हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस का छलका दर्द, कहा- सरकारें आती-जाती रहेंगी, लेकिन संस्थाएं चलती रहेंगी

हाई कोर्ट के बार-बार आदेश के बाद भी नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी को फंड नहीं दिए जाने पर गुरुवार को हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस का दर्द छलका और उन्होंने टिप्पणी करते हुए कहा कि सरकारें आती-जाती रहेंगी, लेकिन संस्थान चलते रहेंगे।

Ranchi: हाई कोर्ट के बार-बार आदेश के बाद भी नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी को फंड नहीं दिए जाने पर गुरुवार को हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस का दर्द छलका और उन्होंने टिप्पणी करते हुए कहा कि सरकारें आती-जाती रहेंगी, लेकिन संस्थान चलते रहेंगे। किसी को इस बात की कतई गलतफहमी पालनी नहीं चाहिए कि जजों को कुछ भी पता नहीं होता है। लेकिन हमें सभी बातों की जानकारी रहती है।

अदालत ने कहा कि नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी की बुनियादी संरचाएं और हाई कोर्ट के नए भवन का अधूरे काम को सरकार को ही पूरा करना होगा और इसे पूरा करने से कोई रोक नहीं सकता है। इस दौरान अदालत ने सुप्रीम कोर्ट के नए भवन सहित अन्य राज्यों के संस्थानों का उदाहरण देते हुए कहा कि वहां की सरकारों ने संस्थानों के बेहतरी में पैसे की कमी नहीं आने दी है।

लेकिन यहां की सरकार जिद पर अड़ी है। सरकार को इस बारे में सोचना होगा कि राज्य में शिक्षा और स्वास्थ्य की सेवाएं बेहतर होंगी तो आने वाला कल बेहतर होगा। नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी में बुनियादी सुविधा उपलब्ध कराना सरकार की जिम्मेदारी है। यूनिवर्सिटी में यहां छात्रों को लिए पचास फीसदी सीट आरक्षित है, लेकिन सरकार बुनियादी सुविधाओं के लिए वित्तीय सहयोग नहीं करना चाहती है।   

इसे भी पढ़ेंः Lalu Yadav: लालू यादव ने हाई कोर्ट से लगाई जमानत की गुहार, दुमका मामले में दाखिल की याचिका

अदालत ने कहा कि नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी को फंड नहीं देना और हाई कोर्ट के नए भवन को ऐसे ही छोड़ देना या तो राजनीतिक अपरिपक्वता निशानी है या फिर नौकरशाहों की मनमानी है। लेकिन किसी संस्थान को बेहतर सुविधा देने से कोई रोक नहीं सकता है। अदालत ने कहा कि हम अब नए हाई कोर्ट जाना ही नहीं चाहते हैं, क्योंकि ऐसा प्रतीत होता है कि वहां का अधूरा भवन हमें चिढ़ा रहा है।

सरकार नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी को एकमुश्त राशि देकर पल्ला नहीं झाड़ सकती है। अदालत ने मुख्य सचिव से कहा कि वे सरकार को समझाएं कि वह ऐसा नहीं करे। लोकतंत्र में कोई राजा नहीं होता है। सभी को अलग- अलग अधिकार दिया गया है। इस दौरान महाधिवक्ता की ओर से विस्तृत शपथ पत्र दाखिल करने के लिए समय की मांग की गई जिसे अदालत ने स्वीकार कर लिया। इस दौरान मुख्य सचिव, भवन सचिव, नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के वीसी ऑनलाइन कोर्ट में हाजिर हुए थे।

Most Popular

आक्सीजन व दवाओं के हाहाकार पर सुप्रीम कोर्ट की चिंता, कहा- इमरजेंसी जैसे हालात

New Delhi: कोरोना संक्रमण के बीच लोगों को ऑक्सीजन और दवाइयों नहीं मिलने पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्ती दिखाई है। सुप्रीम...

दिल्ली हाई कोर्ट ने गोपनीयता नीति की जांच के खिलाफ दाखिल व्हाट्सऐप व फेसबुक की याचिका खारिज की

New Delhi: दिल्ली हाई कोर्ट ने व्हाट्स ऐप की नई गोपनीयता नीति की जांच करने के भारत के प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) के...

स्वास्थ्य सचिव कोरोना संक्रमित, जवाब दाखिल करने के लिए हाईकोर्ट से मांगा समय

Ranchi: झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत में गुरुवार को कोरोना संक्रमण से निपटने...

Corona Good News: झालसा ने हर जिले में बनाया वार रूम, फ्री में मिलेंगी दवाएं और चिकित्सकीय सलाह

Ranchi: कार्यकारी अध्यक्ष जस्टिस अपरेश कुमार सिंह के निर्देश पर झालसा ने कोरोना संक्रमण के दूसरे चरण में इलाज को लेकर परेशान...