हाईकोर्ट के जांच के आदेश के बाद कुख्यात अपराधी सुरेंद्र बंगाली का बीस साल से गायब रिकॉर्ड मिला

रांची सिविल कोर्ट से गायब कुख्यात अपराधी सुरेंद्र बंगाली से जुड़े केस का रिकॉर्ड मिल गया। पिछले 20 सालों से यह रिकॉर्ड गायब था।

रांचीः रांची सिविल कोर्ट से गायब कुख्यात अपराधी सुरेंद्र बंगाली से जुड़े केस का रिकॉर्ड मिल गया। पिछले 20 सालों से यह रिकॉर्ड गायब था। लेकिन जब हाई कोर्ट ने रिकॉर्ड नहीं मिलने पर जांच का आदेश दिया, तो रिकॉर्ड खोजने में तेजी शुरू हुई।

इस मामल में हाई कोर्ट के जस्टिस आनंद सेन की अदालत ने रिटायर्ड जिला एवं सत्र न्यायाधीश जीके राय की वन मैन कमेटी बनाकर इसकी जांच कर दो माह में रिपोर्ट तैयार कर हाईकोर्ट को पेश करने का निर्देश दिया था।

रांची सिविल कोर्ट के प्रधान न्यायायुक्त को रिकॉर्ड गायब होने की प्राथमिकी दर्ज करा हाईकोर्ट को सूचित करने का भी निर्देश दिया गया था। इसके बाद कोतवाली थाने में बीते 20 जनवरी को एफआइआर दर्ज कराई गई थी।

इसे भी पढ़ेंः मणिपुर मुठभेड़ः सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी से SSP को मुक्त करने की अनुमति दी

सिविल कोर्ट के रजिस्ट्रार मनीष कुमार सिंह की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर में बताया गया है कि सिविल कोर्ट से सुरेंद्र बंगाली के खिलाफ चल रहे अपराधिक मुकदमे से संबंधित रिकॉर्ड गायब हो गए हैं। अब पुलिस इस गायब रिकॉर्ड से जुड़े तथ्य खंगालेगी कि आखिर किस कर्मचारी की लापरवाही से इतने दिनों तक रिकॉर्ड गायब रहा।

जेल में बंद रांची के कुख्यात अपराधी सुरेंद्र बंगाली ने वर्ष 2014 में हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर बताया था कि डोरंडा थाना से संबंधित एक मामला (77/1987) निचली अदालत में लंबित है। वर्ष 1999 में निचली अदालत ने इस केस को रिमांड किया और संज्ञान भी लिया था लेकिन इसपर अभी तक सुनवाई नहीं हो रही है क्योंकि निचली अदालत में केस का रिकॉर्ड नहीं मिल रहा था।

इस पर हाईकोर्ट ने 26 अक्टूबर 2015 को न्यायायुक्त से रिपोर्ट मांगी थी, लेकिन तय तिथि तक निचली अदालत से कोई रिपोर्ट नहीं सौंपी गई थी। हाईकोर्ट ने लगातार निचली अदालत को रिपोर्ट देने का रिमाइंडर दिया जाता रहा, लेकिन निचली अदालत से रिपोर्ट नहीं भेजी गई थी।

Most Popular

हाई कोर्ट की तल्ख टिप्पणी- ऑक्सीजन की कमी से संक्रमित मरीजों की मौत नरसंहार से कम नहीं

Uttar Pradesh: ऑक्सीजन संकट पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने एक सख्त टिप्पणी करते हुए अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति न होने से...

हाई कोर्ट ने निर्माण कंपनी से पूछा- रांची सदर अस्पताल में कितने दिनों में होगी ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक की व्यवस्था

Ranchi: हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत ने सदर अस्पताल में ऑक्सीजनयुक्त बेड शुरु होने...

हाई कोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला, कहा- तलाक के मामले में फैमिली कोर्ट एक्ट सभी धर्मों पर होगा लागू; निचली कोर्ट को सुनवाई का अधिकार

Ranchi: झारखंड हाई कोर्ट ने एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए कहा है कि फैमिली कोर्ट एक सेक्युलर कोर्ट है। फैमिली कोर्ट एक्ट...

Oxygen Shortage: सुप्रीम कोर्ट की केंद्र सरकार को फटकार, कहा- नाकाम अफसरों को जेल में डालें या अवमानना के लिए रहें तैयार

New Delhi: Oxygen Shortage News: देश में लगातार बढ़ते कोरोना मरीजों के चलते राजधानी दिल्ली समेत देश भर में ऑक्सीजन के लिए...