processApi - method not exist
Home Supreme Court News हमें जुर्माना लगाना होगा...जब मुवक्किल को गलत सलाह देने पर वकीलों पर...

हमें जुर्माना लगाना होगा…जब मुवक्किल को गलत सलाह देने पर वकीलों पर भड़का सुप्रीम कोर्ट

Supreme court News सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वकीलों द्वारा मुवक्किलों को बेईमानी पूर्ण सलाह देने की प्रवृत्ति पर अंकुश लगाने की जरूरत है।

New Delhi: Supreme court News सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वकीलों द्वारा मुवक्किलों को बेईमानी पूर्ण सलाह देने की प्रवृत्ति पर अंकुश लगाने की जरूरत है। यह पहला मौका है जब देश की सर्वोच्च अदालत ने वकीलों के खिलाफ ऐसी टिप्पणी की है। गौरतलब है कि वकील के खिलाफ बार काउंसिल में शिकायत की जा सकती है। वकील ग्राहक संरक्षण कानून के दायरे में नहीं आते।

जस्टिस डी वाई चंद्रचूड आर सुभाष रेड्डी और रवींद्र भट की पीठ पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट की एक पीठ के मार्च के फैसले के खिलाफ एसएलपी पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें उसने एकल पीठ के उस फैसले की पुष्टि की थी। इसमें याचिकाकर्ताओं को केंद्र सरकार के कर्मचारी होने के कारण कैट के माध्यम से वैकल्पिक राहत के लिए भेज दिया था।

कोर्ट ने कहा कि इन याचिकाकर्ताओं को वकीलों ने कैट में जाने के बजाए हाईकोर्ट के समक्ष रिट याचिका दायर करने और फिर एसएलपी में सर्वोच्च न्यायालय में आने के लिए गुमराह किया है। इन लोगों को हुई परेशानी को देखें। अधिवक्ता ने हाईकोर्ट में एक रिट याचिका के लिए संक्षिप्त विवरण स्वीकार कर लिया। जब वह खारिज कर दिया गया, तो वे एक एसएलपी में सर्वोच्च न्यायालय में आए। वकीलों द्वारा उपभोक्ताओं को फिजूल सलाह देने की इस प्रथा पर अंकुश लगाने की आवश्यकता है।

इसे भी पढ़ेंः बड़ी राहतः डेढ़ साल बाद सुप्रीम कोर्ट कक्ष में आमने-सामने हो सकेगी बहस

कोर्ट ने कहा कि 20 वर्ष पहले एलचंद्र कुमार मामले में यह तय किया गया है कि जहां एक विकल्प, समान रूप से प्रभावी उपाय उपलब्ध है उसमें एक रिट याचिका सुनवाई योग्य नहीं होगी। इन लोगों की दुर्दशा को देखो जो चार साल से इधर-उधर घूम रहे हैं। हमें जुर्माना लगाना होगा और वकीलों के खिलाफ सख्ती करनी होगी।

कोर्ट ने कहा कि यदि इस आदेश की तारीख से दो महीने की अवधि के अंदर ट्रिब्यूनल के समक्ष कर्मचारी अपील दायर करते है, तो ट्रिब्यूनल योग्यता के आधार पर विचार कर सकता है। ये 30 कर्मचारी डाक विभाग के हैं। कुछ ने सेवा से बर्खास्तगी/हटाने के आदेश को चुनौती दी थी; कुछ मामलों में, दायर की गई वैधानिक अपील को भी खारिज कर दिया गया है; कुछ रिट याचिकाओं में, याचिकाकर्ताओं ने अनुशासनात्मक कार्यवाही शुरू करने के लिए जारी आरोप-पत्र को चुनौती दी है; कुछ में, याचिकाकर्ता नियुक्ति के लिए अपात्र पाए गए थे।

RELATED ARTICLES

Murder on singhu border: सिंघु बॉर्डर में युवक की हत्या का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, याचिका में बॉर्डर खाली कराने की मांग

New Delhi: Murder on singhu border दिल्ली में सिंघु बॉर्डर पर हुए युवक की हत्या का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है।...

चीनी मिल पर एनजीटी ने लगाया 20 करोड़ का जुर्माना, सुप्रीम कोर्ट ने आदेश पर लगाई रोक

New Delhi: NGT सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश स्थित धामपुर शुगर मिल्स लिमिटेड की चार इकाइयों पर 20 करोड़ रुपये का जुर्माना...

सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणीः निजी हित रखने वाला नहीं दाखिल कर सकता पीआईएल

New Delhi: Supreme Court सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि किसी पद के लिए प्रत्याशी इससे संबंधित मामले में जनहित याचिका दाखिल...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Promotion: हाईकोर्ट ने पूछा- एसडीओ पद पर प्रोन्नति की अधिसूचना जारी होगी या नहीं, स्थिति स्पष्ट करे सरकार

Ranchi: Promotion झारखंड हाईकोर्ट (Jharkhand High Court) के जस्टिस डॉ एसएन पाठक की अदालत में डिप्टी कलेक्टर से एसडीओ (SDO) पद पर...

Land dispute: हाईकोर्ट ने कहा- राहत बढ़ाने के लिए दाखिल करें आवेदन, पूर्व डीजीपी की पत्नी पूनम पांडेय से जुड़ा मामला

Ranchi: Land dispute झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस राजेश शंकर की अदालत में राज्य के पूर्व डीजीपी डीके पांडेय की पत्नी पूनम पांडेय...

Police appointment: चार हजार से ज्यादा पुलिसकर्मियों ने दाखिल की हस्तक्षेप याचिका, 29 नवंबर को होगी सुनवाई

Ranchi: Police appointment झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत में सिपाही नियुक्ति नियमावली को चुनौती...

SDO promotion: हाईकोर्ट ने पूछा- अनुशंसा के बाद क्यों नहीं जारी हुई अधिसूचना, सरकार आज देगी जवाब

Ranchi: SDO promotion झारखंड के डिप्टी कलेक्टर से एसडीओ पद पर प्रोन्नति की अनुशंसा के बाद अधिसूचना नहीं जारी करने के मामले...