Reservation: गरीब सवर्णों को दस प्रतिशत आरक्षण देने के मामले में बहस पूरी, हाईकोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित

नियुक्ति पिछले साल की है, ऐसे में आर्थिक रूप से कमजोर सवर्णों को नियुक्ति में दस प्रतिशत आरक्षण का लाभ इस नियुक्ति में नहीं दिया जा सकता है।

रांचीः आर्थिक रूप से कमजोर सवर्णों को नियुक्ति में दस प्रतिशत आरक्षण देने के खिलाफ दाखिल याचिका पर बहस पूरी होने के बाद झारखंड हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है।

जस्टिस एसके द्विवेदी की अदालत में इस मामले में सुनवाई हुई। प्रार्थी के अधिवक्ता सौरभ शेखर ने अदालत को बताया कि जेपीएससी ने सहायक अभियंता की नियुक्ति के लिए विज्ञापन निकाला है।

इसमें आर्थिक रूप से कमजोर सवर्णों के दस प्रतिशत आरक्षण देने का प्रावधान किया गया है। उनका कहना था कि संविधान में संशोधन कर सवर्णों को आरक्षण देने का प्रावधान वर्ष 2019 में हुआ है।

इसे भी पढ़ेंः आवास आवंटनः झारखंड हाईकोर्ट ने पिछली व वर्तमान सरकार में विधायकों के आवास आवंटन की मांगी फाइल

जबकि यह नियुक्ति वर्ष 2013 से 2015 की है। सभी को एक साथ करके सहायक अभियंता की नियुक्ति निकाली गई है। संविधान में हुए संशोधन में स्पष्ट है कि यह लागू होने की तिथि से प्रभावी होगा।

लेकिन नियुक्ति पिछले साल की है, ऐसे में आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को आरक्षण का लाभ इस नियुक्ति में नहीं दिया जा सकता है।

सरकार ने इसका विरोध करते हुए कहा कि उक्त नियुक्ति में आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को आरक्षण दिया जाएगा, क्योंकि इसके लिए सभी कानूनी प्रावधानों का पालन किया गया है।

इसके बाद अदालत ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया। गौरतलब है कि इस मामले में प्रार्थी रंजीत कुमार साह की ओर से हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की गई है।

Most Popular

दल-बदल और बाबूलाल मरांडी को विधायक दल का नेता बनाने के मामले में सुनवाई 19 जनवरी को

-स्पीकर ने शपथपत्र दाखिल कर कहा स्वत: संज्ञान वाले मामले में कोई कार्रवाई नहीं करेंगे-विधायक दल के नेता के मान्यता का मामला...

दलबदल मामला: झारखंड हाई कोर्ट ने स्पीकर से मांगा जवाब, कल होगी सुनवाई

दल-बदल से जुड़े बाबूलाल मरांडी की याचिका पर झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत...

दलबदल मामला: सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड स्पीकर की याचिका खारिज की, कहा हाईकोर्ट वापस जाए

दलबदल मामले में झारखंड विधानसभा अध्यक्ष की ओर से दाखिल एसएलपी पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। सुप्रीम कोर्ट के चीफ...

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, सीएम बेअंत सिंह के हत्यारे राजोआना की मौत की सजा को बदलने पर 26 जनवरी तक विचार करे केंद्र सरकार

नयी दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को केंद्र से कहा कि वह पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या मामले में...