राहतः हाईकोर्ट ने पूर्व विधायक संजीव सिंह को दुमका से धनबाद जेल लाने का दिया आदेश

Jharkhand High Court झारखंड हाईकोर्ट ने भाजपा के पूर्व विधायक संजीव सिंह (EX MLA Sanjeev Singh) के दुमका जेल से धनबाद जेल (Dhanbad Jail) वापस लाने के निचली अदालत के आदेश के अनुपालन करने का आदेश दिया है।

237
Ex MLA Sanjeev Singh

Ranchi: Jharkhand High Court झारखंड हाईकोर्ट ने भाजपा के पूर्व विधायक संजीव सिंह (EX MLA Sanjeev Singh) के दुमका जेल से धनबाद जेल (Dhanbad Jail) वापस लाने के निचली अदालत के आदेश के अनुपालन करने का आदेश दिया है। अदालत ने कहा कि दो सप्ताह के अंदर संजीव सिंह को दुमका जेल से धनबाद जेल वापस लाया जाए।

जस्टिस एसके द्विवेदी की अदालत ने पांच जुलाई को इस मामले में दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है। शुक्रवार को अदालत ने अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि राज्य सरकार दो सप्ताह में संजीव सिंह को दुमका जेल से धनबाद जेल वापस लाए।

संजीव सिंह की ओर से अधिवक्ता चंचल जैन ने पक्ष रखा था सुनवाई के दौरान चंचल चैन ने कहा था कि विचाराधीन कैदी को किसी दूसरी जेल में भेजने से पहले संबंधित निचली अदालत से अनुमति लेना अनिवार्य है। इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट ने भी अपने आदेश में कहा है।

इसे भी पढ़ेंः सुप्रीम कोर्ट की कॉलेजियम ने हाईकोर्ट के जजों के लिए 80 नामों की सिफारिश

लेकिन इस मामले में बिना निचली अदालत के अनुमति के ही संजीव सिंह को धनबाद जेल से दुमका जेल भेज दिया गया। इस पर सरकार की ओर कहा गया कि विचाराधीन कैदी को दूसरी जेल में भेजने के लिए पूर्व में ही कोर्ट से अनुमति की जरूरी नहीं है।

इसके लिए बाद में निचली अदालत से अनुमति प्राप्त की जा सकती है। इस पर चंचल जैन ने कहा कि संजीव सिंह को दुमका भेजने के बाद सरकार की ओर से निचली अदालत से अनुमति मांगी गई, लेकिन कोर्ट ने उनके आवेदन खारिज कर संजीव सिंह को वापस धनबाद जेल लाने का आदेश दिया।

इसके बाद भी संजीव सिंह को दुमका जेल में ही रखा गया है। निचली अदालत के आदेश का अनुपालन नहीं करना अवमानना है। दोनों पक्षों को सुनने के बाद अदालत ने पांच जुलाई को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया। इस मामले में संजीव सिंह व सरकार दोनों याचिका दाखिल की है।