हमें जुर्माना लगाना होगा…जब मुवक्किल को गलत सलाह देने पर वकीलों पर भड़का सुप्रीम कोर्ट

Supreme court News सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वकीलों द्वारा मुवक्किलों को बेईमानी पूर्ण सलाह देने की प्रवृत्ति पर अंकुश लगाने की जरूरत है।

New Delhi: Supreme court News सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वकीलों द्वारा मुवक्किलों को बेईमानी पूर्ण सलाह देने की प्रवृत्ति पर अंकुश लगाने की जरूरत है। यह पहला मौका है जब देश की सर्वोच्च अदालत ने वकीलों के खिलाफ ऐसी टिप्पणी की है। गौरतलब है कि वकील के खिलाफ बार काउंसिल में शिकायत की जा सकती है। वकील ग्राहक संरक्षण कानून के दायरे में नहीं आते।

जस्टिस डी वाई चंद्रचूड आर सुभाष रेड्डी और रवींद्र भट की पीठ पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट की एक पीठ के मार्च के फैसले के खिलाफ एसएलपी पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें उसने एकल पीठ के उस फैसले की पुष्टि की थी। इसमें याचिकाकर्ताओं को केंद्र सरकार के कर्मचारी होने के कारण कैट के माध्यम से वैकल्पिक राहत के लिए भेज दिया था।

कोर्ट ने कहा कि इन याचिकाकर्ताओं को वकीलों ने कैट में जाने के बजाए हाईकोर्ट के समक्ष रिट याचिका दायर करने और फिर एसएलपी में सर्वोच्च न्यायालय में आने के लिए गुमराह किया है। इन लोगों को हुई परेशानी को देखें। अधिवक्ता ने हाईकोर्ट में एक रिट याचिका के लिए संक्षिप्त विवरण स्वीकार कर लिया। जब वह खारिज कर दिया गया, तो वे एक एसएलपी में सर्वोच्च न्यायालय में आए। वकीलों द्वारा उपभोक्ताओं को फिजूल सलाह देने की इस प्रथा पर अंकुश लगाने की आवश्यकता है।

इसे भी पढ़ेंः बड़ी राहतः डेढ़ साल बाद सुप्रीम कोर्ट कक्ष में आमने-सामने हो सकेगी बहस

कोर्ट ने कहा कि 20 वर्ष पहले एलचंद्र कुमार मामले में यह तय किया गया है कि जहां एक विकल्प, समान रूप से प्रभावी उपाय उपलब्ध है उसमें एक रिट याचिका सुनवाई योग्य नहीं होगी। इन लोगों की दुर्दशा को देखो जो चार साल से इधर-उधर घूम रहे हैं। हमें जुर्माना लगाना होगा और वकीलों के खिलाफ सख्ती करनी होगी।

कोर्ट ने कहा कि यदि इस आदेश की तारीख से दो महीने की अवधि के अंदर ट्रिब्यूनल के समक्ष कर्मचारी अपील दायर करते है, तो ट्रिब्यूनल योग्यता के आधार पर विचार कर सकता है। ये 30 कर्मचारी डाक विभाग के हैं। कुछ ने सेवा से बर्खास्तगी/हटाने के आदेश को चुनौती दी थी; कुछ मामलों में, दायर की गई वैधानिक अपील को भी खारिज कर दिया गया है; कुछ रिट याचिकाओं में, याचिकाकर्ताओं ने अनुशासनात्मक कार्यवाही शुरू करने के लिए जारी आरोप-पत्र को चुनौती दी है; कुछ में, याचिकाकर्ता नियुक्ति के लिए अपात्र पाए गए थे।

Most Popular

बुढ़ी मां को प्रॉपर्टी से बेदखल करने की कोशिश करने हाईकोर्ट ने बेटे पर लगाया एक लाख का जुर्माना

Chandigarh: अपनी बुढ़ी मां को मकान से बेदखल करने की कोशिश करने के मामले में पंजाब-हरियाणा हाई कोर्ट ने बेटे पर एक...

Raj Kundra Case: हाईकोर्ट में सरकारी वकील का दावा, राज कुंद्रा से पुलिस को मिलीं 51 पॉर्न फिल्में

Mumbai: पॉर्न फिल्में बनाने के आरोपी राज कुंद्रा (Raj Kundra) की ओर गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली याचिका पर बॉम्बे हाई कोर्ट...

सपा सांसद आजम खां की जमानत पर बहस पूरी, चार अगस्त को आएगा फैसला

Rampur: निचली अदालत में शत्रु संपत्ति को कब्जाने के मामले में सपा सांसद आजम खां की ओर से दाखिल की गई जमानत...

यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या के खिलाफ मुकदमों पर सीजेएम की कोर्ट करेगी सुनवाई

Prayagraj: उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कराए जाने को लेकर शिकायतवाद की सुनवाई एसीजेएम की...