पीएम को विशेष सुविधा देने के मामले में हाईकोर्ट ने केंद्रीय निर्वाचन आयोग से किया जवाब तलब

PM facilities: इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ ने प्रधानमंत्री को चुनावों के दौरान विशेष सुविधा दिए जाने संबंधी चुनाव आयोग के आदेश को चुनौती देने वाली एक याचिका पर सुनवाई की।

190
high-court-lucknow-bench

Lucknow: इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ ने प्रधानमंत्री को चुनावों के दौरान विशेष सुविधा दिए जाने संबंधी चुनाव आयोग के आदेश को चुनौती देने वाली एक याचिका पर सुनवाई की। सुनवाई के बाद अदालत ने केंद्रीय निर्वाचन आयोग से जवाब तलब किया है। कोर्ट ने आयोग के अधिवक्ता के आग्रह पर जवाबी हलफनामा पेश करने को चार सप्ताह का समय दिया है।

जस्टिस राजन रॉय और जस्टिस रवि नाथ तिलहरी की खंडपीठ ने उक्त आदेश राष्ट्रीय राष्ट्रवादी पार्टी के अध्यक्ष प्रताप चंद्र की याचिका पर सुनवाई के बाद दिया। वादी का कहना था कि निर्वाचन आयोग ने आदर्श आचार संहिता बनाया है, जिसमें सभी राजनीतिक दलों एवं प्रत्याशियों द्वारा चुनाव के दौरान पालन किए जाने वाले दिशा निर्देश हैं।

इसे भी पढ़ेंः पुरानी पेंशनः हाईकोर्ट ने पूछा- एक ही विज्ञापन से नियुक्त प्राथमिक शिक्षकों को अलग-अलग पेंशन क्यों

इस संबंध में प्रधानमंत्री कार्यालय ने 7 अक्तूबर 2014 को आयोग से एक बार आदर्श आचार संहिता के इस प्रावधान से मुक्त करने का अनुरोध किया, जिस पर चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री को हमेशा के लिए इस प्रावधान से मुक्त कर दिया, जो कानून की मंशा के खिलाफ है।

उधर, केंद्रीय निर्वाचन आयोग की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता ओपी श्रीवास्तव ने कहा कि चुनाव आयोग का आदेश पूरी तरह सही है और वादी ने काफी समय बाद याचिका दायर की है। ऐसे में याचिका खारिज किए जाने लायक है। उन्होंने अपने तथ्य प्रस्तुत करने को जवाबी हलफनामा दाखिल करने के लिए चार सप्ताह का समय देने का आग्रह किया। जिसे स्वीकार करते हुए कोर्ट ने याचिका पर अगली सुनवाई 31अगस्त को निर्धारित की है।