Lalu Bail: पहली बार लगातार दो साल तक जेल में रहे लालू यादव, जानें किन प्रक्रिया से गुजरने के बाद होंगे रिहा

Lalu Yadav Bail यह पहली बार है कि लालू यादव को दो साल तक एक बार में दो साल तक जेल में रहना पड़ा है। वर्ष 2017 के 23 दिसंबर को लालू यादव को देवघर कोषागार वाले मामले में दोषा ठहराया गया। इसके बाद उन्हें जेल भेज दिया गया।

Ranchi: Lalu Yadav Bail यह पहली बार है कि लालू यादव को दो साल तक एक बार में दो साल तक जेल में रहना पड़ा है। वर्ष 2017 के 23 दिसंबर को लालू यादव को देवघर कोषागार वाले मामले में दोषा ठहराया गया। इसके बाद उन्हें जेल भेज दिया गया। अब उन्हें जमानत मिल गई है। ऐसे में हम आपको बताते हैं कि लालू यादव को बाहर आने के लिए किन-किन प्रक्रियाओं से गुजरना होगा।

लालू के अधिवक्ता देवर्षि मंडल की मानें तो लालू को जमानत मिलते ही उनकी ओर से संबंधित सभी कागजी कार्यवाही को पूरा किया जा रहा है। तत्काल बेल बांड से संबंधित दस्तावेज लालू प्रसाद यादव के पास हस्ताक्षर के लिए दिल्ली भेज दिया गया है। इधर, झारखंड हाई कोर्ट का आदेश रांची के सीबीआई कोर्ट में फैक्स से भेजा जाएगा।

इसे भी पढ़ेंः हाईकोर्ट ने कहा- कोरोना संक्रमितों को दी जाने वाली जरूरी दवाओं की कालाबाजारी बर्दाश्त नहीं, सरकार उपलब्ध कराएं दवाएं

सीबीआई कोर्ट को फैक्स से आदेश मिलने के बाद लालू प्रसाद यादव की ओर से अदालत द्वारा लगाए गए एक-एक लाख रुपये के दो बेल बांड भरे जाएंगे। इसके अलावा पांच-पांच लाख रुपये भी जमा होंगे। साथ ही अदालत द्वारा लगाई गई शर्तों को पूरा करने लेकर एक आवेदन दिया जाएगा। इसके बाद सीबीआई कोर्ट उन्हें रिहा करने का आदेश जारी करेगा।

उक्त आदेश को पहले होटवार स्थित बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा भेजा जाएगा। यहां से जेल के अधिकारी उक्त आदेश को दिल्ली स्थित तिहाड़ जेल भेजेंगे। क्योंकि लालू प्रसाद अभी तिहाड़ जेल के कैदी हैं, क्योंकि उनका इलाज एम्स में चल रहा है। इसके बाद तिहाड़ जेल के जरिए इस आदेश को एम्स भेजा जाएगा। जहां से उन्हें रिहा माना जाएगा।

Most Popular

हाई कोर्ट की तल्ख टिप्पणी- ऑक्सीजन की कमी से संक्रमित मरीजों की मौत नरसंहार से कम नहीं

Uttar Pradesh: ऑक्सीजन संकट पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने एक सख्त टिप्पणी करते हुए अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति न होने से...

हाई कोर्ट ने निर्माण कंपनी से पूछा- रांची सदर अस्पताल में कितने दिनों में होगी ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक की व्यवस्था

Ranchi: हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत ने सदर अस्पताल में ऑक्सीजनयुक्त बेड शुरु होने...

हाई कोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला, कहा- तलाक के मामले में फैमिली कोर्ट एक्ट सभी धर्मों पर होगा लागू; निचली कोर्ट को सुनवाई का अधिकार

Ranchi: झारखंड हाई कोर्ट ने एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए कहा है कि फैमिली कोर्ट एक सेक्युलर कोर्ट है। फैमिली कोर्ट एक्ट...

Oxygen Shortage: सुप्रीम कोर्ट की केंद्र सरकार को फटकार, कहा- नाकाम अफसरों को जेल में डालें या अवमानना के लिए रहें तैयार

New Delhi: Oxygen Shortage News: देश में लगातार बढ़ते कोरोना मरीजों के चलते राजधानी दिल्ली समेत देश भर में ऑक्सीजन के लिए...