बाद उन्हें जेल से रिहा कर दिया गया। हालांकि लालू यादव एम्स से कब निकलेंगे यह चिकित्सकों की सलाह के बाद निर्धारित होगा। लालू यादव दुमका कोषागार से जुड़े मामले में 19 मार्च 2018 से सजा काट रहे थे।

झारखंड हाई कोर्ट ने 17 अप्रैल को दुमका वाले मामले में जमानत की सुविधा प्रदान की थी। लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए स्टेट बार काउंसिल के निर्देश पर अधिवक्ताओं के कार्य नहीं किए जाने के कारण बेल बॉड नहीं भरा जा सका था। पिछले दिनों बार काउंसिल आफ इंडिया के आदेश के आलोक में गुरुवार को लालू प्रसाद के पैरवीकार अधिवक्ता ने दो निजी मुचलके दाखिल किया। जिसे कोर्ट सही पाकर बिरसा मुंडा केन्द्रीय कारा होटवार के जेल अधीक्षक को भेज दिया।

इसे भी पढ़ेंः सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हिस्ट्रीशीटरों को जमानत देते समय आंखों पर पट्टी बांधने वाला नजरिया न अपनाएं अदालतें

साथ ही लालू प्रसाद को जेल से छोड़ने का आदेश जारी किया। इस मामले में सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश शिवपाल सिंह की अदालत ने लालू प्रसाद को दो धाराओं में सात-सात की सजा सुनाई थी। कोर्ट ने दोनों सजाओं को अलग-अलग काटने का निर्देश दिया था। इसी मामले में लालू प्रसाद जेल में थे। बता दें कि कोरोना महामारी के कारण स्टेट बार काउंसिल के निर्देश पर अधिवक्ता अपने आप को न्यायिक कार्य से अलग रखे हुए थे।

28 अप्रैल को बीसीआइ ने आदेश जारी किया कि वैसे मामले में जिनको ऊपरी अदालत ने जमानत की सुविधा दे दी है। निचली अदालत में बेल बांड भरने की अनुमित दी जाती है। अधिवक्ता या अधिवक्ता लिपिक को बेल बॉड भरने की छूट दी जाती है। इसी निर्देश के आलोक में लालू प्रसाद की ओर से बेल बांड भरा गया। लालू के अधिवक्ता प्रभात कुमार ने बताया कि रिलीज ऑर्डर जेल चला गया। वहीं से दिल्ली स्थिति एम्स को ई-मेल के जरिए भेज दिया गया है। जहां पर लालू प्रसाद इलाज चल रहा है। इधर, जेल आइजी वीरेंद्र भूषण ने कहा कि लालू प्रसाद को गुरुवार को ही रिहा कर दिया गया।

Most Popular

हाई कोर्ट की तल्ख टिप्पणी- ऑक्सीजन की कमी से संक्रमित मरीजों की मौत नरसंहार से कम नहीं

Uttar Pradesh: ऑक्सीजन संकट पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने एक सख्त टिप्पणी करते हुए अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति न होने से...

हाई कोर्ट ने निर्माण कंपनी से पूछा- रांची सदर अस्पताल में कितने दिनों में होगी ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक की व्यवस्था

Ranchi: हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत ने सदर अस्पताल में ऑक्सीजनयुक्त बेड शुरु होने...

हाई कोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला, कहा- तलाक के मामले में फैमिली कोर्ट एक्ट सभी धर्मों पर होगा लागू; निचली कोर्ट को सुनवाई का अधिकार

Ranchi: झारखंड हाई कोर्ट ने एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए कहा है कि फैमिली कोर्ट एक सेक्युलर कोर्ट है। फैमिली कोर्ट एक्ट...

Oxygen Shortage: सुप्रीम कोर्ट की केंद्र सरकार को फटकार, कहा- नाकाम अफसरों को जेल में डालें या अवमानना के लिए रहें तैयार

New Delhi: Oxygen Shortage News: देश में लगातार बढ़ते कोरोना मरीजों के चलते राजधानी दिल्ली समेत देश भर में ऑक्सीजन के लिए...