आवास बोर्ड के पूर्व एमडी के पत्नी के नाम आवंटित भूखंड को रद्द करने के आदेश को हाईकोर्ट ने माना सही

झारखंड राज्य आवास बोर्ड के पूर्व एमडी विरेंद्र राम की पत्नी प्रसन्ना नारायण को हाउसिंग बोर्ड की ओर से आवंटित भूखंड को रद्द करने को चुनौती देने वाली याचिका की झारखंड हाईकोर्ट में सुनवाई हुई।

रांची। झारखंड राज्य आवास बोर्ड के पूर्व एमडी विरेंद्र राम की पत्नी प्रसन्ना नारायण को हाउसिंग बोर्ड की ओर से आवंटित भूखंड को रद्द करने को चुनौती देने वाली याचिका की झारखंड हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। सुनवाई के बाद जस्टिस राजेश शंकर की अदालत ने प्रसन्ना नारायण की याचिका को खारिज कर दिया।

अदालत ने झारखंड आवास बोर्ड की ओर से प्रसन्ना नारायण को आवंटित भूखंड रद्द करने के आदेश को सही ठहराते हुए इसमें हस्तक्षेप करने के इन्कार कर दिया। सुनवाई के दौरान आवास बोर्ड की ओर अदालत को बताया कि आवास बोर्ड के पूर्व एमडी विरेंद्र राम ने अपनी पत्नी के नाम पर अरगोड़ा में पांच हजार वर्ग फीट का प्लाट आवंटित कर दिया था।

इसे भी पढ़ेंः ज्रेडा के पूर्व निदेशक निरंजन कुमार के मामले में हाईकोर्ट ने मांगा जवाब

बाद में आवास बोर्ड के दूसरे एमडी ने इस आवंटन को यह कहते हुए रद्द कर दिया था कि यह कट प्लाट में नहीं आता है। यह बड़ा भूखंड है। कट प्लाट के नाम पर इसका आवंटन गलत था। यह भी बताया गया कि विरेंद्र राम की पत्नी प्रसन्ना नारायण को पहले से ही हाउसिंग बोर्ड का बना बनाया एक आवास आवंटित था।

प्रार्थी की ओर से कहा गया कि उसको आवंटित किए गए भूखंड के आवंटन को रद्द करना गलत है, क्योंकि उस भूखंड का निबंधन हो चुका है और उसका कब्जा भी दे दिया गया है। निबंधन के बाद आवंटन रद्द नहीं किया जा सकता है। बता दें कि प्रसन्ना नारायण ने आवास बोर्ड के आदेश को हाई कोर्ट में चुनौती दी थी।

Most Popular

भीख मांगना सामाजिक-आर्थिक मामला, गरीबी के कारण ही मजबूर होते हैं लोगः सुप्रीम कोर्ट

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि भीख मांगना एक सामाजिक और आर्थिक मसला है और गरीबी, लोगों को भीख मांगने के...

जासूसी मामलाः जांच समिति की रिपोर्ट अभियोजन का आधार नहीं हो सकती, सीबीआई कानून के मुताबिक जांच करेः सुप्रीम कोर्ट

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इसरो वैज्ञानिक नम्बी नारायणन से संबधित 1994 के जासूसी मामले में दोषी पुलिस अधिकारियों की...

विधायक खरीद-फरोख्त मामलाः HC में PIL दाखिल, कांग्रेसी विधायक अनूप सिंह के कॉल डिटेल की जांच की मांग

Ranchi: हेमंत सरकार (Hemant Government) को गिराने की साजिश का मामला अब झारखंड हाईकोर्ट पहुंच गया है। पंकज कुमार यादव की...

तमिलनाडु की पूर्व CM जयललिता की मौत की जांच की मांग को लेकर DMK ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की याचिका

New Delhi: तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता (Ex Tamil Nadu CM Jayalalithaa) की मौत की जांच की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट...