हाईकोर्ट का निर्देशः सभी आदेशों की प्रति को कराएं लेमिनेट

161
Jharkhand High Court

Ranchi: Orders Laminated झारखंड हाईकोर्ट में पुराने मामले में आदेशों की प्रति फट जाने से बचाने के लिए अब उन्हें लेमिनेट किया जाएगा। झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस आनंद सेन की अदालत ने एक मामले में ऐसा करने का आदेश पारित किया है। अदालत में वर्ष 2012 के एक मामले की सुनवाई कर रही थी।

इस दौरान अदालत ने पाया कि इस मामले की फाइल में अदालत के पूर्व आदेश की कॉपी बहुत ही खराब हालत में है। आदेश की प्रति कई जगहों से फटी भी है, जिसे पढ़ने में काफी कठिनाई हो रही है। इसके बाद अदालत ने आदेश की प्रति को लेमिनेट कराने का आदेश दिया है।

इसे भी पढ़ेंः सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जताते हुए कहा- क्या तीसरी लहर के बाद बनेगी कोरोना से मृत्यु प्रमाणपत्र के दिशानिर्देश

हाई कोर्ट ने हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल को निर्देश दिया कि वह अब से हाईकोर्ट के आदेश के प्रति को लेमिनेट कराएं, ताकि उन्हें सुरक्षित रखा जा सके। अदालत ने कहा है कि अदालत में कई पुराने मामलों की सुनवाई होती है। इस दौरान फाइलों को रिकॉर्ड रूम में सुरक्षित रखा जाता है।

इस दौरान वह कई जगहों से गुजरता है। ऐसे में फाइल के दस्तावेज और कोर्ट के आदेश के प्रति फट जाते हैं। कुछ सालों को बाद अगर इस मामले की फिर से सुनवाई की जाती है, तो उस दौरान फाइल की हालत काफी जर्जर स्थिति में होती है। पूर्व के आदेशों को पढ़ने में काफी कठिनाई होती है।

ऐसी स्थितियों को देखते हुए अदालत आदेश देती है कि अब से सभी आदेशों की प्रति को लेमिनेट कराना सुनिश्चित किया जाए। अदालत ने अपने आदेश के प्रति हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल को भेजते हुए आदेश पर अमल करने का आदेश दिया है।