processApi - method not exist
Home National News कोविड वैक्सीन के फायदे: दोनों डोज लेने से कोरोना से होने वाली...

कोविड वैक्सीन के फायदे: दोनों डोज लेने से कोरोना से होने वाली मौत से 95% बचाव- स्टडी (ICMR)

Covid Vaccine कोरोना टीका लेने वालों के लिए खुशखबरी है। कोरोना संक्रमण के चलते हो रही मौतों को रोकने में वैक्सीन काफी असरदार है।

New Delhi: Covid Vaccine कोरोना टीका लेने वालों के लिए खुशखबरी है। कोरोना संक्रमण के चलते हो रही मौतों को रोकने में वैक्सीन काफी असरदार है। इंडियन काउंसिल और मेडिकल रिसर्च और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी (ICMR-NIE) के एक एनालिसिस से इसकी जानकारी मिलती है। स्टडी में पता चला है कि वैक्सीन का एक डोज मौत को रोकने में 82 फीसदी तक कारगर है। जबकि, दोनों डोज 95 फीसदी तक मौत से बचा सकते हैं।

तमिलनाडु पुलिस विभाग अपने जवानों के वैक्सीनेशन (टीकाकरण) दूसरी लहर के दौरान हुई मौत और अस्पताल में भर्ती होने के संबंध में जानकारी जुटा रहा है। मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार ICMR-NIE के निदेशक डॉक्टर मनोज मुर्हेकर ने कहा है कि इस डेटा का इस्तेमाल वैक्सीन प्राप्त और बिना टीकाकरण वाले पुलिसकर्मियों में कोविड के चलते मौत की घटनाओं का अनुमान लगाने के लिए किया गया था।

तमिलनाडु पुलिस विभाग में 1 लाख 17 हजार 524 पुलिसकर्मी काम करते हैं। एक फरवरी और 14 मई के बीच 32 हजार 792 कर्मियों ने कोरोना की पहला डोज लिया था। जबकि, दोनों डोज लेने वालों की संख्या 67 हजार 673 थी। 17 हजार 59 पुलिसकर्मियों ने वैक्सीन का एक डोज नहीं लिया था। इसके बाद 13 अप्रैल 2021 और 14 मई 2021 के बीच 31 कर्मियों की कोविड के चलते मौत हो गई थी।

इसे भी पढ़ेंः पुलिस बहालीः हाई कोर्ट ने यूपी पुलिस बहाली की मेरिट कम कर बचे पदों को भरने की मांग खारिज की

जान गंवाने वाले इन 31 कर्मियों में से चार वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके थे, सात को एक डोज लगा था और बीस का टीकाकरण नहीं हुआ था। शोधकर्ताओं ने कहा कि कोविड-19 टीककारण से जुड़े मृत्यु दर के जोखिम की गणना के लिए टीका लेने और टीका नहीं लगवाने वाले के बीच मौत की घटनाओं की तुलना की गई थी। 21 जून को इंडियन जर्नल ऑफ मेडिकल रिसर्च में ‘Covid-19 vaccine effectiveness in preventing deaths among high-risk groups in Tamil Nadu, India’ एक स्टडी प्रकाशित हुई थी।

हाल ही में आई स्टडी से पता चला था कि वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके 94 फीसदी लोगों को कोरोना संक्रमित होने पर ICU में भर्ती की जरूरत नहीं पड़ी। जबकि 77 फीसदी लोगों को तो अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत भी नहीं पड़ी। स्टडी में पता चला है कि दोनों डोज लेने से अस्पताल में भर्ती, ऑक्सीजन थैरेपी की जरूरत और ICU में दाखिले को कम कर देते हैं। स्टडी के लेखक डॉक्टर जेवी पीटर्स के हवाले से कहा गया है कि पहले डोज के बाद से ही सुरक्षा मिलनी शुरू हो जाती है। वैक्सीन का सिंगल डोज ICU में भर्ती होने से 95 फीसदी सुरक्षा देता है।

RELATED ARTICLES

सुप्रीम कोर्ट के जज बोले- सत्ता बचाने के लिए सरकारें झूठ बोलती हैं, पर्दाफाश करें बुद्धिजीवी

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि फेसबुक और ट्विटर जैसे प्लैटफॉर्म को भी झूठी खबरों पर...

काशी विश्वनाथ मंदिर: जमीन की अदला-बदली के खिलाफ कोर्ट जाएंगे वादमित्र

Varanasi: भगवान विश्वेश्वरनाथ (बाबा काशी विश्वनाथ) के वादमित्र विजयशंकर रस्तोगी ने ज्ञानवापी परिसर स्थित जमीन की सुन्नी वक्फ बोर्ड और मंदिर प्रशासन...

सीजेआइ ने कहा-अदालती कार्यवाही का सजीव प्रसारण दोधारी तलवार, गुजरात हाईकोर्ट की कार्यवाही का शुरू हुआ सजीव प्रसारण

New Delhi: अदालती कार्यवाही के सजीव प्रसारण (Live Streaming) के जरिए न्यायप्रणाली में पारदर्शिता की पैरवी करते हुए प्रधान न्यायाधीश (CJI) एनवी...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Teacher appointment: हाईकोर्ट ने जेएसएससी के सचिव को जारी किया शो-कॉज

Ranchi: Teacher appointment झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस एसके द्विवेदी की अदालत में संस्कृत शिक्षक नियुक्ति मामले में दाखिल अवमानना याचिका पर सुनवाई हुई।...

Conspiracy to topple Hemant Government: 90 दिन में आरोप पत्र दाखिल नहीं कर पाई पुलिस, तीनों आरोपियों को मिली जमानत

Ranchi: Conspiracy to topple Hemant Government झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार को गिराने की साजिश में शामिल तीनों अभियुक्तों को अदालत से...

Appointment of consumer courts: उपभोक्ता फोरम की रिक्तियों पर ढीले रवैये से सुप्रीम कोर्ट नाराज, कहा- न्यायाधिकरण नहीं चाहिए तो कानून खत्म करे सरकार

New Delhi: Appointment of consumer courts सुप्रीम कोर्ट ने राज्य उपभोक्ता आयोगों और जिला उपभोक्ता फोरमों की रिक्तियां भरने में देरी पर...

Coal Transport: हजारीबाग में कोयले की ढुलाई मामले में केंद्र को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस, कन्वेयर बेल्ट लगाने के एनजीटी के निर्देश पर रोक

New Delhi: Coal Transport झारखंड के हजारीबाग जिले में कोयले की अवैध ढुलाई और उसके भंडारण से संबंधित नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल (NGT)...