हाई कोर्ट के आदेश का अनुपालन नहीं करने पर स्कूली शिक्षा सचिव के खिलाफ चलेगा अवमानना

हाई कोर्ट ने शिक्षक को बर्खास्त करने के मामले में अवमानना मामले में सुनवाई करते हुए स्कूली शिक्षा सचिव के खिलाफ अवमानना वाद चलाने का आदेश दिया है। इस दौरान अदालत ने आदेश का अनुपालन नहीं किए जाने पर कड़ी नाराजगी जताई।

रांचीः झारखंड हाई कोर्ट ने शिक्षक को बर्खास्त करने के मामले में अवमानना मामले में सुनवाई करते हुए स्कूली शिक्षा सचिव के खिलाफ अवमानना वाद चलाने का आदेश दिया है। इस दौरान अदालत ने आदेश का अनुपालन नहीं किए जाने पर कड़ी नाराजगी जताई।

हाई कोर्ट के जस्टिस एस चंद्रशेखर की अदालत शुक्रवार को अवमानना वाद याचिका पर सुनवाई कर रही थी। इस दौरान प्रार्थी की ओर से कहा गया कि सरकार इस मामले को बेवजह लटका रही है। एलपीए याचिका को आगे नहीं बढ़ा रही है।

इसके बाद अदालत ने स्कूली शिक्षा सचिव के खिलाफ अवमानना वाद चलाने का निर्देश दिया है। अदालत ने कहा कि सचिव 26 मार्च को महाधिवक्ता कार्यालय से ऑनलाइन हाजिर होकर अवमाननवाद की सुनवाई में शामिल होंगे।

इसे भी पढ़ेंः ईसीएल ने अपने कर्मी को दो साल पहले कर दिया रिटायर, जवाब नहीं देने पर हाई कोर्ट ने लगाया 25 हजार का जुर्माना

प्रार्थी के अधिवक्ता विनोद सिंह ने बताया कि धनबाद के प्राथमिक शिक्षक रवि उरांव को दस अप्रैल 2010 को विभाग ने यह कहते हुए बर्खास्त कर दिया कि उनकी स्नातक की डिग्री फर्जी है। इस आदेश को रवि उरांव ने हाईकोर्ट में चुनौती दी।

सुनवाई के बाद अदालत ने वर्ष 2018 में प्रार्थी को नौकरी में बहाल करने का आदेश दिया। लेकिन सरकार एकलपीठ के आदेश के खिलाफ खंडपीठ में याचिक दाखिल की। लेकिन इस मामले को नहीं बढ़ाए जाने पर प्रार्थी ने हाईकोर्ट में अवमानना याचिका दाखिल की।

पिछली सुनवाई के दौरान अदालत ने इस मामले में स्कूली शिक्षा सचिव को शपथ पत्र दाखिल करने का निर्देश दिया था। अदालत ने पूछा था कि कोर्ट के आदेश का अब तक अनुपालन क्यों नहीं किया गया है। सचिव की ओर से शपथ पत्र दाखिल किया गया।

अदालत ने शपथ पत्र का अवलोकन करने के बाद उसे खारिज कर दिया। इसके बाद अदालत ने नाराजगी जताते हुए स्कूली शिक्षा सचिव के खिलाफ अवमानना चलाने का आदेश दिया है। अदालत इस मामले को 26 मार्च को पहले केस के रूप में सुनवाई करेगी।

Most Popular

भीख मांगना सामाजिक-आर्थिक मामला, गरीबी के कारण ही मजबूर होते हैं लोगः सुप्रीम कोर्ट

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि भीख मांगना एक सामाजिक और आर्थिक मसला है और गरीबी, लोगों को भीख मांगने के...

जासूसी मामलाः जांच समिति की रिपोर्ट अभियोजन का आधार नहीं हो सकती, सीबीआई कानून के मुताबिक जांच करेः सुप्रीम कोर्ट

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इसरो वैज्ञानिक नम्बी नारायणन से संबधित 1994 के जासूसी मामले में दोषी पुलिस अधिकारियों की...

विधायक खरीद-फरोख्त मामलाः HC में PIL दाखिल, कांग्रेसी विधायक अनूप सिंह के कॉल डिटेल की जांच की मांग

Ranchi: हेमंत सरकार (Hemant Government) को गिराने की साजिश का मामला अब झारखंड हाईकोर्ट पहुंच गया है। पंकज कुमार यादव की...

तमिलनाडु की पूर्व CM जयललिता की मौत की जांच की मांग को लेकर DMK ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की याचिका

New Delhi: तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता (Ex Tamil Nadu CM Jayalalithaa) की मौत की जांच की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट...