processApi - method not exist
Home National News विश्व संगीत दिवस 'फेटे डी ला म्यूजिक' यानि म्यूजिक दिवस के बारे...

विश्व संगीत दिवस ‘फेटे डी ला म्यूजिक’ यानि म्यूजिक दिवस के बारे में जानें

Music Day 21 जून को 'विश्व संगीत दिवस' सम्पूर्ण विश्व में मनाया जाता है। इस दिन को 'फेटे डी ला म्यूजिक' के नाम से भी जानते हैं, जिसका अर्थ है म्यूजिक फेस्टिवल।

Music Day 21 जून को ‘विश्व संगीत दिवस’ सम्पूर्ण विश्व में मनाया जाता है। इस दिन को ‘फेटे डी ला म्यूजिक’ के नाम से भी जानते हैं, जिसका अर्थ है म्यूजिक फेस्टिवल। सुरों की देवी मां सरस्वती के कर-कमलों में वीणा की उपस्थिति हीं संगीत की महत्व एवं महानता को दर्शाता है तथा ईश्वर का अनुपम दैवीय वरदान की कहानी स्वयं कह जाती है।

कहते हैं कि संगीत एक ऐसी भाषा है जो पूरी दुनिया समझती है, इसलिए कहा जाता है कि जीवन के लिए जितनी सांसें जरूरी है, उसी प्रकार संगीत भी जरूरी है। इसका संबंध आत्मा से उसी प्रकार है जैसे शरीर का भोजन से संबंध हैं। संगीत की ताकत है कि जब तानसेन बादशाह अकबर के दरबार में राग दीपक गाया था तब बुझे हुए दीये भी जलने लगे थे।

राग मल्हार गाया था तो झमाझम बारिश होने लगी थी। संगीत भावना से जोड़कर भावनात्मक सहयोग अंतरात्मा को देता है तथा मन-मस्तिष्क को शांत, स्थिर एवं आनंदमय कर देता है। दिलकश अंदाज में पेश की गई सुरीली, माधुर्य एवं सुरमयी संगीत पूरे जीवन को प्रफुल्लित कर देता है। संगीत दो दिलों और आत्माओं को जोड़ता है।

इसे भी पढ़ेंः रेमडेसिविर कालाबाजारीः हाईकोर्ट ने कहा- जांच में न हो दखल, एडीजी अनिल पालटा की एसआईटी करेगी जांच

संगीत विषम परिस्थितियों में मन के विकारों और अवसाद के भारी पलों में एक कुशल चिकित्सक की तरह मरहम भी लगाता है और हर मर्ज की दवा बनता है। कोरोना संकट में जब लोग घरों और चारदिवारियों में कैद थे तब संगीत हीं सकारात्मकता, जीने का हौसला और चेहरे पर चहचहाहट लाने में सशक्त माध्यम बना।

संगीत ने शारीरिक व मानसिक रोगियों के लिए रामबाण व ब्रहास्त्र बना तथा एक नई ऊर्जा, ताकत व राहत प्रदान की। इसलिए कह सकते हैं जीवन का वजूद ही संगीत है। इस तरह संगीत मनुष्य के अंदर रच-बस चुका है कि इसके बिना जीवन की कल्पना हीं व्यर्थ है।

आज के युवा जो संगीत में दिलचस्पी रखते हैं तो वह प्रतिदिन रियाज करें जिसमें शास्त्रीय एवं सुगम संगीत दोनों का मिश्रण हो। संगीत साधना की चीज है। इसलिए साधक बनें, संगीत को जिए तब आप सुमधुर व कर्णप्रिय संगीत लोगों के प्रदान कर सकते हैं। बदलते परिवेश में संगीत के क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा बढ़ी है तो जाहिर सी बात है संघर्ष और पेचिदा वाला भी क्षेत्र हो गया।

संगीत में पारंगत होने के लिए वह आपका समय मांगता है, यहां तक जीवन भी मांगता है। लेकिन संघर्ष के साथ कैरियर को भी लेकर अपार संभावनाएं हैं बढ़ी हैं। बशर्ते आपमें टैलेंट के साथ आपको जुनूनी, मेहनती, धैर्यवान, तथस्थ, तथा सृजनात्मक होना होगा। तब जाकर आपक संगीत के सही साधक होंगे।

RELATED ARTICLES

सुप्रीम कोर्ट के जज बोले- सत्ता बचाने के लिए सरकारें झूठ बोलती हैं, पर्दाफाश करें बुद्धिजीवी

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि फेसबुक और ट्विटर जैसे प्लैटफॉर्म को भी झूठी खबरों पर...

काशी विश्वनाथ मंदिर: जमीन की अदला-बदली के खिलाफ कोर्ट जाएंगे वादमित्र

Varanasi: भगवान विश्वेश्वरनाथ (बाबा काशी विश्वनाथ) के वादमित्र विजयशंकर रस्तोगी ने ज्ञानवापी परिसर स्थित जमीन की सुन्नी वक्फ बोर्ड और मंदिर प्रशासन...

सीजेआइ ने कहा-अदालती कार्यवाही का सजीव प्रसारण दोधारी तलवार, गुजरात हाईकोर्ट की कार्यवाही का शुरू हुआ सजीव प्रसारण

New Delhi: अदालती कार्यवाही के सजीव प्रसारण (Live Streaming) के जरिए न्यायप्रणाली में पारदर्शिता की पैरवी करते हुए प्रधान न्यायाधीश (CJI) एनवी...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Late Fee: कॉलेजों द्वारा छात्रों से विलंब शुल्क वसूलने पर हाईकोर्ट सख्त, कहा- यह तो धोखाधड़ी है

Lucknow: Late Fee इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने डिग्री कालेजों द्वारा अपने छात्रों से विलंब शुल्क वसूलने पर सख्त नाराजगी जताई...

RTI: हाईकोर्ट ने कहा- सही समय पर सूचना नहीं देने पर सूचना आयोग के हर्जाने का आदेश बिल्कुल सही

Ranchi: RTI News झारखंड हाईकोर्ट ने राज्य सूचना आयोग के उस आदेश को बरकरार रखा है, जिसमें आयोग की ओर से सही समय...

Promotion: हाईकोर्ट ने पूछा- एसडीओ पद पर प्रोन्नति की अधिसूचना जारी होगी या नहीं, स्थिति स्पष्ट करे सरकार

Ranchi: Promotion झारखंड हाईकोर्ट (Jharkhand High Court) के जस्टिस डॉ एसएन पाठक की अदालत में डिप्टी कलेक्टर से एसडीओ (SDO) पद पर...

Land dispute: हाईकोर्ट ने कहा- राहत बढ़ाने के लिए दाखिल करें आवेदन, पूर्व डीजीपी की पत्नी पूनम पांडेय से जुड़ा मामला

Ranchi: Land dispute झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस राजेश शंकर की अदालत में राज्य के पूर्व डीजीपी डीके पांडेय की पत्नी पूनम पांडेय...