आक्सीजन व रेमडेसिविर की कालाबाजारी पर हाईकोर्ट सख्त, सरकार से मांगी रिपोर्ट

झारखंड हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत में राज्य में कोरोना संक्रमित मरीज को दी जाने वाली जरूरी दवाओं की कालाबाजारी पर सरकार से रिपोर्ट मांगी है।

Ranchi: झारखंड हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत में राज्य में कोरोना संक्रमित मरीज को दी जाने वाली जरूरी दवाओं की कालाबाजारी पर सरकार से रिपोर्ट मांगी है। अदालत ने रांची में रेमडेसिविर, आक्सीजन और अन्य महत्वपूर्ण जीवन रक्षक दवाइयों की हो रही कालाबाजारी पर एसएसपी को रिपोर्ट सौंपने को कहा है। साथ ही जरूरी दवाओं की कालाबाजारी न हो, इसकी मॉनिटरिंग सीआइडी से कराने का निर्देश दिया।

अदालत ने अस्पतालों में पुलिसकर्मियों को सिविल ड्रेस में तैनात करने को कहा ताकि वह कालाबाजारी करने वालों पर नजर रख सकें। पुलिस अधिकारियों को अदालत ने समय समय पर निजी और सरकारी अस्पतालों का निरीक्षण करने का निर्देश दिया, ताकि कालाबाजारी करने वालों पर नजर रखी जा सके। कोर्ट ने कालाबाजारी करने वालों के साथ सख्ती से पेश आने का निर्देश दिया। सरकार को यह सुनिश्चित करने को कहा गया कि किसी भी कीमत पर आम लोगों को दवाओं का संकट न हो और आसानी से जीवन रक्षक दवाएं उपलब्ध हो सके।

गुरुवार को महाधिवक्ता राजीव रंजन ने अदालत ने बताया कि राज्य सरकार आक्सीजन बेड और अन्य चिकित्सकीय सुविधाएं लगातार बढ़ा रही है। आक्सीजन सिलेंडर समेत अन्य जीवन रक्षक दवाओं की कालाबाजारी की खबरों पर प्रशासन कड़ी नजर रख रहा है। इसकी सूचना मिलने के बाद त्वरित कार्रवाई की जा रही है। इस पर अदालत ने कहा कि महामारी के दौरान मरीजों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो और लोगों को समुचित इलाज मिले यह सरकार का दायित्व है। सरकार को अपने दायित्वों का पूरी तरह निर्वहन करना चाहिए।

इसे भी पढ़ेंः Lalu Yadav Release: जमानत मिलने के दो सप्ताह बाद जेल से बाहर आए लालू यादव

झारखंड हाई कोर्ट ने राज्य सरकार को वकीलों के लिए अविलंब 30 बेड के अस्पताल का निर्माण करने का निर्देश दिया है। झारखंड हाई कोर्ट एडवोकेट एसोसिएशन 30 बेड के अस्पताल के निर्माण के लिए चीफ जस्टिस समेत हाई कोर्ट के सभी जजों को पत्र लिखा था। चीफ जस्टिस ने इसके बाद यह मामला हाई कोर्ट की बिल्डिंग कमेटी को भेज दिया था। बिल्डिंग कमेटी की बैठक बुधवार को हुई। कमेटी ने राज्य सरकार को अस्पताल के निर्माण का निर्देश दिया है।

सरकार ने जल्द अस्पताल बनाने की बात कही है। एसोसिएशन ने वकीलों, उनके लिपिकों और परिजनों के लिए कम से कम 30 ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड वाले अस्पताल का निर्माण करने की मांग की है। इस अस्पताल में डॉक्टर, पारा मेडिकलकर्मियों के साथ तमाम सुविधाएं उपलब्ध कराने की मांग की गई है। एसोसिएशन ने लॉयर्स चैंबर या नए हाई कोर्ट भवन में इसकी व्यवस्था करने का सुझाव दिया है।

झारखंड हाई कोर्ट में गुरुवार को एक जनहित याचिका दायर कर कोरोना से जुड़े उपकरण और दवाओं को आवश्यक सेवा वस्तु सेवा के दायरे में लाने का आग्रह किया गया है। याचिका में कहा गया है कि कोरोना के मरीजों को समय पर दवा और जरूरी इलाज नहीं मिल पा रहा है। इसकी दवाओं को आवश्यक सेवा वस्तु के दायरे में लाकर इसकी उचित मॉनिटरिंग की जाए। अदालत से राज्य सरकार को आम लोगों को 150 रुपये में ही कोरोना का टीका उपलब्ध कराने का आग्रह किया गया है।

Most Popular

हाई कोर्ट की तल्ख टिप्पणी- ऑक्सीजन की कमी से संक्रमित मरीजों की मौत नरसंहार से कम नहीं

Uttar Pradesh: ऑक्सीजन संकट पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने एक सख्त टिप्पणी करते हुए अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति न होने से...

हाई कोर्ट ने निर्माण कंपनी से पूछा- रांची सदर अस्पताल में कितने दिनों में होगी ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक की व्यवस्था

Ranchi: हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत ने सदर अस्पताल में ऑक्सीजनयुक्त बेड शुरु होने...

हाई कोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला, कहा- तलाक के मामले में फैमिली कोर्ट एक्ट सभी धर्मों पर होगा लागू; निचली कोर्ट को सुनवाई का अधिकार

Ranchi: झारखंड हाई कोर्ट ने एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए कहा है कि फैमिली कोर्ट एक सेक्युलर कोर्ट है। फैमिली कोर्ट एक्ट...

Oxygen Shortage: सुप्रीम कोर्ट की केंद्र सरकार को फटकार, कहा- नाकाम अफसरों को जेल में डालें या अवमानना के लिए रहें तैयार

New Delhi: Oxygen Shortage News: देश में लगातार बढ़ते कोरोना मरीजों के चलते राजधानी दिल्ली समेत देश भर में ऑक्सीजन के लिए...