सुप्रीम कोर्ट को अधिवक्ताओं के बारे में ब्यौरा देने की अवधि 30 सितंबर तक बढ़ी

सुप्रीम कोर्ट की ई-कमेटी पूरे देश के अधिवक्ताओं के बारे में जानकारी मांगी है। इसको लेकर बार काउंसिल ऑफ इंडिया की ओर से झारखंड राज्य बार एसोसिएशन सहित अन्य जिला बार संघों को पत्र लिखा गया था। लेकिन निर्धारित अवधि में अधिवक्ताओं की जानकारी नहीं उपलब्ध होने पर फिर से इसकी तिथि बढ़ा दी गई है। अब तक अधिवक्ताओं का पूरा ब्यौरा भेजने की अंतिम तिथि दस अगस्त तक थी, लेकिन अब इसे बढ़ाकर 30 सितंबर कर दिया गया है।

इसके बाद हाईकोर्ट एडवोकेट एसोसिएशन की ओर से एक नोटिस जारी किया गया है। इसमें तिथि बढ़ाने की अवधि की जानकारी देते हुए अधिवक्ताओं को अपना पूरा ब्यौरा देने को कहा गया है। एसोसिएशन के महासचिव नवीन कुमार की ओर से जारी नोटिस में वाट्सएप नंबर जारी किया है। साथ ही यह भी कहा गया है कि हाईकोर्ट के गेट नंबर तीन पर अधिवक्ता निर्धारित प्रपत्र में अपनी पूरी जानकारी 29 सितंबर तक जमा करा सकते हैं।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट की ई-कमेटी ने पूरे देश की अदालतों में प्रैक्टिस करने वाले अधिवक्ता से संबंधित पूरी जानकारी मांगी है। इसके बाद बीसीआइ की ओर से सभी जिला बार संघ सहित स्टेट बार काउंसिल को भी पत्र भेजा गया है। अधिवक्ताओं के प्रपत्र में अपनी पूरी जानकारी देनी है।

Most Popular

दल-बदल और बाबूलाल मरांडी को विधायक दल का नेता बनाने के मामले में सुनवाई 19 जनवरी को

-स्पीकर ने शपथपत्र दाखिल कर कहा स्वत: संज्ञान वाले मामले में कोई कार्रवाई नहीं करेंगे-विधायक दल के नेता के मान्यता का मामला...

दलबदल मामला: झारखंड हाई कोर्ट ने स्पीकर से मांगा जवाब, कल होगी सुनवाई

दल-बदल से जुड़े बाबूलाल मरांडी की याचिका पर झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत...

दलबदल मामला: सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड स्पीकर की याचिका खारिज की, कहा हाईकोर्ट वापस जाए

दलबदल मामले में झारखंड विधानसभा अध्यक्ष की ओर से दाखिल एसएलपी पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। सुप्रीम कोर्ट के चीफ...

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, सीएम बेअंत सिंह के हत्यारे राजोआना की मौत की सजा को बदलने पर 26 जनवरी तक विचार करे केंद्र सरकार

नयी दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को केंद्र से कहा कि वह पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या मामले में...