टेरर फंडिंगः पांच घंटे चली सुनवाई में एनआईए ने कहा- आरोपियों के खिलाफ पर्याप्त सबूत

Terror Funding टेरर फंडिंग के मामले झारखंड हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान NIA एनआईए ने कहा कि इस मामले में निचली अदालत द्वारा लिया गया संज्ञान सही है, क्योंकि आरोपियों के खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं, जिसके आधार पर एनआईए कोर्ट में चार्जशीट भी दाखिल कर दी गई है। चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत टेरर फंडिंग के आरोपियों महेश, विनीत व अमित अग्रवाल की याचिका पर सुनवाई कर रही है।

हालांकि इस मामले में अभी कोर्ट में बहस पूरी नहीं हो पाई है। इसके बाद अदालत ने 26 नवंबर की तिथि निर्धारित की है। हालांकि इस दौरान आरोपियों की अंतरिम राहत बरकरार रहेगी। दरअसल, पूर्व में कोर्ट ने इनके खिलाफ किसी भी प्रकार की कार्रवाई पर रोक लगा दी है। इससे पहले एनआईए के अधिवक्ता ने कोर्ट को बताया कि तीनों आरोपियों के खिलाफ निचली अदालत में चार्जशीट दाखिल कर दी गई है।

इसे भी पढ़ेंः चारा घोटालाः सीबीआई का दावा- दुमका कोषागार मामले में एक भी दिन जेल में नहीं रहे लालू प्रसाद

इस पर एनआई कोर्ट द्वारा लिया गया संज्ञान सही है, क्योंकि इनके खिलाफ पर्याप्त सबूत है। एनआईए के पास दस्तावेज साक्ष्य भी हैं। करीब पांच घंटे तक चली सुनवाई के दौरान एनआईए ने कहा कि इनके खिलाफ चार्जशीट में जो बातें कही गई है, वह पूरी तरह से सही हैं। ऐसे में उनका कहा जाना कि वे इस मामले में पीड़ित हैं। वह पूरी तरह से गलत है।

इस मामले में आरोपियों की ओर से कहा गया है कि वे इस मामले में पीड़ित हैं, लेकिन एनआइए ने उन्हें आरोपित बना दिया है। गौरतलब है कि टंडवा के आम्रपाली कोल प्रोजेक्ट में शांति समिति के जरिए लेवी की वसूली की जाती थी। इसका कुछ भाग उग्रवादी संगठन टीपीसी को दिया जाता था जिसका इस्तेमाल वे हथियार खरीदने में करते थे। पहले इसकी जांच पुलिस कर रही थी, लेकिन बाद में एनआइए टेकओवर कर लिया।

Most Popular

विश्व संगीत दिवस ‘फेटे डी ला म्यूजिक’ यानि म्यूजिक दिवस के बारे में जानें

Music Day 21 जून को 'विश्व संगीत दिवस' सम्पूर्ण विश्व में मनाया जाता है। इस दिन को 'फेटे डी ला म्यूजिक' के...

रेमडेसिविर कालाबाजारीः हाईकोर्ट ने कहा- जांच में न हो दखल, एडीजी अनिल पालटा की एसआईटी करेगी जांच

Ranchi: रेमडेसिविर सहित कोरोना की दवा की कालाबाजारी मामले की जांच अब एसआईटी करेगी। इसका नेतृत्व एडीजी अनिल पालटा करेंगे। राज्य सरकार...

कोरोना से मरने वालों को 4 लाख मुआवजा देना संभव नहीं, केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया हलफनामा

New Delhi: केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि कोविड-19 से जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों को चार लाख...

पेंशन मामलाः हाईकोर्ट ने कहा- दो सप्ताह में दें जवाब नहीं, तो लगेगा भारी हर्जाना

Ranchi: झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस आनंद सेन की अदालत में पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करने के की मांग वाली याचिका पर सुनवाई...