processApi - method not exist
Home Civil Court News जमीन विवाद में अधिवक्ता की हत्या के विरोध में न्यायिक कार्य से...

जमीन विवाद में अधिवक्ता की हत्या के विरोध में न्यायिक कार्य से दूर रहेंगे रांची सिविल कोर्ट के वकील

Advocate Murder in Ranchi जमीन विवाद में रांची सिविल कोर्ट के अधिवक्ता मनोज कुमार झा की अपराधियों ने गोली मार कर हत्या कर दी।

Ranchi: जमीन विवाद में रांची सिविल कोर्ट के अधिवक्ता मनोज कुमार झा की अपराधियों ने गोली मार कर हत्या कर दी। तमाड़ थाना क्षेत्र के रड़गांव में दिनदहाड़े के करीब चार बजे ही अपराधियों ने इस घटना को अंजाम दिया। मनोज झा जेवियर संस्था के लीगल एडवाइजर थे। वह संस्था की 14 एकड़ जमीन पर बन रहे स्कूल का निर्माण कार्य देखने शाम करीब चार बजे अपनी कार से रड़गांव गए थे।

मनोज झा जैसे ही निर्माण स्थल पर पहुंचे कि तभी दो बाइक से पांच अपराधी वहां पहुंचे। उन्होंने सबसे पहले चालक की कनपटी पर पिस्टल सटा कार की चाबी छीन ली। इसके बाद कार में बैठे अधिवक्ता मनोज कुमार झा को चार गोली मार दी, जिससे घटनास्थल पर ही उनकी मौत हो गयी। घटना की सूचना मिलने पर ग्रामीण एसपी नौशाद आलम, बुंडू एसडीपीओ अजय कुमार और तमाड़ थाना प्रभारी घटनास्थल पर पहुंचे।

पुलिस ने घटनास्थल से पांच खोखा और तीन गोलियां बरामद की है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। पुलिस के अनुसार, पूर्व में भी अधिवक्ता से रंगदारी मांगी गयी थी। पैसा नहीं देने पर जान मारने की धमकी दी गयी थी। अधिवक्ता हत्याकांड में पुलिस दो लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। उन्होंने वर्ष 1992 से सिविल कोर्ट में प्रैक्टिस प्रारंभ की थी।

इसे भी पढ़ेंः Raj Kundra Bail: राज कुंद्रा को बेल मिलेगी या जेल में रहना होगा, बम्‍बई हाई कोर्ट में उनकी जमानत पर सुनवाई आज

आज न्यायिक कार्य से दूर रहेंगे रांची सिविल कोर्ट के अधिवक्ता

अधिवक्ता मनोज झा की हत्या को लेकर रांची जिला बार एसोसिएशन ने गहरा शोक जताया है। रांची जिला बार एसोसिएशन की एडहॉक कमेटी के अध्यक्ष शंभु अग्रवाल ने कहा कि मंगलवार को सिविल कोर्ट के सभी अधिवक्ता न्यायिक कार्य से खुद को अलग रखेंगे। उन्होंने कहा कि दिन के 11 बजे सभी अधिवक्ता सिविल कोर्ट परिसर में जुटेंगे। इसके बाद एसएसपी से मिल कर आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग करेंगे।

अब तक इन अधिवक्ताओं की हुई हत्या

जुलाई 2020- जमशेदपुर सिविल कोर्ट के अधिवक्ता प्रकाश यादव की हत्या।
नौ दिसंबर 2019- रांची सिविल कोर्ट के कांके, जयपुर निवासी अधिवक्ता राम प्रवेश सिंह की हत्या।
अगस्त वर्ष 2018- बरियातू निवासी अधिवक्ता सह प्राचार्या आरती देवी व उनके पुत्र रितेश की हत्या।
अप्रैल 2015- सिल्ली निवासी अधिवक्ता वीरेंद्र सिंह की हत्या

जमीन विवाद में जेवियर स्कूल प्रबंधन को मिली थी जीत

इस मामले में बुंडू एसडीपीओ अजय कुमार ने बताया कि जिस जमीन पर स्कूल का निर्माण कार्य हो रहा था, उसे जेवियर स्कूल प्रबंधन ने वर्ष 2007 में शेख रजा के वंशजों से खरीदा था। इस मामले में एक पक्ष कोर्ट गया था। कुछ दिन पहले ही कोर्ट का फैसला जेवियर स्कूल प्रबंधन के पक्ष में आया था। इसके बाद उस पर निर्माण कार्य चल रहा था।

RELATED ARTICLES

ईडी को ललकारने वाले सीएम हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा से छह दिन होगी पूछताछ

अवैध खनन और टेंडर मैनेज करने से जुड़े मनी लाउंड्रिंग मामले में गिरफ्तार मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के बरहेट विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा...

जांच अधिकारी ने नहीं दी गवाही, पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और पूर्व विधायक निर्मला देवी साक्ष्य के अभाव में बरी

पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और उनकी पत्नी पूर्व विधायक निर्मला देवी समेत चार आरोपी को अदालत ने पर्याप्त साक्ष्य के अभाव में...

Convicted: दोस्त पर भरोसा कर पत्नी को घर पहुंचाने को कहा, लेकिन दोस्त ने पिस्टल की नोक पर किया दुष्कर्म; अदालत ने माना दोषी

Ranchi: Convicted: अपर न्यायायुक्त दिनेश राय की अदालत में अपने ही दोस्त की पत्नी का अपहरण कर पिस्टल का भय दिखाकर दुष्कर्म...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

जेएसएससी नियुक्ति में राज्य के संस्थान से 10वीं व 12वीं की परीक्षा पास होने की अनिवार्य शर्त पर झारखंड सरकार कायम

झारखंड हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस डा रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की खंडपीठ में जेपीएससी परीक्षा नियुक्ति में दसवीं और...

ईडी को ललकारने वाले सीएम हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा से छह दिन होगी पूछताछ

अवैध खनन और टेंडर मैनेज करने से जुड़े मनी लाउंड्रिंग मामले में गिरफ्तार मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के बरहेट विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा...

6th JPSC Exam: सुप्रीम कोर्ट में बोली झारखंड सरकार, नौकरी से निकाले गए 60 को नहीं कर सकते समायोजित

6th JPSC Exam: छठी जेपीएससी नियुक्ति को लेकर झारखंड हाई कोर्ट के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दाखिल एसएलपी पर सुनवाई...

जांच अधिकारी ने नहीं दी गवाही, पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और पूर्व विधायक निर्मला देवी साक्ष्य के अभाव में बरी

पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और उनकी पत्नी पूर्व विधायक निर्मला देवी समेत चार आरोपी को अदालत ने पर्याप्त साक्ष्य के अभाव में...