लालू यादव की जमानत पर सीबीआई का नया पैंतरा, अब जमानत पर 16 अप्रैल को सुनवाई

Lalu Yadav Bail, Lalu Prasad चारा घोटाला मामले में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को जमानत के अभी और इंतजार करना पड़ेगा। अब उनकी जमानत याचिका पर 16 अप्रैल को सुनवाई होगी।

Ranchi: चारा घोटाला मामले में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को जमानत के अभी और इंतजार करना पड़ेगा। अब उनकी जमानत याचिका पर 16 अप्रैल को सुनवाई होगी। जस्टिस अपरेश कुमार सिंह की अदालत में सुनवाई के दौरान सीबीआई की ओर से समय की मांग की गई, जिसे अदालत ने स्वीकार कर लिया।

सुनवाई के दौरान वरीय अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि अब इस मामले में सीबीआई को कुछ कहने की जरूरत नहीं है। हमने पिछली सुनवाई के दौरान ही ऐसी आशंका व्यक्त की थी, जो आज सच साबित हुई। पिछली सुनवाई के दौरान सीबीआई ने अपनी बहस पूरी कर ली थी। उसके बाद समय लिया जाना सही नहीं है।

कपिल सिब्बल ने कहा कि अगर सीबीआई को लालू प्रसाद की जमानत याचिका पर जवाब दाखिल करना ही था तो उनके पास जवाब दाखिल करने के लिए बहुत समय था, लेकिन उन्होंने जवाब दाखिल नहीं किया। क्योंकि वे मामले को लटकाना चाहते हैं। लालू की ओर से अधिवक्ता देवर्षि मंडल ने कपिल सिब्बल की पक्ष रखने में सहयोग किया।

कपिल सिब्बल ने यह भी कहा कि सीबीआइ इसलिए समय लेना चाहती है, क्योंकि वो इस मामले में हाई कोर्ट के 19 फरवरी के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देकर स्टे आदेश प्राप्त कर ले। हाई कोर्ट इस मामले में सात साल के सजा की आधी अवधि मानकर जमानत पर सुनवाई कर रहा है। जबकि सीबीआइ कोर्ट ने दुमका वाले मामले में लालू प्रसाद को सात-सात साल की सजा सुनाई है और दोनों सजाएं अलग-अलग चलाए जाने का आदेश दिया है। ऐसे में कुल चौदह साल की सजा होती है।

इस पर सीबीआई के अधिवक्ता ने कहा कि वे लालू प्रसाद की ओर से जमानत के लिए दाखिल की गई याचिका पर कुछ और कहना चाहते हैं। इसलिए कोर्ट उन्हें जवाब दाखिल करने के लिए समय प्रदान करे। अदालत ने इस मामले में अगली सुनवाई 16 अप्रैल को निर्धारित की है।

लालू यादव के अधिवक्ता देवर्षि मंडल ने बताया कि हाई कोर्ट ने लालू प्रसाद की आधी सजा पूरी होने में 1 माह 17 कम होने से 19 फरवरी को जमानत खारिज कर दी थी। अब छह अप्रैल को आधी अवधि पूरी हो रही है। इसलिए संभावना है कि नौ अप्रैल को लालू को जमानत मिल जाए।

इसे भी पढ़ेंः Kashi Vishwanath Gyanvapi Case: जानें 357 सालों का विवाद, 1991 में हुआ मुकदमा, अब ज्ञानवापी मस्जिद की होगी खुदाई

बता दें कि लालू प्रसाद को चारा घोटाले के चार मामलों में सजा मिल चुकी है। जबकि डोरंडा कोषागार का मामला अभी निचली अदालत में लंबित है। चार से में लालू को तीन मामलों में पहले ही जमानत मिली चुकी है। अगर दुमका वाले मामले में जमानत मिलती है, तो वे जेल से बाहर आ जाएंगे।

बता दें कि लालू प्रसाद यादव को सीबीआई की विशेष कोर्ट से दुमका कोषागार से अवैध निकासी मामले में सात-सात साल की सजा मिली है। हालांकि अदालत जमानत के लिए सात साल के आधी अवधि जेल में बीताने को ही आधार मान रही है।

Most Popular

आक्सीजन व दवाओं के हाहाकार पर सुप्रीम कोर्ट की चिंता, कहा- इमरजेंसी जैसे हालात

New Delhi: कोरोना संक्रमण के बीच लोगों को ऑक्सीजन और दवाइयों नहीं मिलने पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्ती दिखाई है। सुप्रीम...

दिल्ली हाई कोर्ट ने गोपनीयता नीति की जांच के खिलाफ दाखिल व्हाट्सऐप व फेसबुक की याचिका खारिज की

New Delhi: दिल्ली हाई कोर्ट ने व्हाट्स ऐप की नई गोपनीयता नीति की जांच करने के भारत के प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) के...

स्वास्थ्य सचिव कोरोना संक्रमित, जवाब दाखिल करने के लिए हाईकोर्ट से मांगा समय

Ranchi: झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत में गुरुवार को कोरोना संक्रमण से निपटने...

Corona Good News: झालसा ने हर जिले में बनाया वार रूम, फ्री में मिलेंगी दवाएं और चिकित्सकीय सलाह

Ranchi: कार्यकारी अध्यक्ष जस्टिस अपरेश कुमार सिंह के निर्देश पर झालसा ने कोरोना संक्रमण के दूसरे चरण में इलाज को लेकर परेशान...