भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, ममता सरकार से मांगा जवाब

Bengal News सुप्रीम कोर्ट ने उस याचिका पर पश्चिम बंगाल सरकार से जवाब दाखिल करने को कहा है जिसमें पश्चिम बंगाल चुनाव मतगणना के बाद दो बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या के मामले में सीबीआई जांच की मांग की गई है।

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट ने उस याचिका पर पश्चिम बंगाल सरकार से जवाब दाखिल करने को कहा है जिसमें पश्चिम बंगाल चुनाव मतगणना के बाद दो बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या के मामले में सीबीआई जांच की मांग की गई है। सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस विनीत शरण और जस्टिस बीआर गवई की बेंच ने मृतक बीजेपी कार्यकर्ताओं के रिश्तेदारों की अर्जी पर सुनवाई की।

बीजेपी कार्यकर्ता अभिजीत सरकार और हरेन अधिकारी की कथित तौर पर हत्या कर दी गई थी। पश्चिम बंगाल चुनाव के बाद जैसे ही चुनाव परिणाम आया उसके बाद ये हिंसा भड़की थी। याचिकाकर्ता का आरोप है कि हत्या के बाद पुलिस ने लचर रवैया अपनाया है। सुप्रीम कोर्ट में दाखिल अर्जी में कहा गया है कि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा एसआईटी का गठन होना चाहिए जो मामले की जांच करे।

अभिजीत सरकार के भाई बिश्वजीत सरकार और हरेन की पत्नी की ओर से अर्जी दाखिल की गई है। याचिका में कहा गया है कि अभिजीत सरकार को घर से घसीटा गया था और फिर हत्या की गई थी। दूसरे बीजेपी कार्यकर्ता हरेन अधिकारी की हत्या का मामला भी उठाया गया है और कहा गया कि अधिकारी की पत्नी चश्मदीद गवाह हैं।

इसे भी पढ़ेंः एडवोकेट एसोसिएशन व लिपिक संघ में तनातनी, लिपिक संघ कार्य से दूर; एसोसिएशन कह रहा हो रही फाइलिंग

याची के वकील महेश जेठमलानी ने कहा कि ये पूरी तरह से राज्य की लापरवाही का मामला है। राज्य तथ्यों को नजरअंदाज कर रही है और तथ्य छुपा रही है। लोगों को मरने के छोड़ दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट ने मामले में राज्य सरकार को नोटिस जारी किया है और अगले मंगलवार को सुनवाई का फैसला किया है।

याचिकाकर्ता और सह याचिकाकर्ता यानी हरेन अधिकारी की पत्नी ने अर्जी दाखिल कर कहा कि वह चश्मदीद गवाह हैं। याचिकाकर्ता बिश्वजीत ने कहा कि मॉब ने सीसीटीवी कैमरे के वायर से गला घोंटा था। साथ ही ईंट से मारा था। सिर पर पत्थर मारा गया था। अभिजीत की मां के सामने उनकी हत्या की गई थी। बाद में उनकी मां बेहोश हो गई थी।

जिस दिन दो मई को काउंटिंग चल रही थी उसी दिन दो बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या की गई। पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है ऐसे में मामले की सीबीआई जांच होनी चाहिए। अभी तक अभिजीत सरकार के शव का अंतिम संस्कार नहीं किया गया है। पीड़ित परिवार का कहना है कि लाश का पोस्टमॉर्टम की विडियो रेकॉर्डिंग की जाए।

Most Popular

बड़ा फैसला: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- 31 जुलाई तक सभी बोर्ड मूल्यांकन नीति के आधार पर जारी करें 12वीं के परिणाम

New Delhi: 12th Results सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को राज्य शिक्षा बोर्डों को बारहवीं कक्षा के आतंरिक मूल्यांकन के परिणाम 31 जुलाई...

मृत्यू प्रमाण पत्र के मूल दस्तावेज की जगह स्कैन कॉपी देने पर हाईकोर्ट ने आरएमसी को लगाई फटकार

Ranchi: Death Certificate Ranchi Municipal Corporation झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत ने रांची...

स्थापना दिवस घोटालाः हाईकोर्ट ने महालेखाकार से ऑडिट के मूल दस्तावेज सीलबंद लिफाफे में मांगा

Ranchi: Foundation Day Scam In Jharkhand झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की अदालत में...

वाहन पर नेम प्लेट लगाने के मामले में हाईकोर्ट ने ट्रांसपोर्ट सचिव को किया तलब

Ranchi: Name Plate On the Vehicle झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की अदालत में...