processApi - method not exist
Home Jharkhand अनाथ बच्चों के पुनर्वास पर बोले सीएम हेमंत सोरेन, बाल तस्करी रोकने...

अनाथ बच्चों के पुनर्वास पर बोले सीएम हेमंत सोरेन, बाल तस्करी रोकने के लिए गांवों में महिला एसपीओ की होगी नियुक्ति

Shishu Project Jhalsa बाल तस्करी रोकने के लिए राज्य के गांवों में महिला एसपीओ नियुक्त की जाएंगी। महिला एसपीओ गांव के बच्चों पर नजर रखने के साथ- साथ तस्करों पर नजर रखेंगी।

Ranchi: Shishu Project Jhalsa बाल तस्करी रोकने के लिए राज्य के गांवों में महिला एसपीओ नियुक्त की जाएंगी। महिला एसपीओ गांव के बच्चों पर नजर रखने के साथ- साथ तस्करों पर नजर रखेंगी। यदि बच्चों की तस्करी का प्रयास किया जाए तो वह संबंधित अधिकारी और पुलिस को सूचना देंगी, ताकि बाल तस्करी रोकी जा सके और तस्करी करने वालों की पहचान कर उन पर कार्रवाई की जा सके।

मुख्ययमंत्री हेमंत सोरेन ने यह बात रविवार को झालसा की ओर से कोविड में अनाथ हुए बच्चों के पुनर्वास के लिए चलाए जा रहे प्रोजेक्ट शिशु पर हुए सेमिनार में कही। ऑनलाइन हुए इस सेमिनार में झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस, झालसा के कार्यकारी अध्यक्ष, जस्टिस अपरेश कुमार सिंह, हाईकोर्ट लीगल सर्विसेज कमेटी के अध्यक्ष जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद, मुख्य सचिव, सभी जिलों के एसपी और अन्य न्यायिक अधिकारी शामिल हुए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना से देश के साथ-साथ झारखंड ने भी त्रासदी झेली है। कोरोना से कई बच्चों ने अपने माता- पिता और अभिभावकों को खोया है। ऐसे अनाथ बच्चों के संपूर्ण विकास और पुनर्वास के लिए झालसा ने प्रोजेक्ट शिशु लांच कर सराहनीय कार्य किया है। उन्होंने कहा कि ऐसे बच्चों को पूरी तरह घर का माहौल मिले और वह खुद को सहज महसूस करे इसके लिए सरकार भी तैयारी कर रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना में कई बच्चे अनाथ हुए हैं। ऐसे बच्चों का परवरिश और पुनर्वास देना सरकार का कर्तव्य है और सरकार यह कर भी रही है। दूसरे मामले में भी जो बच्चे अनाथ हुए हैं उन्हें भी सरकार विभिन्न योजनाओं का लाभ देकर उनके पुनर्वास की व्यवस्था पहले से कर रही है। सरकार बच्चों के प्रति पूरी तरह संवेदनशील है।

इसे भी पढ़ेंः अग्रवाल बंधु हत्याकांडः अभियुक्त लोकेश चौधरी ने हाईकोर्ट से लगाई जमानत की गुहार

कोरोना ने कई घरों को उजाड़ दियाः चीफ जस्टिस
चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन ने कहा कि कोरोना पूरी दुनिया के लिए त्रासदी बन कर आयी है। इस महामारी ने कई घरों को उजाड़ दिया है। कई ऐसे बच्चे हैं जिन्होंने इस बीमारी में अपना मां- पिता और अपने अभिभावकों को खो दिया है। अब इन बच्चों का पुनर्वास करना, उनकी शिक्षा, चिकित्सा, भोजन के साथ उनका संपूर्ण विकास करना हमारा दायित्व है। अनाथ हुए बच्चों को संपूर्ण विकास हमारी प्राथमिकता है ।

208 बच्चों को मिला लाभः जस्टिस अपरेश कुमार सिंह
झालसा के कार्यकारी अध्यक्ष जस्टिस अपरेश कुमार सिंह ने कहा कि कोरोना ने कई बच्चों को अनाथ किया है। झालसा ने अब तक 208 बच्चों को प्रोजेक्ट शिशु के तहत लाभ देते हुए इस प्रोजेक्ट से जोड़ा है। 200 और बच्चों को चिन्हित किया गया है। सरकार और जिला प्रशासन के साथ मिल कर इन बच्चों का पुनर्वास किया जा रहा है।

इस योजना का उद्देश्य बच्चों को शिक्षा, चिकित्सा, पारिवारिक माहौल देना है। अनाथ बच्चों को पहले उनके रिश्तेदारों के पास रखने का प्रयास होता है। यदि कोई रिश्तेदार न हो उन्हें गोद दिया जाता है। ऐसे बच्चों का संपूर्ण विकास के साथ उनकी मॉनिटरिंग भी की जाती है और समय समय पर सरकारी अधिकारी और डालसा के लोग जाकर बच्चों से मिलते भी हैं।

इस योजना के तहत पहले बच्चों की पहचान की जाती है। फिर वैधानिक प्रक्रिया पूरी की जाती है। इसके बाद उनका समेकित पुनर्वास किया जाता है फिर देख रेख होती है। झारखंड हाईकोर्ट के जज और हाईकोर्ट लीगल सर्विसेज कमेटी के अध्यक्ष जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद ने कहा कि कोरना की त्रासदी से कोहराम मचा है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार राज्य में 234 बच्चे कोरोना काल में अनाथ हुए हैं।

इसे भी पढ़ेंः हाईकोर्ट ने कहा- परिवहन कर्मियों के मामले में कोर्ट के आदेश के पालन करे सरकार

इन बच्चों की ट्रैफिकिंग न हो इसके लिए सतर्क होना होगा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने पीएम केयर ऑफ चिल्ड्रेन स्कीम लांच की है। इसमें अनाथ हुए बच्चों को दस लाख तक का लाभ दिए जाने का प्रावधान है। अनाथ हुए बच्चों को सभी योजनाओं का लाभ देकर उनका पुनर्वास किया जाना चाहिए, ताकि सम्मान के साथ वह रह सकें।

उन्होंने कहा कि बच्चों को गोद लेने की प्रक्रिया का सरलीकरण किया जाना चाहिए, लेकिन इस बात का ध्यान भी रखना होगा उनके साथ कोई गलत व्यवहार न हो। झालसा का यह प्रयास सराहनीय है।
कार्यक्रम में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन ने बाल संरक्षण, बाल अधिकार, सीडबल्यूसी, जुबिनाइल जस्टिस, स्पोंसरशिप, फोस्टर स्कीम से संबंधित पत्रिकाओं का लोकार्पण भी किया। इनमें बच्चों के अधिकार से संबंधित कानून और योजनाओं की जानकारी दी गयी है।

सोनाहातू और बेड़ो की विधवा और बच्चों को लाभ मिला
समारोह के दौरान सोनाहातू और बेड़ो की विधवा और बच्चों को विभिन्न योजनाओं का लाभ दिया गया। विधवा पेंशन, लक्ष्मी लाडली योजना का लाभ दिया गया। साथ ही बच्चों को स्कूल किट भी प्रदान किया गया।

RELATED ARTICLES

महाधिवक्ता के जूनियर अधिवक्ता दीपांकर राय के साथ नामकुम में मारपीट

Ranchi: चार दिन पहले वकील मनोज कुमार झा की हत्या, धनबाद के जज उत्तम आनंद की हत्या के बाद गुरुवार की रात...

जज हत्याः हाईकोर्ट के आदेश पर बनी एसआईटी, ऑटो चालक सहित दो गिरफ्तार

Ranchi: झारखंड हाईकोर्ट के आदेश के तत्काल बाद ही धनबाद जज उत्तम आनंद की हत्या के मामले में डीजीपी नीरज सिन्हा ने...

मैनहर्ट घोटालाः पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास को एसीबी ने भेजा नोटिस

Ranchi: Manhart Scam Case In Jharkhand मैनहर्ट को परामर्शी नियुक्त किए जाने के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास की मुश्किलें बढ़ती...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

ANM Exam: हाई कोर्ट ने कहा- सभी छात्रों को 18 मई तक जारी करें एडमिट कार्ड

ANM Exam: झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस संजय कुमार द्विवेदी की अदालत में एएनएम और जीएनएम की परीक्षा का एडमिट कार्ड रद किए...

CM Lease case: हाई कोर्ट ने पूछा- रांची डीसी को खनन विभाग के व्यक्तिगत जानकारी कैसे

CM Lease case: झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की अदालत में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन...

IAS Pooja Singhal case: ईडी ने कोर्ट से कहा- बड़े अधिकरियों और सत्ता के लोगों की भूमिका संदिग्ध

IAS Pooja Singhal case: खूंटी में वर्ष 2010 में हुए मनरेगा घोटाले की करोड़ों की राशि तत्कालीन उपायुक्त पूजा सिंघल को मिली...

JSSC News: प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के लिए आवेदन की तिथि बढ़ी, अभ्यर्थियों को बड़ी राहत

JSSC News: झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस राजेश शंकर की अदालत में स्नातक स्तरीय संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा में प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के...