processApi - method not exist
Home Civil Court News Mid-day-mill scam: 100 करोड़ खाते में ट्रांसफर कराने वाला बिल्डर संजय गया...

Mid-day-mill scam: 100 करोड़ खाते में ट्रांसफर कराने वाला बिल्डर संजय गया जेल, ईडी रिमांड पर लेकर करेगी पूछताछ

Ranchi: Mid-day-mill scam मिड डे मील के 100 करोड़ रुपये से अधिक ट्रांसफर मामले में गिरफ्तार मुख्य आरोपित बिल्डर संजय कुमार तिवारी को ईडी की विशेष अदालत में पेश किया गया। जहां से उसे बिरसा मुंडा केन्द्रीय कारा होटवार भेज दिया गया। ईडी टीम ने उसे सोमवार को गिरफ्तार किया था। ईडी आरोपित को पूछताछ के लिए पुलिस रिमांड पर लेगी। इसके लिए अदालत से 15 दिनों की रिमांड पर लेने की अनुमति मांगी है।

उक्त आवेदन पर बुधवार को सुनवाई होगी। संजय तिवारी को इसी मामले में सीबीआइ अदालत जेल भेज चुकी है। बता दें कि पांच अगस्त 2017 को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की हटिया शाखा से मिड डे मील के 100 करोड़ रुपये से अधिक बिल्डर संजय कुमार तिवारी के खाते में तत्कालीन डिप्टी मैनेजर अजय उरांव के द्वारा साजिश के तहत भेजा गया था। एक दिन पहले ईडी टीम ने अरगोड़ा स्थित उसके ठिकाने पर छापेमारी कर कई महत्वपूर्ण कागजात जब्त की है।

शादी का झांसा देकर यौनशोषण करने वाला दोषी करार
रांची के अपर न्यायायुक्त दिनेश राय की अदालत ने शादी का झांसा देकर यौन शोषण के मामले में अभियुक्त धीरजू मुंडा को दोषी करार दिया है। साथ ही अदालत ने उसकी सजा के बिंदु पर सुनवाई के लिए 26 नवंबर की तिथि निर्धारित की है। अभियुक्त धीरजू मुंडा लापुंग थाना क्षेत्र का रहने वाला है। उसने अपने ही गांव की एक युवती के साथ पहले शारीरिक संबंध बनाया।

इसे भी पढ़ेंः Reservation: हाईकोर्ट का फैसला- शादी के बाद भी उत्तर प्रदेश की महिला को झारखंड में नहीं मिलेगा आरक्षण का लाभ, याचिका खारिज

इसके बाद शादी का झांसा देकर एक साल से अधिक समय तक यौन शोषण करता रहा। इस दौरान युवती का दो बार गर्भपात भी कराया। लेकिन बाद में उसने शादी से इन्कार कर दिया। पीड़िता ने अभियुक्त के खिलाफ 5 नवंबर 2018 को प्राथमिकी दर्ज कराई। अभियुक्त 27 नवंबर 2018 से लगातार जेल में है। बता दें कि झारखंड हाई कोर्ट के निर्देश पर मामले में त्वरित सुनवाई की गई है।

चारा घोटाला मामले में दो चिकित्सकों की बहस पूरी
लालू प्रसाद से जुड़े चारा घोटाले के सबसे बड़े मामले डोरंडा कोषागार में आरोपित दो पशु चिकित्सकों डा ललितेश्वर प्रसाद यादव एवं डा शिवनंदन प्रसाद की ओर से दलीलें रखी गई। सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश एसके शशि की अदालत में दोनों आरोपितों की ओर से उनके वकीलों ने पक्ष रखते हुए मामले में अपने आप को निर्दोष बताया। डोरंडा कोषागार से 139.35 करोड़ रुपये की अवैध निकासी में अब तक 64 आरोपितों की ओर से दलीलें पूरी कर ली गई है। इस मामले में लालू प्रसाद की ओर से 29 नवंबर को बहस शुरू किए जाने की संभावना है।

RELATED ARTICLES

Court News: बेटा होने पर शराब पार्टी के लिए पैसे नहीं देने पर टांगी से काटकर कर दी थी हत्या, तीन को आजीवन कारावास

Ranchi: Court News झारखंड के कोडरमा सिविल कोर्ट ने अमित हत्याकांड फैसला सुनाया है। अदालत ने टांगी से काट कर अमित की...

Scam: कृषि विभाग के प्रमुख अभियंता राघवेंद्र सिंह ने कोर्ट में किया सरेंडर

Ranchi: Scam वित्तीय अनियमितता के आरोपी कृषि विभाग के प्रमुख अभियंता राघवेंद्र सिंह ने रांची के एसीबी के विशेष अदालत में आत्मसमर्पण...

Mediation: रिश्तों की कड़वाहट खत्म हुई, जब आमने-सामने बैठे पति-पत्नी; अब जीवनभर रहेंगे साथ-साथ

Ranchi: Mediation रांची सिविल कोर्ट के मध्यस्थता केंद्र में विशेष मध्यस्थता अभियान चलाया गया। इस दौरान रिश्तों की कड़वाहट को भुलाकर तीन...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Court News: बेटा होने पर शराब पार्टी के लिए पैसे नहीं देने पर टांगी से काटकर कर दी थी हत्या, तीन को आजीवन कारावास

Ranchi: Court News झारखंड के कोडरमा सिविल कोर्ट ने अमित हत्याकांड फैसला सुनाया है। अदालत ने टांगी से काट कर अमित की...

Scam: कृषि विभाग के प्रमुख अभियंता राघवेंद्र सिंह ने कोर्ट में किया सरेंडर

Ranchi: Scam वित्तीय अनियमितता के आरोपी कृषि विभाग के प्रमुख अभियंता राघवेंद्र सिंह ने रांची के एसीबी के विशेष अदालत में आत्मसमर्पण...

Mediation: रिश्तों की कड़वाहट खत्म हुई, जब आमने-सामने बैठे पति-पत्नी; अब जीवनभर रहेंगे साथ-साथ

Ranchi: Mediation रांची सिविल कोर्ट के मध्यस्थता केंद्र में विशेष मध्यस्थता अभियान चलाया गया। इस दौरान रिश्तों की कड़वाहट को भुलाकर तीन...

Jharkhand High Court decision: निर्वाचन सेवा के पदाधिकारी माने जाएंगे राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी

Ranchi: Jharkhand High Court decision झारखंड हाईकोर्ट ने अहम फैसला सुनाते हुए कहा कि राज्य विभाजन के समय निर्वाचन सेवा में आए...