processApi - method not exist
Home Civil Court News मुंबई के कोर्ट का फैसला- पत्नी से जबरन सेक्स को गैर कानूनी...

मुंबई के कोर्ट का फैसला- पत्नी से जबरन सेक्स को गैर कानूनी नहीं कह सकते, पति को मिली जमानत

मुंबई की एक अदालत ने फैसले में कहा कि पत्नी से जबरन सेक्स को गैरकानूनी नहीं कहा जा सकता है।

Mumbai: मुंबई की एक अदालत ने फैसले में कहा कि पत्नी से जबरन सेक्स को गैरकानूनी नहीं कहा जा सकता है। सेशन कोर्ट में आरोपी पति ने जमानत याचिका दायर की थी। याचिका में पति ने कहा था कि उसकी पत्नी ने उस पर जो जबरन सेक्स करने का आरोप लगाया है वो गलत है। साथ ही उसने इस मामले में अग्रिम जमानत के लिए आवेदन भी दी थी।

एडिशनल सेशन जज संजयश्री जे घराट ने इस मामले में कहा कि आरोपी व्यक्ति महिला का पति है इसलिए ऐसा नहीं जा सकता है कि उसने कोई गैर कानूनी काम किया है। कोर्ट ने इस मामले में महिला के पति को अग्रिम जमानत भी दे दी है। अभियोजन पक्ष के अनुसार महिला की शादी पिछले साल 22 नवंबर को हुई थी।

महिला ने अपने पति और ससुराल पक्ष के खिलाफ पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज करते हुए आरोप लगाया था कि उसका पति और ससुराल पक्ष के लोग शादी के बाद से ही उसे परेशान कर रहे है और दहेज की मांग कर रहे हैं। महिला ने अपने पति पर जबरन सेक्स करने का आरोप भी लगाया। जिसके बाद आरोपी पति ने जमानत के लिए कोर्ट में याचिका दी थी।

इसे भी पढ़ेंः चारा घोटालाः लालू प्रसाद ने बहस शुरू करने के लिए मांगा कोर्ट से समय

महिला ने कहा कि इस साल दो जनवरी को हम दोनों मुंबई के पास महाबलेश्वर गए थे। जहां उसके पति ने एक बार फिर उसके साथ जबरन शारीरिक संबंध बनाए। महिला ने आरोप लगाया कि इस के बाद से ही वो अस्वस्थ महसूस करने लगी थी, जिसके बाद वो डॉक्टर को दिखाने गई। जांच के बाद डॉक्टर ने बताया कि उसे कमर के नीचे पैरालिसिस हो गया है।

एडिशनल सेशन जज संजयश्री जे घराट ने कहा कि ये बेहद दुखद है कि महिला को पैरालिसिस हो गया। हालांकि महिला की इस हालात के लिए उसके पति या परिवार को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। महिला ने अपने याचिकाकर्ता (पति) पर जिस तरह के आरोप लगाए है उसके लिए हिरासत में लेकर पूछताछ करना आवश्यक नहीं है। आरोपी पति और उसका परिवार इस मामले की जांच में अपना पूरा सहयोग देने के लिए तैयार है।

सुनवाई के दौरान पति और उसके परिवार ने कहा कि हमें झूठे आरोप में फंसाया जा रहा है। हमारी तरफ से दहेज के लिए कभी कोई मांग नहीं की गई थी। वहीं अभियोजन पक्ष ने आरोपी पति को दी जा रही अग्रिम जमानत याचिका का विरोध किया। जिस के बाद न्यायाधीश ने कहा कि महिला ने अपने आरोपों में दहेज की मांग की शिकायत की थी। लेकिन उसने इस बात को लेकर कोई जानकारी नहीं दी है कि उस से दहेज में कितनी रकम मांगी गई थी।

RELATED ARTICLES

National Games scam: मधुकांत पाठक पर जल्द होगा आरोप तय, डिस्चार्ज याचिका खारिज

Ranchi: National Games scam 34वें राष्ट्रीय खेल घोटाले के आरोपी नेशनल गेम्स ऑर्गनाइजिंग कमेटी के कोषाध्यक्ष मधुकांत पाठक की ओर से दाखिल...

Gang Rape with Minor: अदालत ने मरते दम तक जेल में रहने की तीनों को सुनाई सजा

Ranchi: Gang Rape with Minor पोक्सो के विशेष न्यायाधीश मोहम्मद आसिफ इकबाल की अदालत ने नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म मामले में तीन...

Disproportionate assets: खादी के कार्यपालक सुनील कुमार के खिलाफ सीबीआई ने दाखिल की चार्जशीट

Ranchi: Disproportionate assets: सीबीआई के विशेष जज पीके शर्मा की अदालत में खादी ग्रामोद्योग आयोग के पूर्व कार्यपालक पदाधिकारी सुनील कुमार के...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

7th JPSC Exam: प्रारंभिक परीक्षा में आरक्षण देने के मामले में हाईकोर्ट ने जेपीएससी और सरकार से मांगा जवाब

Ranchi: 7th JPSC Exam झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस डॉ एसएन पाठक की अदालत में सातवीं जेपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा में आरक्षण देने...

7th JPSC Exam: ओएमआर शीट सही से नहीं भरने पर नहीं मिलेगा अंक, हाईकोर्ट ने खारिज की याचिका

Ranchi: 7th JPSC Exam झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस डॉ एसएन पाठक की अदालत में सातवीं से दसवीं जेपीएससी परीक्षा में कम अंक...

7th JPSC Exam: मुख्य परीक्षा पर रोक की मांग पर हाईकोर्ट में बहस पूरी, 25 जनवरी को आएगा फैसला

Ranchi: 7th JPSC Exam सातवीं से दसवीं जेपीएससी की मुख्य परीक्षा पर रोक लगाने से की मांग वाली याचिका पर झारखंड हाईकोर्ट...

Maithili Language: मैथिली भाषा को परीक्षाओं में शामिल करने की मांग को लेकर जनहित याचिका दाखिल

Ranchi: Maithili language द्वितीय राजभाषा का दर्जा प्राप्त मैथिली भाषा को राज्य की प्रतियोगी परीक्षाओं में सम्मिलित किए जाने की मांग को...