processApi - method not exist
Home high court news कलकत्ता हाई कोर्ट के जस्टिस की वर्चुअल सुनवाई के दौरान खराब कनेक्टिविटी...

कलकत्ता हाई कोर्ट के जस्टिस की वर्चुअल सुनवाई के दौरान खराब कनेक्टिविटी पर सख्त टिप्पणी, मजाक बना दिया..स्टेज शो के लिए सर्कस में नहीं बैठूंगा..

जस्टिस ने कहा कि सुनवाई को मजाक बना दिया गया है। यह जनता को दिखाने के लिए एक सर्कस मात्र बन गया है।

Kolkatta: कलकत्ता हाईकोर्ट के जस्टिस सब्यसाची भट्टाचार्य ने सुनवाई के दौरान बार-बार नेट कनेक्टिविटी में समस्या आने पर सख्त टिप्पणी की है। जस्टिस ने कहा कि सुनवाई को मजाक बना दिया गया है। यह जनता को दिखाने के लिए एक सर्कस मात्र बन गया है। जस्टिस सब्यसाची भट्टाचार्य ने आखिरकार कनेक्टिविटी के प्रभारी अधिकारी को फोन किया और उन्हें बार-बार लिंक विफलताओं को लेकर स्पष्टीकरण मांगा है। सुनवाई लगभग 11.10 बजे शुरू हुई और ऑनलाइन कार्यवाही लगभग 15 बार बाधित हुई।

जस्टिस भट्टाचार्य ने कहा, ‘जब तक मुद्दों का पूरी तरह से समाधान नहीं हो जाता, मैं खाली स्टेज शो आयोजित करने के लिए अदालत में नहीं बैठूंगा। आदेश की एक प्रति कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश राजेश बिंदल और अदालत के रजिस्ट्रार-जनरल को भेजी जाए।’ जस्टिस ने कहा, ‘यह अदालत तब तक बैठने में असमर्थ है जब तक कि कनेक्टिविटी के मुद्दे पूरी तरह से हल नहीं हो जाते। मैं स्पष्ट रूप से इस तरह के सर्कस का हिस्सा बनने से इनकार करता हूं क्योंकि मैंने वादियों को न्याय दिलाने की शपथ ली है, जो अदालत के बाहर खड़े हैं। न्यायाधीशों के लिए एसी कमरे हैं। वादी बाहर धूप और धूल में मेहनत कर रहे हैं।’

इसे भी पढ़ेंः गोपाल शर्मा की जमानत याचिका पर कोर्ट की सख्त टिप्पणी-‘हम कोरोना से लड़ें या इन जैसे लोगों से जो नफरत से भरे हैं’

जस्टिस भट्टाचार्य ने अपने आदेश में कहा, ‘वर्चुअल सुनवाई सुविधाओं के बारे में लंबी-चौड़ी बातों के बावजूद, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि यह अदालत उचित रूप से न्याय सुनिश्चित करने के लिए न्यूनतम वर्चुअल सेवाएं और कनेक्टिविटी प्रदान करने में असमर्थ है।’ जस्टिस भट्टाचार्य ने कहा कि वह व्यक्तिगत रूप से दोषी महसूस करते हैं क्योंकि अदालतों के कामकाज में व्यवधान और हस्तक्षेप, चाहे वह किसी भी रूप में हो, आपराधिक अवमानना हो सकता है।

उन्होंने कहा, ‘यह एक नियमित विशेषता बन गई है और मुझे शर्म आती है कि हमारे सम्मानित चार्टर्ड हाई कोर्ट, जिसका एक शानदार इतिहास है, को इस तरह से महत्वहीन किया जा रहा है कि हम केवल कनेक्टिविटी मुद्दों के कारण वादियों को न्याय नहीं दे सकते हैं। वकीलों और वादियों दोनों का कहना है कि कनेक्टिविटी के मुद्दे और ऑडियो और विजुअल सिस्टम में इलेक्ट्रॉनिक हस्तक्षेप एक नियमित विशेषता बन गई है।

RELATED ARTICLES

जेएसएससी नियुक्ति में राज्य के संस्थान से 10वीं व 12वीं की परीक्षा पास होने की अनिवार्य शर्त पर झारखंड सरकार कायम

झारखंड हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस डा रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की खंडपीठ में जेपीएससी परीक्षा नियुक्ति में दसवीं और...

छात्र विनय महतो हत्याकांडः पिता ने लड़ी चार साल की कानूनी लड़ाई, अब 12 साल के बेटे के हत्यारों का खुलेगा राज सीबीआई करेगी...

छात्र विनय महतो हत्याकांड- पिता ने लड़ी चार साल की कानूनी लड़ाईः सफायर इंटरनेशनल स्कूल के छात्र विनय महतो की हत्या मामले...

ANM Exam: हाई कोर्ट ने कहा- सभी छात्रों को 18 मई तक जारी करें एडमिट कार्ड

ANM Exam: झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस संजय कुमार द्विवेदी की अदालत में एएनएम और जीएनएम की परीक्षा का एडमिट कार्ड रद किए...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

जेएसएससी नियुक्ति में राज्य के संस्थान से 10वीं व 12वीं की परीक्षा पास होने की अनिवार्य शर्त पर झारखंड सरकार कायम

झारखंड हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस डा रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की खंडपीठ में जेपीएससी परीक्षा नियुक्ति में दसवीं और...

ईडी को ललकारने वाले सीएम हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा से छह दिन होगी पूछताछ

अवैध खनन और टेंडर मैनेज करने से जुड़े मनी लाउंड्रिंग मामले में गिरफ्तार मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के बरहेट विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा...

6th JPSC Exam: सुप्रीम कोर्ट में बोली झारखंड सरकार, नौकरी से निकाले गए 60 को नहीं कर सकते समायोजित

6th JPSC Exam: छठी जेपीएससी नियुक्ति को लेकर झारखंड हाई कोर्ट के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दाखिल एसएलपी पर सुनवाई...

जांच अधिकारी ने नहीं दी गवाही, पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और पूर्व विधायक निर्मला देवी साक्ष्य के अभाव में बरी

पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और उनकी पत्नी पूर्व विधायक निर्मला देवी समेत चार आरोपी को अदालत ने पर्याप्त साक्ष्य के अभाव में...