हाईकोर्ट ने कहा- स्टेनो एएसआई को पुलिस मैनुअल के तहत मिले वरीयता, डीजीपी का आदेश निरस्त

झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस संजय कुमार द्विवेदी की अदालत ने स्टेनो एएसआई के वरीयता जुड़े मामले में सुनवाई करते हुए डीजीपी के उस आदेश को निरस्त कर दिया है जिसके तहत सभी को वर्ष 2011 से वरीय माना गया था।

रांचीः झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस संजय कुमार द्विवेदी की अदालत ने स्टेनो एएसआई के वरीयता जुड़े मामले में सुनवाई करते हुए डीजीपी के उस आदेश को निरस्त कर दिया है जिसके तहत सभी को वर्ष 2011 से वरीय माना गया था।

अदालत ने इस मामले में प्रार्थियों को डीजीपी के यहां दो सप्ताह में आवेदन देने का निर्देश दिया है। वही, डीजीपी को हाई कोर्ट के आदेश के आलोक में इनके आवेदन पर चार सप्ताह में उचित आदेश पारित करने का आदेश दिया है।

इस मामले में पूर्व में सभी पक्षों की बहस पूरी होने के बाद अदालत ने अपना फैसला सुरक्षित रखा था। शुक्रवार को अदालत ने डीजीपी के आदेश को खारिज कर दिया। इसको लेकर शंभू प्रसाद व अन्य की ओर से हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी।

इसे भी पढ़ेंः UP Panchayat Chunav 2021: पंचायत चुनाव में दखल से सुप्रीम कोर्ट का इन्कार, वादी को कहा- हाईकोर्ट जाएं

अधिवक्ता दिवाकर उपाध्याय ने बताया कि तत्कालीन डीजीपी ने स्टेनो एएसआई की वर्ष 2011 से वरीयता मानने का आदेश दिया था। ऐसा करने से सभी स्टेनो एएसआई वरीयता समान हो गई थी और उनकी प्रोन्नति में भी परेशानी हो रही थी।

क्योंकि स्टेनो एएसआई पद पर कई लोग वर्ष 1980-90 में नियुक्त हुए थे। पुलिस मैनुअल के नियमानुसार स्टेनो एएसआई की सेवा के पांच साल बाद ही उन्हें जनरल कैडर में लाना था। लेकिन वर्ष 2011 से सभी को जनरल कैडर में मानते हुए वरीयता सूची तैयार की गई।

डीजीपी के उक्त आदेश को झारखंड हाई कोर्ट में चुनौती दी गई थी। इस मामले में पहले ही सभी पक्षों की ओर से बहस पूरी हो गई थी। शुक्रवार को अदालत ने फैसला सुनाते हुए डीजीपी के उक्त आदेश को खारिज कर दिया।

Most Popular

भीख मांगना सामाजिक-आर्थिक मामला, गरीबी के कारण ही मजबूर होते हैं लोगः सुप्रीम कोर्ट

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि भीख मांगना एक सामाजिक और आर्थिक मसला है और गरीबी, लोगों को भीख मांगने के...

जासूसी मामलाः जांच समिति की रिपोर्ट अभियोजन का आधार नहीं हो सकती, सीबीआई कानून के मुताबिक जांच करेः सुप्रीम कोर्ट

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इसरो वैज्ञानिक नम्बी नारायणन से संबधित 1994 के जासूसी मामले में दोषी पुलिस अधिकारियों की...

विधायक खरीद-फरोख्त मामलाः HC में PIL दाखिल, कांग्रेसी विधायक अनूप सिंह के कॉल डिटेल की जांच की मांग

Ranchi: हेमंत सरकार (Hemant Government) को गिराने की साजिश का मामला अब झारखंड हाईकोर्ट पहुंच गया है। पंकज कुमार यादव की...

तमिलनाडु की पूर्व CM जयललिता की मौत की जांच की मांग को लेकर DMK ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की याचिका

New Delhi: तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता (Ex Tamil Nadu CM Jayalalithaa) की मौत की जांच की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट...