केरोसिन विस्फोट का मामला पहुंचा हाई कोर्ट, इलाज और मुआवजे को लेकर पीआईएल

घटना सरकार की एजेंसी की लापरवाही की वजह से हुई है। केरोसिन तेल को सरकारी दुकान से खरीदा गया था। इसमें विस्फोट होने की वजह से 15 लोग घायल हुए और चार की मौत हो गई है।

रांची। हजारीबाग में केरोसिन तेल में हुए विस्फोट को लेकर झारखंड हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की गई है। कोडरमा के रहने वाले ओमकार विश्वकर्मा की ओर से अधिवक्ता अनूप अग्रवाल ने उक्त याचिका दाखिल की है।

उन्होंने बताया कि याचिका में हजारीबाग में केरोसिन हुई विस्फोट की घटना में मरने वालों के परिजनों को पचास लाख रुपये और घायलों के परिजनों को 25-25 लाख रुपये मुआवजा दिए जाने की मांग की गई है।

इसे भी पढ़ें: पूर्व सीएम मधु कोड़ा मनी लॉन्ड्रिंग मामले में हाई कोर्ट में दाखिल करेंगे जवाब

याचिका में कहा गया कि घटना सरकार की एजेंसी की लापरवाही की वजह से हुई है। केरोसिन तेल को सरकारी दुकान से खरीदा गया था। इसमें विस्फोट होने की वजह से 15 लोग घायल हुए और चार की मौत हो गई है।

घायलों में चार की स्थित गंभीर है। जिनका इलाज सदर अस्पताल के सर्जरी वार्ड में चल रहा है। जबकि जलने के मामले में मरीज का इलाज बर्न वार्ड में किया जाना चाहिए। अगर हजारीबाग के अस्पताल में बर्न वार्ड की सुविधा नहीं हो तो उनका इलाज रिम्स में कराया जाए।

Most Popular

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कहा- बहुल नागरिकों के धर्म परिवर्तन से देश होता है कमजोर

Prayagraj: इलाहाबाद हाई कोर्ट (Allahabad High Court) ने एक मामले में सुनवाई करते हुए कहा है कि संविधान प्रत्येक बालिग नागरिक को...

34th National Games Scam: आरके आनंद को लगा झटका, एसीबी कोर्ट ने खारिज की अग्रिम जमानत

Ranchi: 34वें राष्ट्रीय खेल घोटाले (34th National Games Scam) के आरोपी आरके आनंद (RK Anand) को बड़ा झटका लगा है। एसीबी कोर्ट...

6th JPSC Exam: जेपीएससी ने एकलपीठ के आदेश के खिलाफ दाखिल की अपील, कहा- मेरिट लिस्ट में कोई गड़बड़ी नहीं

Ranchi: झारखंड लोक सेवा आयोग (JPSC) की ओर से छठी जेपीएससी परीक्षा (6th JPSC) के मेरिट लिस्ट को निरस्त करने के एकल...

वित्तीय अनियमितता के मामले में सीयूजे के चिकित्सा पदाधिकारी के खिलाफ चलेगी विभागीय कार्रवाई, एकलपीठ का आदेश निरस्त

Ranchi: झारखंड हाईकोर्ट (Jharkhand High Court) ने केंद्रीय विश्वविद्यालय, झारखंड (CUJ) के एक मामले में एकलपीठ के आदेश को निरस्त कर दिया...